सेब

Malus pumila


पानी देना
मध्यम

जुताई
प्रतिरोपित

कटाई
1 - 365 दिन

श्रम
मध्यम

सूरज की रोशनी
पूर्ण सूर्य

pH मान
5.5 - 6.5

तापमान
15°C - 23°C

उर्वरण
मध्यम


सेब

परिचय

सेब एक शीतोष्ण फल है जिसका आमतौर पर ताज़ा उपयोग किया जाता है और एक बहुत ही छोटे हिस्से का डिब्बाबंद तथा अन्य प्रसंस्कृत उत्पादों को बनाने में प्रयोग किया जाता है। फल उत्पादन के मामले में, सेब विश्व भर में चौथे स्थान पर है।

देखभाल

देखभाल

सेब की खेती विभिन्न प्रकार से की जा सकती है: कलम लगा कर, कलियों से या जड़ों को चुन कर। रोपाई के समय पेड़ों के मध्य इस प्रकार स्थान छोड़ना चाहिए कि पर्याप्त मात्रा में परागणों के लिए जगह बची रहे: आदर्श रूप से 2-3 बड़े पेड़ों के बाद एक परागण वाला वृक्ष होना चाहिए। सेब कम आर्द्रता के प्रति संवेदनशील होते हैं, इसलिए विकास के लिए नियमित वर्षा सर्वश्रेष्ठ होती है। पौधे की जीवनशक्ति तथा उत्पादकता के लिए नियमित छंटाई महत्वपूर्ण होती है। फलों के अच्छे आकार तथा गुणवत्ता के लिए फलों को कम करना (लगभग प्रति 40 पत्तियों पर एक फल) भी महत्वपूर्ण है।

मिट्टी

सेब के प्रसार के लिए दोमट, अच्छी जलनिकासी वाली तथा 5.5 - 6.5 पीएच वाली मिट्टी सर्वश्रेष्ठ होती है। मिट्टी में जलजमाव तथा ठोस ढेले नहीं बनने चाहिए। जैविक तत्वों से मिली हुई पलवार मिट्टी की नमी बरकरार रखने में सहायक होती है।

जलवायु

सेब एक शीतोष्ण फसल है जो 21 से लेकर 24 डिग्री से. के तापमान के मध्य खूब फलती है। ये ऊंचे स्थानों (समुद्रतल से 1500 - 2700 मी. ऊपर) पर उगाये जा सकते हैं। सेब के विकास के लिए पूरे मौसम में समान रूप से वितरित वर्षा सर्वश्रेष्ठ होती है। सेब के पेड़ों के लिए तेज़ हवाएं हानिकारक होती हैं। शुष्क, धूप से भरा मौसम उच्च शर्करा की मात्रा तथा अधिक लम्बे समय तक ताज़े रहने वाले फलों के उत्पादन में सहायक होता है।

संभावित बीमारियां

उस अवधि के दौरान आपकी फसल को खतरा पैदा करने वाली बीमारियों को देखने के लिए किसी एक विकास चरण का चयन करें।

सेब

सेब

इसके विकास से जुड़ी सभी बाते प्लांटिक्स द्वारा जानें!

अभी डाउनलोड करें

सेब

Malus pumila

सेब

प्लांटिक्स एप के साथ स्वस्थ फसलें उगाएं और अधिक उपज प्राप्त करें!

अभी प्लांटिक्स का उपयोग करें!

परिचय

सेब एक शीतोष्ण फल है जिसका आमतौर पर ताज़ा उपयोग किया जाता है और एक बहुत ही छोटे हिस्से का डिब्बाबंद तथा अन्य प्रसंस्कृत उत्पादों को बनाने में प्रयोग किया जाता है। फल उत्पादन के मामले में, सेब विश्व भर में चौथे स्थान पर है।

मुख्य तथ्य

पानी देना
मध्यम

जुताई
प्रतिरोपित

कटाई
1 - 365 दिन

श्रम
मध्यम

सूरज की रोशनी
पूर्ण सूर्य

pH मान
5.5 - 6.5

तापमान
15°C - 23°C

उर्वरण
मध्यम

सेब

सेब

इसके विकास से जुड़ी सभी बाते प्लांटिक्स द्वारा जानें!

अभी डाउनलोड करें

सलाहकार

देखभाल

देखभाल

सेब की खेती विभिन्न प्रकार से की जा सकती है: कलम लगा कर, कलियों से या जड़ों को चुन कर। रोपाई के समय पेड़ों के मध्य इस प्रकार स्थान छोड़ना चाहिए कि पर्याप्त मात्रा में परागणों के लिए जगह बची रहे: आदर्श रूप से 2-3 बड़े पेड़ों के बाद एक परागण वाला वृक्ष होना चाहिए। सेब कम आर्द्रता के प्रति संवेदनशील होते हैं, इसलिए विकास के लिए नियमित वर्षा सर्वश्रेष्ठ होती है। पौधे की जीवनशक्ति तथा उत्पादकता के लिए नियमित छंटाई महत्वपूर्ण होती है। फलों के अच्छे आकार तथा गुणवत्ता के लिए फलों को कम करना (लगभग प्रति 40 पत्तियों पर एक फल) भी महत्वपूर्ण है।

मिट्टी

सेब के प्रसार के लिए दोमट, अच्छी जलनिकासी वाली तथा 5.5 - 6.5 पीएच वाली मिट्टी सर्वश्रेष्ठ होती है। मिट्टी में जलजमाव तथा ठोस ढेले नहीं बनने चाहिए। जैविक तत्वों से मिली हुई पलवार मिट्टी की नमी बरकरार रखने में सहायक होती है।

जलवायु

सेब एक शीतोष्ण फसल है जो 21 से लेकर 24 डिग्री से. के तापमान के मध्य खूब फलती है। ये ऊंचे स्थानों (समुद्रतल से 1500 - 2700 मी. ऊपर) पर उगाये जा सकते हैं। सेब के विकास के लिए पूरे मौसम में समान रूप से वितरित वर्षा सर्वश्रेष्ठ होती है। सेब के पेड़ों के लिए तेज़ हवाएं हानिकारक होती हैं। शुष्क, धूप से भरा मौसम उच्च शर्करा की मात्रा तथा अधिक लम्बे समय तक ताज़े रहने वाले फलों के उत्पादन में सहायक होता है।

संभावित बीमारियां

उस अवधि के दौरान आपकी फसल को खतरा पैदा करने वाली बीमारियों को देखने के लिए किसी एक विकास चरण का चयन करें।