पपीता

Carica papaya


पानी देना
मध्यम

जुताई
प्रतिरोपित

कटाई
182 - 304 दिन

श्रम
निम्न

सूरज की रोशनी
पूर्ण सूर्य

pH मान
5.5 - 7.5

तापमान
0°C - 0°C

उर्वरण
उच्च


पपीता

परिचय

पपीता एक महत्वपूर्ण उष्णकटिबंधीय फल है जो विटामिन सी जैसे पोषक तत्वों से भरपूर है। यह इसके औषधीय गुणों के लिए भी मूल्यवान है। इसके उपोत्पादों का इस्तेमाल उत्पादन, औषधी और कपड़ा उद्योगों में भी किया जाता है।

देखभाल

देखभाल

पपीते को नर्सरी की क्यारियों, गमलों या पॉलीथिन थैलों में बीज से उगाया जाता है। पौधों को 6-8 सप्ताह के बाद खेत में प्रत्यारोपित किया जा सकता है। पपीते की खेती के लिए ड्रिप सिंचाई को प्राथमिकता दी जाती है ताकि जल-भराव वाली मिट्टी से बचा जा सके। पपीते के पौधों को वायु छिद्रों वाले पॉलीथीन बैग से ढककर करके पाले से बचाया जा सकता है। पपीते का विकास निम्नलिखित बीमारियों के प्रति सबसे अधिक संवेदनशील है: पाउडर फफूंदी, एन्थ्रेक्नोज़, अंकुर का सूखना और तने का सड़ना।

मिट्टी

पपीते की खेती के लिए 5.5 और 7.5 पीएच के बीच वाली दोमट, रेतीली मिट्टी सबसे अच्छी होती है। जलमार्ग के साथ जलोढ़ मिट्टी विकास के लिए एक वैकल्पिक वातावरण प्रदान करती है। अपनी कम गहरी जड़ों के बावजूद, पपीते के पेड़ों को अच्छी जल निकासी वाली गहरी मिट्टी की ज़रूरत होती है। पपीते को उन क्षेत्रों में लगाया जाना चाहिए जो हवा से सुरक्षित हैं, या खेत की परिधि पर वायु रोधक लगाये जाने चाहिए।

जलवायु

पपीते की खेती उष्णकटिबंधीय और उप-उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में समुद्र तल से 600 मीटर की ऊंचाई तक उपयुक्त है। गर्म मौसम फसल के विकास में सहायता करता है। विकास के लिए उच्च आर्द्रता वांछित है, जबकि शुष्क स्थिति पकने के लिए अनुकूल है। कम गहरी जड़ों के कारण तेज़ हवाएं फसल के लिए हानिकारक होती हैं।

संभावित बीमारियां

उस अवधि के दौरान आपकी फसल को खतरा पैदा करने वाली बीमारियों को देखने के लिए किसी एक विकास चरण का चयन करें।

पपीता

पपीता

इसके विकास से जुड़ी सभी बाते प्लांटिक्स द्वारा जानें!

अभी डाउनलोड करें

पपीता

Carica papaya

पपीता

प्लांटिक्स एप के साथ स्वस्थ फसलें उगाएं और अधिक उपज प्राप्त करें!

अभी प्लांटिक्स का उपयोग करें!

परिचय

पपीता एक महत्वपूर्ण उष्णकटिबंधीय फल है जो विटामिन सी जैसे पोषक तत्वों से भरपूर है। यह इसके औषधीय गुणों के लिए भी मूल्यवान है। इसके उपोत्पादों का इस्तेमाल उत्पादन, औषधी और कपड़ा उद्योगों में भी किया जाता है।

मुख्य तथ्य

पानी देना
मध्यम

जुताई
प्रतिरोपित

कटाई
182 - 304 दिन

श्रम
निम्न

सूरज की रोशनी
पूर्ण सूर्य

pH मान
5.5 - 7.5

तापमान
0°C - 0°C

उर्वरण
उच्च

पपीता

पपीता

इसके विकास से जुड़ी सभी बाते प्लांटिक्स द्वारा जानें!

अभी डाउनलोड करें

सलाहकार

देखभाल

देखभाल

पपीते को नर्सरी की क्यारियों, गमलों या पॉलीथिन थैलों में बीज से उगाया जाता है। पौधों को 6-8 सप्ताह के बाद खेत में प्रत्यारोपित किया जा सकता है। पपीते की खेती के लिए ड्रिप सिंचाई को प्राथमिकता दी जाती है ताकि जल-भराव वाली मिट्टी से बचा जा सके। पपीते के पौधों को वायु छिद्रों वाले पॉलीथीन बैग से ढककर करके पाले से बचाया जा सकता है। पपीते का विकास निम्नलिखित बीमारियों के प्रति सबसे अधिक संवेदनशील है: पाउडर फफूंदी, एन्थ्रेक्नोज़, अंकुर का सूखना और तने का सड़ना।

मिट्टी

पपीते की खेती के लिए 5.5 और 7.5 पीएच के बीच वाली दोमट, रेतीली मिट्टी सबसे अच्छी होती है। जलमार्ग के साथ जलोढ़ मिट्टी विकास के लिए एक वैकल्पिक वातावरण प्रदान करती है। अपनी कम गहरी जड़ों के बावजूद, पपीते के पेड़ों को अच्छी जल निकासी वाली गहरी मिट्टी की ज़रूरत होती है। पपीते को उन क्षेत्रों में लगाया जाना चाहिए जो हवा से सुरक्षित हैं, या खेत की परिधि पर वायु रोधक लगाये जाने चाहिए।

जलवायु

पपीते की खेती उष्णकटिबंधीय और उप-उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में समुद्र तल से 600 मीटर की ऊंचाई तक उपयुक्त है। गर्म मौसम फसल के विकास में सहायता करता है। विकास के लिए उच्च आर्द्रता वांछित है, जबकि शुष्क स्थिति पकने के लिए अनुकूल है। कम गहरी जड़ों के कारण तेज़ हवाएं फसल के लिए हानिकारक होती हैं।

संभावित बीमारियां

उस अवधि के दौरान आपकी फसल को खतरा पैदा करने वाली बीमारियों को देखने के लिए किसी एक विकास चरण का चयन करें।