कपास

Gossypium


पानी देना
मध्यम

जुताई
प्रत्यक्ष बीजारोपण

कटाई
180 - 215 दिन

श्रम
निम्न

सूरज की रोशनी
पूर्ण सूर्य

pH मान
5.8 - 8

तापमान
15°C - 37°C

उर्वरण
मध्यम


कपास

परिचय

कपास मालवेसी परिवार का एक छोटा पौधा है, जो अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका और भारत के उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों की मूल प्रजाति है। इसकी खेती, अपने रेशे और तिलहन फसल, दोनों के लिए 90 से अधिक देशों में व्यापक रूप से की जाती है। जंगली कपास की सबसे ज़्यादा भिन्न प्रजातियां मेक्सिको, ऑस्ट्रेलिया और अफ्रीका में पाई जा सकती हैं।

सलाहकार

उपयोगी सुझावों को ब्राउज़ करने के लिए अपने विकास चरण का चयन करें!

अपने सीजन की तैयारी

सिंचाई के लिए अनुशंसित समय
बुनियादी उर्वरण का महत्व

देखभाल

देखभाल

रोपण से पहले, 35 सेंटीमीटर की गहराई तक हल चलाने की सिफ़ारिश दी जाती है। यह मिट्टी में बचे हुए पौधों को शामिल करने में मदद करता है, जो मिट्टी के गुणों में सुधार करता है। खर-पतवारों की जाँच नियमित रूप से की जानी चाहिए, और कटाई के बाद तुरंत ही जुताई करनी चाहिए ताकि अगले वसंत में बुवाई के लिए खेत पक्के तौर पर तैयार हो जाए। बीज बोने के लिए एक अच्छी गहराई 4-5 सेंटीमीटर है। प्रति हेक्टेयर संतुलित उर्वरक के 200 किलोग्राम के औसत प्रयोग के साथ, प्रति हेक्टेयर में लगभग 25 किलोग्राम कपास के बीज डालने की सिफ़ारिश दी जाती है। कतारों में, बीज के बीच 7.5 सेमी की औसत दूरी रखी जानी चाहिए। कपास के प्रति 1 हेक्टेयर पर 1-2 स्वस्थ मधुमक्खियों के छत्तों को रखना फ़ायदेमंद है। कम वर्षा वाले क्षेत्रों में, कपास के खेत को बुवाई से पहले और खिलने के बाद बीजकोष के खुलने तक सिंचित किया जाना चाहिए।

मिट्टी

कपास लगभग सभी तरह की मिट्टी में बढ़ सकता है, बशर्ते उसमें जल-निकासी अच्छी हो। हालांकि, उच्च उपज प्राप्त करने के लिए, बलुई दोमट मिट्टी के साथ-साथ पर्याप्त चिकनी मिट्टी, जैविक पदार्थ, और नाइट्रोजन और फ़ॉस्फ़ोरस की मध्यम मात्रा आदर्श होती है। एक हल्की ढलान इसकी उपज बढ़ाने में सहायक हो सकती है क्योंकि यह नियंत्रित दिशा में जल निकासी को बढ़ाता है। अच्छी कपास की वृद्धि के लिए, 5.8 और 8 के बीच मिट्टी के पीएच की आवश्यकता होती है और, 6 से 6.5 सर्वोत्कृष्ट सीमा है।

जलवायु

कपास के पौधे को अनुकूलतम विकास के लिए लम्बी तुषार मुक्त अवधि, बहुत गर्मी और काफ़ी अधिक धूप की आवश्यकता होती है। 60 सेंटीमीटर से 120 सेंटीमीटर तक मध्यम वर्षा के साथ-साथ गर्म और आर्द्र जलवायु वांछित होती है। अगर मिट्टी का तापमान 15 डिग्री सेल्सियस से नीचे है, तो कपास के केवल कुछ बीज अंकुरित होंगे। सक्रिय विकास के दौरान, उपयुक्त हवा का तापमान 21-37 डिग्री सेल्सियस होता है। औसत कपास का पौधा, बिना किसी नुकसान के, छोटी अवधि में 43 डिग्री सेल्सियस तक के तापमान में जीवित रह सकता है। परिपक्वता चरण (गर्मी में) के दौरान और फ़सल की कटाई के दिनों (शरद ऋतु) के दौरान बार-बार बारिश से, कपास की खेती में उपज कम हो जाती है।

संभावित बीमारियां

उस अवधि के दौरान आपकी फसल को खतरा पैदा करने वाली बीमारियों को देखने के लिए किसी एक विकास चरण का चयन करें।

कपास

कपास

इसके विकास से जुड़ी सभी बाते प्लांटिक्स द्वारा जानें!

अभी डाउनलोड करें

कपास

Gossypium

कपास

प्लांटिक्स एप के साथ स्वस्थ फसलें उगाएं और अधिक उपज प्राप्त करें!

अभी प्लांटिक्स का उपयोग करें!

परिचय

कपास मालवेसी परिवार का एक छोटा पौधा है, जो अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका और भारत के उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों की मूल प्रजाति है। इसकी खेती, अपने रेशे और तिलहन फसल, दोनों के लिए 90 से अधिक देशों में व्यापक रूप से की जाती है। जंगली कपास की सबसे ज़्यादा भिन्न प्रजातियां मेक्सिको, ऑस्ट्रेलिया और अफ्रीका में पाई जा सकती हैं।

मुख्य तथ्य

पानी देना
मध्यम

जुताई
प्रत्यक्ष बीजारोपण

कटाई
180 - 215 दिन

श्रम
निम्न

सूरज की रोशनी
पूर्ण सूर्य

pH मान
5.8 - 8

तापमान
15°C - 37°C

उर्वरण
मध्यम

कपास

कपास

इसके विकास से जुड़ी सभी बाते प्लांटिक्स द्वारा जानें!

अभी डाउनलोड करें

सलाहकार

उपयोगी सुझावों को ब्राउज़ करने के लिए अपने विकास चरण का चयन करें!

अपने सीजन की तैयारी

सिंचाई के लिए अनुशंसित समय
बुनियादी उर्वरण का महत्व

देखभाल

देखभाल

रोपण से पहले, 35 सेंटीमीटर की गहराई तक हल चलाने की सिफ़ारिश दी जाती है। यह मिट्टी में बचे हुए पौधों को शामिल करने में मदद करता है, जो मिट्टी के गुणों में सुधार करता है। खर-पतवारों की जाँच नियमित रूप से की जानी चाहिए, और कटाई के बाद तुरंत ही जुताई करनी चाहिए ताकि अगले वसंत में बुवाई के लिए खेत पक्के तौर पर तैयार हो जाए। बीज बोने के लिए एक अच्छी गहराई 4-5 सेंटीमीटर है। प्रति हेक्टेयर संतुलित उर्वरक के 200 किलोग्राम के औसत प्रयोग के साथ, प्रति हेक्टेयर में लगभग 25 किलोग्राम कपास के बीज डालने की सिफ़ारिश दी जाती है। कतारों में, बीज के बीच 7.5 सेमी की औसत दूरी रखी जानी चाहिए। कपास के प्रति 1 हेक्टेयर पर 1-2 स्वस्थ मधुमक्खियों के छत्तों को रखना फ़ायदेमंद है। कम वर्षा वाले क्षेत्रों में, कपास के खेत को बुवाई से पहले और खिलने के बाद बीजकोष के खुलने तक सिंचित किया जाना चाहिए।

मिट्टी

कपास लगभग सभी तरह की मिट्टी में बढ़ सकता है, बशर्ते उसमें जल-निकासी अच्छी हो। हालांकि, उच्च उपज प्राप्त करने के लिए, बलुई दोमट मिट्टी के साथ-साथ पर्याप्त चिकनी मिट्टी, जैविक पदार्थ, और नाइट्रोजन और फ़ॉस्फ़ोरस की मध्यम मात्रा आदर्श होती है। एक हल्की ढलान इसकी उपज बढ़ाने में सहायक हो सकती है क्योंकि यह नियंत्रित दिशा में जल निकासी को बढ़ाता है। अच्छी कपास की वृद्धि के लिए, 5.8 और 8 के बीच मिट्टी के पीएच की आवश्यकता होती है और, 6 से 6.5 सर्वोत्कृष्ट सीमा है।

जलवायु

कपास के पौधे को अनुकूलतम विकास के लिए लम्बी तुषार मुक्त अवधि, बहुत गर्मी और काफ़ी अधिक धूप की आवश्यकता होती है। 60 सेंटीमीटर से 120 सेंटीमीटर तक मध्यम वर्षा के साथ-साथ गर्म और आर्द्र जलवायु वांछित होती है। अगर मिट्टी का तापमान 15 डिग्री सेल्सियस से नीचे है, तो कपास के केवल कुछ बीज अंकुरित होंगे। सक्रिय विकास के दौरान, उपयुक्त हवा का तापमान 21-37 डिग्री सेल्सियस होता है। औसत कपास का पौधा, बिना किसी नुकसान के, छोटी अवधि में 43 डिग्री सेल्सियस तक के तापमान में जीवित रह सकता है। परिपक्वता चरण (गर्मी में) के दौरान और फ़सल की कटाई के दिनों (शरद ऋतु) के दौरान बार-बार बारिश से, कपास की खेती में उपज कम हो जाती है।

संभावित बीमारियां

उस अवधि के दौरान आपकी फसल को खतरा पैदा करने वाली बीमारियों को देखने के लिए किसी एक विकास चरण का चयन करें।