- अन्य

अन्य अन्य

फल के पेड़ों का नासूर

फफूंद

Neonectria ditissima


संक्षेप में

  • संक्रमण अक्सर टहनियों में लाल धंसे हुए धब्बों के रूप में शुरू होता है.
  • ये धब्बे बाद में बढ़कर नासूर (कैंकर) में बदल जाते हैं जो टहनियों को चारों तरफ़ से घेरकर मार सकते हैं.
  • बड़ी शाखाओं पर मृत छाल बारह मास उपस्थित रहती है.
  • इसमें छल्ले दिखते हैं और इसके किनारे उभरे हुए होते हैं.
  • कभी-कभार, विकसित हो रहे फलों में बाह्य दल पुंज के आसपास "आई रॉट" (आंख के आकार की सड़ांध) नज़र आती है।.
 - अन्य

अन्य अन्य

लक्षण

तनों और शाखाओं पर मृत छाल (कैंकर) के गोल या अंडाकार धंसे हुए भाग देखे जा सकते हैं। संक्रमण आम तौर पर घावों के आसपास या टहनियों की कलियों और नई शाखाओं पर लाल धंसे हुए धब्बों के रूप में शुरू होता है। ये धब्बे बाद में बढ़कर कैंकर या नासूर में बदल जाते हैं जो एक ही मौसम में शाखाओं को घेरकर मार सकते हैं। बड़ी शाखाओं पर ये भूरे-लाल, अवतल, धंसे हुए धब्बों के रूप में नज़र आते हैं जो बाद में फटकर खुल जाते हैं जिससे केंद्र में मृत लकड़ी नज़र आती है। मृत छाल में गत वर्षों में एकत्रित संकेंद्री छल्ले दिखाई देते हैं जबकि किनारे उभरे हुए होते हैं। नासूर के ऊपर की शाखाएं कमज़ोर हो जाती हैं और धीरे-धीरे मर जाती हैं। कभी-कभी विकसित हो रहे फलों पर भी हमला होता है और ये बाह्य दल पुंज के आसपास "आई रॉट" (आंख के आकार की सड़ांध) दर्शाते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षणों का कारण फफूंद, नेक्ट्रिया गैलिगेना, है जो सेब समेत कई पेड़ों की छाल पर हमला करता है। फफूंद के बीजाणु गर्मियों में पानी और सर्दियों व बसंत में हवा से फैलते हैं। दोनों तरह के बीजाणु घाव वाले या क्षतिग्रस्त हिस्सों पर गिरने पर संक्रमण की शुरुआत कर सकते हैं। पेड़ों की काट-छांट के कारण होने वाले घाव, पाला, पपड़ी रोग और एफ़िड से बने घाव संक्रमण को बढ़ावा देते हैं। नम मिट्टी, भारी मिट्टी और अम्लीय मिट्टी में कैंकर ज़्यादा गंभीर होता है। महामारी फैलने के लिए 14-15.5° सेल्सियस तापमान सर्वोत्तम होता है। लंबे समय तक पेड़ में नमी रहना (6 घंटे या अधिक) भी बड़ा कारण है। पेड़ की मज़बूती और उसके संक्रमित हिस्से में दोबारा छाल बनाने की क्षमता के अनुसार कैंकर का आकार घटता-बढ़ता रहता है।

जैविक नियंत्रण

अब तक इस फफूंद का कोई जैविक नियंत्रक उपलब्ध नहीं है। कॉपर पर आधारित घाव सील करने वाले उत्पादों के इस्तेमाल से फलदार पेड़ों का नासूर सीमित किया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समन्वित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ उपलब्ध जैविक उपचारों का इस्तेमाल करें। संक्रमित शाखाओं को काटने-छांटने के बाद खुली सतह पर घाव सील करने वाले उत्पाद या पेंट लगा देना चाहिए। कॉपर हाइड्रॉक्साइड या कैप्टान पर आधारित कवकनाशकों के इस्तेमाल से फलदार पेड़ों का कैंकर होना सीमित किया जा सकता है। कॉपर उपचारों का इस्तेमाल पत्तियां गिरने और कली फूलने पर भी किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • अगर उपलब्ध हों, तो केवल प्रतिरोधी किस्मों का ही इस्तेमाल करें.
  • खेत में कार्य करने या फल तोड़ने के दौरान पेड़ों को क्षति न पहुंचाएं.
  • उर्वरक और कटाई का संतुलित इस्तेमाल सुनिश्चित करें.
  • केवल सूखे मौसम में ही काट-छांट करें और कटाई के औज़ारों को हमेशा अच्छी तरह साफ़ करें.
  • बाग़ की लगातार निगरानी करें और प्रभावित शाखाएं और टहनियां हटाते रहें.
  • घावों को सुरक्षात्मक घाव सील उत्पाद से पेंट करें.
  • खेत में जल-निकासी की अच्छी व्यवस्था सुनिश्चित करें.
  • अगर ज़रूरी हो, तो चूना मिलाकर मिट्टी की पीएच बढ़ाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!