सिट्रस (नींबू वंश)

Rutaceae


पानी देना
मध्यम

जुताई
प्रतिरोपित

कटाई
1 - 365 दिन

श्रम
मध्यम

सूरज की रोशनी
पूर्ण सूर्य

pH मान
5.5 - 7.5

तापमान
0°C - 0°C

उर्वरण
मध्यम


सिट्रस (नींबू वंश)

परिचय

सिट्रस रुटासी परिवार के फूलों वाले पेड़ों और झाड़ियों की एक प्रजाति है, जो दक्षिणी पूर्वी एशिया के उपशीतोष्ण तथा शीतोष्ण क्षेत्रों में पाई जाती है। आजकल भूमध्य द्रोणी, भारतीय उपमहाद्वीप के साथ-साथ यूएसए के दक्षिण में कुछ प्रजातियाँ आर्थिक रूप से महत्वपूर्ण हैं, जहाँ उन्हें उपयुक्त मिट्टी तथा मौसम प्राप्त होता है। संतरा, नीम्बू, अंगूरफल और नींबू सिट्रस वृक्षों के फल हैं।

देखभाल

देखभाल

सिट्रस गर्म मौसम पसंद करते हैं और उन्हें ठन्डे तापमान या पाले से सुरक्षित रखने के लिए विशेष सावधानी बरतनी पड़ती है। फलों को क्षति से बचाने और इसके कारण होने वाली हानि से बचाने के लिए कभी-कभी वायु अवरोध आवश्यक होते हैं। जिन स्थानों पर प्रति वर्ष 700 मिमी. से कम वर्षा होती है वहाँ नियमित खेती के लिए सिंचाई आवश्यक होती है। बार-बार और ऊपरी छिड़काव की तुलना में पेड़ कभी-कभार की जाने वाली गहरी सिंचाई पसंद करते हैं। सिट्रस के पेड़ नमक के प्रति अत्यधिक संवेदनशील होते हैं, इसलिए अच्छी खेती के लिए पानी की गुणवत्ता बहुत महत्वपूर्ण हो जाती है।

मिट्टी

सिट्रस के पेड़ों को आदर्श रूप से बढ़ने के लिए 60 सेंमी. से लेकर 1 मी. तक की अच्छी जलनिकासी वाली ऊपरी मिट्टी की आवश्यकता होती है। दोमट और बलुही दोमट अधिक पसंद की जाती हैं, खाद की आपूर्ति आवश्यक है। कम जलधारण क्षमता वाली बहुत बलुही मिट्टी में पोषक तत्वों के क्षरण का ख़तरा रहता है। चिकनी मिट्टी में गर्दन (शाखाएं जहाँ से निकलती हैं) और जड़ों की सड़न और वृक्ष की मृत्यु की आशंका रहती है। आदर्श पीएच 6.0 और 6.5 के मध्य होता है तथा 8 से ऊपर के पीएच से बचा जाना चाहिए। यदि मिट्टी के क्षरण तथा अत्यधिक जलनिकास से बचना हो, तो 15% तक की ढलान उपयुक्त होती है। वायु अवरोधों के प्रयोग की सलाह दी जाती है।

जलवायु

प्रजातियाँ ऊष्ण, शीतोष्ण क्षेत्रों में अच्छी तरह खिलती हैं, लेकिन पाले के प्रति कुछ हद तक प्रतिरोध देखा जाता है (विभिन्न प्रजातियों में भिन्नता होती है)। अगर मिट्टी में नमी का स्तर सही हो, तो सिट्रस उच्च तापमान सहन कर लेता है। पेड़ों में शीत तापमान के प्रति कुछ प्रतिरोध होता है, किन्तु सामान्यतया अधिक और नियमित पाले वाले स्थानों में इन्हें लगाने की सलाह नहीं दी जाती है। पाले के प्रति प्रतिरोध प्रजाति, पेड़ों की आयु तथा स्वास्थ्य के अनुसार भिन्न होता है। नए पेड़ बहुत हल्के से पाले से भी क्षतिग्रस्त हो सकते हैं, जबकि परिपक्व और मौसम को झेल चुका वृक्ष कुछ समय के लिए -5 डिग्री से. के तापमान को भी बर्दाश्त कर सकता है। चोटिल वृक्ष अधिक संवेदनशील होते हैं।

संभावित बीमारियां

उस अवधि के दौरान आपकी फसल को खतरा पैदा करने वाली बीमारियों को देखने के लिए किसी एक विकास चरण का चयन करें।

सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश)

इसके विकास से जुड़ी सभी बाते प्लांटिक्स द्वारा जानें!

अभी डाउनलोड करें

सिट्रस (नींबू वंश)

Rutaceae

सिट्रस (नींबू वंश)

प्लांटिक्स एप के साथ स्वस्थ फसलें उगाएं और अधिक उपज प्राप्त करें!

अभी प्लांटिक्स का उपयोग करें!

परिचय

सिट्रस रुटासी परिवार के फूलों वाले पेड़ों और झाड़ियों की एक प्रजाति है, जो दक्षिणी पूर्वी एशिया के उपशीतोष्ण तथा शीतोष्ण क्षेत्रों में पाई जाती है। आजकल भूमध्य द्रोणी, भारतीय उपमहाद्वीप के साथ-साथ यूएसए के दक्षिण में कुछ प्रजातियाँ आर्थिक रूप से महत्वपूर्ण हैं, जहाँ उन्हें उपयुक्त मिट्टी तथा मौसम प्राप्त होता है। संतरा, नीम्बू, अंगूरफल और नींबू सिट्रस वृक्षों के फल हैं।

मुख्य तथ्य

पानी देना
मध्यम

जुताई
प्रतिरोपित

कटाई
1 - 365 दिन

श्रम
मध्यम

सूरज की रोशनी
पूर्ण सूर्य

pH मान
5.5 - 7.5

तापमान
0°C - 0°C

उर्वरण
मध्यम

सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश)

इसके विकास से जुड़ी सभी बाते प्लांटिक्स द्वारा जानें!

अभी डाउनलोड करें

सलाहकार

देखभाल

देखभाल

सिट्रस गर्म मौसम पसंद करते हैं और उन्हें ठन्डे तापमान या पाले से सुरक्षित रखने के लिए विशेष सावधानी बरतनी पड़ती है। फलों को क्षति से बचाने और इसके कारण होने वाली हानि से बचाने के लिए कभी-कभी वायु अवरोध आवश्यक होते हैं। जिन स्थानों पर प्रति वर्ष 700 मिमी. से कम वर्षा होती है वहाँ नियमित खेती के लिए सिंचाई आवश्यक होती है। बार-बार और ऊपरी छिड़काव की तुलना में पेड़ कभी-कभार की जाने वाली गहरी सिंचाई पसंद करते हैं। सिट्रस के पेड़ नमक के प्रति अत्यधिक संवेदनशील होते हैं, इसलिए अच्छी खेती के लिए पानी की गुणवत्ता बहुत महत्वपूर्ण हो जाती है।

मिट्टी

सिट्रस के पेड़ों को आदर्श रूप से बढ़ने के लिए 60 सेंमी. से लेकर 1 मी. तक की अच्छी जलनिकासी वाली ऊपरी मिट्टी की आवश्यकता होती है। दोमट और बलुही दोमट अधिक पसंद की जाती हैं, खाद की आपूर्ति आवश्यक है। कम जलधारण क्षमता वाली बहुत बलुही मिट्टी में पोषक तत्वों के क्षरण का ख़तरा रहता है। चिकनी मिट्टी में गर्दन (शाखाएं जहाँ से निकलती हैं) और जड़ों की सड़न और वृक्ष की मृत्यु की आशंका रहती है। आदर्श पीएच 6.0 और 6.5 के मध्य होता है तथा 8 से ऊपर के पीएच से बचा जाना चाहिए। यदि मिट्टी के क्षरण तथा अत्यधिक जलनिकास से बचना हो, तो 15% तक की ढलान उपयुक्त होती है। वायु अवरोधों के प्रयोग की सलाह दी जाती है।

जलवायु

प्रजातियाँ ऊष्ण, शीतोष्ण क्षेत्रों में अच्छी तरह खिलती हैं, लेकिन पाले के प्रति कुछ हद तक प्रतिरोध देखा जाता है (विभिन्न प्रजातियों में भिन्नता होती है)। अगर मिट्टी में नमी का स्तर सही हो, तो सिट्रस उच्च तापमान सहन कर लेता है। पेड़ों में शीत तापमान के प्रति कुछ प्रतिरोध होता है, किन्तु सामान्यतया अधिक और नियमित पाले वाले स्थानों में इन्हें लगाने की सलाह नहीं दी जाती है। पाले के प्रति प्रतिरोध प्रजाति, पेड़ों की आयु तथा स्वास्थ्य के अनुसार भिन्न होता है। नए पेड़ बहुत हल्के से पाले से भी क्षतिग्रस्त हो सकते हैं, जबकि परिपक्व और मौसम को झेल चुका वृक्ष कुछ समय के लिए -5 डिग्री से. के तापमान को भी बर्दाश्त कर सकता है। चोटिल वृक्ष अधिक संवेदनशील होते हैं।

संभावित बीमारियां

उस अवधि के दौरान आपकी फसल को खतरा पैदा करने वाली बीमारियों को देखने के लिए किसी एक विकास चरण का चयन करें।