बाजरा

Pennisetum glaucum


पानी देना
मध्यम

जुताई
प्रत्यक्ष बीजारोपण

कटाई
100 - 105 दिन

श्रम
मध्यम

सूरज की रोशनी
पूर्ण सूर्य

pH मान
5.5 - 7.5

तापमान
15°C - 40°C

उर्वरण
मध्यम


बाजरा

परिचय

पेनिसेटम ग्लौकम (पर्ल मिलेट) बाजरा की सबसे व्यापक रूप से उगाई जाने वाली किस्म है। यह अपने समृद्ध पोषक प्रोफ़ाइल और बाढ़ और सूखे जैसी खराब मौसम परिस्थितियों का सामना करने की अपनी क्षमता के लिए जाना जाता है। अनाज का उपयोग मानव उपयोग के लिए किया जाता है जबकि बाकी फसल का उपयोग चारे के रूप में किया जाता है।

देखभाल

देखभाल

बाजरा के बीजों को कम गहराई पर एक मज़बूत, नम क्यारी में लगाया जाना चाहिए। यह एक गहरी जड़ वाली फसल है और मिट्टी में बचे हुए पोषक तत्वों का उपयोग कर सकती है। यही कारण है कि इसे दूसरे अनाजों की तुलना में कम उर्वरक की ज़रूरत होती है। इसे आम तौर पर कीटनाशक की भी ज़रूरत नहीं होती है। अगर चुटकी से दबाने पर दाने बाहर निकल आएं, तो दाने को फूल आने के 40 दिन बाद भी काटा जा सकता है। इसे हाथ से या मशीन से काटा जा सकता है। यह ज़रूरी है कि अंकुरण से बचाने के लिए अनाज को भंडारण से पहले ठीक से सुखाया जाए।

मिट्टी

बाजरा कम उर्वरता, और उच्च लवणता या कम पीएच वाली मिट्टी के इलाकों में उगाया जा सकता है। यही कारण है कि यह अन्य फसलों का एक अच्छा विकल्प है। अगर सतह के नीचे वाली मिट्टी अम्लीय हो और एल्युमिनियम की मात्रा ज़्यादा हो, तो भी इसे उगाया जा सकता है। लेकिन, यह जल भराव या चिकनी मिट्टी को सहन नहीं कर पाता है।

जलवायु

बाजरा को सूखे और गरम तापमान वाले इलाकों में उगाया जा सकता है। अनाज के पकने के लिए इसे दिन के उच्च तापमान की ज़रूरत होती है। अपने सूखे के प्रतिरोध के बावजूद, इसे पूरे मौसम में समान रूप से वितरित वर्षा की ज़रूरत होती है।

संभावित बीमारियां

उस अवधि के दौरान आपकी फसल को खतरा पैदा करने वाली बीमारियों को देखने के लिए किसी एक विकास चरण का चयन करें।

बाजरा

बाजरा

इसके विकास से जुड़ी सभी बाते प्लांटिक्स द्वारा जानें!

अभी डाउनलोड करें

बाजरा

Pennisetum glaucum

बाजरा

प्लांटिक्स एप के साथ स्वस्थ फसलें उगाएं और अधिक उपज प्राप्त करें!

अभी प्लांटिक्स का उपयोग करें!

परिचय

पेनिसेटम ग्लौकम (पर्ल मिलेट) बाजरा की सबसे व्यापक रूप से उगाई जाने वाली किस्म है। यह अपने समृद्ध पोषक प्रोफ़ाइल और बाढ़ और सूखे जैसी खराब मौसम परिस्थितियों का सामना करने की अपनी क्षमता के लिए जाना जाता है। अनाज का उपयोग मानव उपयोग के लिए किया जाता है जबकि बाकी फसल का उपयोग चारे के रूप में किया जाता है।

मुख्य तथ्य

पानी देना
मध्यम

जुताई
प्रत्यक्ष बीजारोपण

कटाई
100 - 105 दिन

श्रम
मध्यम

सूरज की रोशनी
पूर्ण सूर्य

pH मान
5.5 - 7.5

तापमान
15°C - 40°C

उर्वरण
मध्यम

बाजरा

बाजरा

इसके विकास से जुड़ी सभी बाते प्लांटिक्स द्वारा जानें!

अभी डाउनलोड करें

सलाहकार

देखभाल

देखभाल

बाजरा के बीजों को कम गहराई पर एक मज़बूत, नम क्यारी में लगाया जाना चाहिए। यह एक गहरी जड़ वाली फसल है और मिट्टी में बचे हुए पोषक तत्वों का उपयोग कर सकती है। यही कारण है कि इसे दूसरे अनाजों की तुलना में कम उर्वरक की ज़रूरत होती है। इसे आम तौर पर कीटनाशक की भी ज़रूरत नहीं होती है। अगर चुटकी से दबाने पर दाने बाहर निकल आएं, तो दाने को फूल आने के 40 दिन बाद भी काटा जा सकता है। इसे हाथ से या मशीन से काटा जा सकता है। यह ज़रूरी है कि अंकुरण से बचाने के लिए अनाज को भंडारण से पहले ठीक से सुखाया जाए।

मिट्टी

बाजरा कम उर्वरता, और उच्च लवणता या कम पीएच वाली मिट्टी के इलाकों में उगाया जा सकता है। यही कारण है कि यह अन्य फसलों का एक अच्छा विकल्प है। अगर सतह के नीचे वाली मिट्टी अम्लीय हो और एल्युमिनियम की मात्रा ज़्यादा हो, तो भी इसे उगाया जा सकता है। लेकिन, यह जल भराव या चिकनी मिट्टी को सहन नहीं कर पाता है।

जलवायु

बाजरा को सूखे और गरम तापमान वाले इलाकों में उगाया जा सकता है। अनाज के पकने के लिए इसे दिन के उच्च तापमान की ज़रूरत होती है। अपने सूखे के प्रतिरोध के बावजूद, इसे पूरे मौसम में समान रूप से वितरित वर्षा की ज़रूरत होती है।

संभावित बीमारियां

उस अवधि के दौरान आपकी फसल को खतरा पैदा करने वाली बीमारियों को देखने के लिए किसी एक विकास चरण का चयन करें।