केला

Musa


पानी देना
उच्च

जुताई
प्रतिरोपित

कटाई
365 - 456 दिन

श्रम
उच्च

सूरज की रोशनी
पूर्ण सूर्य

pH मान
6 - 7.5

तापमान
4°C - 21°C

उर्वरण
उच्च


केला

परिचय

केला एक खाद्य फल है जो मूसा प्रजाति में अनेक प्रकार के बड़े फूलदार पौधों में उगता है। कुछ प्रकार के केलों का पकाने में उपयोग किया जाता है जबकि अन्य को मीठे के तौर पर खाया जाता है। मूसा प्रजाति दक्षिण पूर्वी एशिया और ऑस्ट्रेलिया में पाई जाती हैं। केला मुख्यतः एक उष्णकटिबंधीय फसल है, जिसे आर्द्र निचले इलाके पसंद हैं लेकिन इसे समुद्र तल से लेकर 2000 मी. तक की ऊँचाई तक उगाया जा सकता है।

देखभाल

देखभाल

आदर्श विकास के लिए केलों को बहुत ऊष्णता की आवश्यकता होती है। यदि आवश्यक हो तो किसी इमारत या एस्फ़ॉल्ट/सीमेंट के समीप लगा कर अतिरिक्त ऊष्मा प्रदान की जा सकती है। चूँकि ये प्रजाति अधिक पानी का उपयोग करती है इसलिए गर्म मौसम में नियमित गहरी सिंचाई आवश्यक होती है। पौधे सूखने नहीं चाहिए। दूसरी ओर, ठहरे हुए पानी, विशेषतः ठंडे मौसम में, के कारण जड़ों में सड़न हो जाती है। पलवार की एक मोटी परत नमी को संरक्षित रखती है। केले के पौधों को अधिक पोषण की आवश्यकता होती है, और इसलिए इन्हें माह में एक बार, तने के लगभग 4-8 फ़ीट की दूरी पर, 0,5-2 पौंड (विकास के चरण पर निर्भर करते हुए) संतुलित उर्वरक से शोधित करना चाहिए। केलों को तेज़ हवाओं से नुकसान हो सकता है और इसलिए अच्छे रूप और अधिकतम उपज के लिए इनकी सुरक्षा आवश्यक होती है। पके हुए केले के पौधों के आसपास नई शाखाएं निकलने लगती हैं। मुख्य पौधे को विकास के दौरान भरपूर ऊर्जा देने के लिए इनकी छँटाई करनी चाहिए। यदि पौधों में फल लगने का समय पास हो, तो इन नई शाखाओं को नए पौधों के लिए कलम की तरह (जब वे कम से कम 3 फ़ीट लंबे हों) इस्तेमाल करने के लिए लिया जा सकता है। रोपाई के लिए बीजों का भी प्रयोग किया जा सकता है।

मिट्टी

केले अधिकांश मिट्टियों में उगते हैं, लेकिन अच्छी तरह पनपने के लिए उन्हें उपजाऊ, गहरी और अच्छी जलनिकासी वाली मिट्टी में रोपा जाना चाहिए, जैसे जंगली दोमट, पथरीली बलुही, मार्ल, लाल लेटेराइट, ज्वालामुखी राख, बलुही कछार, यहाँ तक कि भारी कछार मिट्टी। केलों को 5.5 से 6.5 के पीएच स्तर वाली अम्लीय मिट्टी पसंद होती है। केले नमकीन मिट्टी के प्रति सहनशील नहीं होते हैं। केलों के पौधों के सफल विकास के लिए मिट्टी के प्रकार निर्धारित करने का प्रमुख कारक अच्छी जलनिकासी है। केलों को उपजने के लिए नदी घाटियों की धुली हुई मिट्टी आदर्श होती है।

जलवायु

केले के पौधों को फूलों के एक गुच्छे का उत्पादन करने के लिए 10-15 महीने की पालारहित परिस्थिति में 15-35 डिग्री से. तापमान की आवश्यकता होती है। जब तापमान 53 डिग्री फ़ारेनहाइट (11.5 डिग्री से.) के नीचे चला जाता है, तो अधिकांश प्रजातियों में बढ़त बंद हो जाती है। उच्च तापमान में, 80 डिग्री फ़ारेनहाइट (26.5 डिग्री से.) के आसपास बढ़वार कम हो जाती है और जब तापमान 100 डिग्री फ़ारेनहाइट (38 डिग्री से.) तक पहुंचता है, तो बढ़त पूरी तरह रुक जाती है। उच्च तापमान और तेज़ धूप पत्तियों तथा फल को झुलसा सकती हैं, हालांकि केला प्रचुर धूप में अच्छा उगता है। शीत तापमान में पत्तियाँ मर जाती हैं। केले तेज़ हवाओं से उड़ सकते हैं।

संभावित बीमारियां

उस अवधि के दौरान आपकी फसल को खतरा पैदा करने वाली बीमारियों को देखने के लिए किसी एक विकास चरण का चयन करें।

केला

केला

इसके विकास से जुड़ी सभी बाते प्लांटिक्स द्वारा जानें!

अभी डाउनलोड करें

केला

Musa

केला

प्लांटिक्स एप के साथ स्वस्थ फसलें उगाएं और अधिक उपज प्राप्त करें!

अभी प्लांटिक्स का उपयोग करें!

परिचय

केला एक खाद्य फल है जो मूसा प्रजाति में अनेक प्रकार के बड़े फूलदार पौधों में उगता है। कुछ प्रकार के केलों का पकाने में उपयोग किया जाता है जबकि अन्य को मीठे के तौर पर खाया जाता है। मूसा प्रजाति दक्षिण पूर्वी एशिया और ऑस्ट्रेलिया में पाई जाती हैं। केला मुख्यतः एक उष्णकटिबंधीय फसल है, जिसे आर्द्र निचले इलाके पसंद हैं लेकिन इसे समुद्र तल से लेकर 2000 मी. तक की ऊँचाई तक उगाया जा सकता है।

मुख्य तथ्य

पानी देना
उच्च

जुताई
प्रतिरोपित

कटाई
365 - 456 दिन

श्रम
उच्च

सूरज की रोशनी
पूर्ण सूर्य

pH मान
6 - 7.5

तापमान
4°C - 21°C

उर्वरण
उच्च

केला

केला

इसके विकास से जुड़ी सभी बाते प्लांटिक्स द्वारा जानें!

अभी डाउनलोड करें

सलाहकार

देखभाल

देखभाल

आदर्श विकास के लिए केलों को बहुत ऊष्णता की आवश्यकता होती है। यदि आवश्यक हो तो किसी इमारत या एस्फ़ॉल्ट/सीमेंट के समीप लगा कर अतिरिक्त ऊष्मा प्रदान की जा सकती है। चूँकि ये प्रजाति अधिक पानी का उपयोग करती है इसलिए गर्म मौसम में नियमित गहरी सिंचाई आवश्यक होती है। पौधे सूखने नहीं चाहिए। दूसरी ओर, ठहरे हुए पानी, विशेषतः ठंडे मौसम में, के कारण जड़ों में सड़न हो जाती है। पलवार की एक मोटी परत नमी को संरक्षित रखती है। केले के पौधों को अधिक पोषण की आवश्यकता होती है, और इसलिए इन्हें माह में एक बार, तने के लगभग 4-8 फ़ीट की दूरी पर, 0,5-2 पौंड (विकास के चरण पर निर्भर करते हुए) संतुलित उर्वरक से शोधित करना चाहिए। केलों को तेज़ हवाओं से नुकसान हो सकता है और इसलिए अच्छे रूप और अधिकतम उपज के लिए इनकी सुरक्षा आवश्यक होती है। पके हुए केले के पौधों के आसपास नई शाखाएं निकलने लगती हैं। मुख्य पौधे को विकास के दौरान भरपूर ऊर्जा देने के लिए इनकी छँटाई करनी चाहिए। यदि पौधों में फल लगने का समय पास हो, तो इन नई शाखाओं को नए पौधों के लिए कलम की तरह (जब वे कम से कम 3 फ़ीट लंबे हों) इस्तेमाल करने के लिए लिया जा सकता है। रोपाई के लिए बीजों का भी प्रयोग किया जा सकता है।

मिट्टी

केले अधिकांश मिट्टियों में उगते हैं, लेकिन अच्छी तरह पनपने के लिए उन्हें उपजाऊ, गहरी और अच्छी जलनिकासी वाली मिट्टी में रोपा जाना चाहिए, जैसे जंगली दोमट, पथरीली बलुही, मार्ल, लाल लेटेराइट, ज्वालामुखी राख, बलुही कछार, यहाँ तक कि भारी कछार मिट्टी। केलों को 5.5 से 6.5 के पीएच स्तर वाली अम्लीय मिट्टी पसंद होती है। केले नमकीन मिट्टी के प्रति सहनशील नहीं होते हैं। केलों के पौधों के सफल विकास के लिए मिट्टी के प्रकार निर्धारित करने का प्रमुख कारक अच्छी जलनिकासी है। केलों को उपजने के लिए नदी घाटियों की धुली हुई मिट्टी आदर्श होती है।

जलवायु

केले के पौधों को फूलों के एक गुच्छे का उत्पादन करने के लिए 10-15 महीने की पालारहित परिस्थिति में 15-35 डिग्री से. तापमान की आवश्यकता होती है। जब तापमान 53 डिग्री फ़ारेनहाइट (11.5 डिग्री से.) के नीचे चला जाता है, तो अधिकांश प्रजातियों में बढ़त बंद हो जाती है। उच्च तापमान में, 80 डिग्री फ़ारेनहाइट (26.5 डिग्री से.) के आसपास बढ़वार कम हो जाती है और जब तापमान 100 डिग्री फ़ारेनहाइट (38 डिग्री से.) तक पहुंचता है, तो बढ़त पूरी तरह रुक जाती है। उच्च तापमान और तेज़ धूप पत्तियों तथा फल को झुलसा सकती हैं, हालांकि केला प्रचुर धूप में अच्छा उगता है। शीत तापमान में पत्तियाँ मर जाती हैं। केले तेज़ हवाओं से उड़ सकते हैं।

संभावित बीमारियां

उस अवधि के दौरान आपकी फसल को खतरा पैदा करने वाली बीमारियों को देखने के लिए किसी एक विकास चरण का चयन करें।