- आलू

आलू आलू

आलू का देरी से होने वाला झुलसा रोग (लेट ब्लाइट)

फफूंद

Phytophthora infestans


संक्षेप में

  • पत्तियों की नोकों और किनारों पर गहरे भूरे रंग के धब्बे.
  • पत्तियों की सतह के निचले हिस्से में सफ़ेद कवक के आवरण दिखने लगते हैं.
  • पत्तियां मुरझा जाती हैं और मर जाती हैं.
  • आलू के कंदों पर स्लेटी-नीले धब्बे।.
 - आलू

आलू आलू

लक्षण

पत्तियों की नोक से शुरू होकर उनके किनारों तक गहरे भूरे रंग के धब्बे विकसित हो जाते हैं। नम मौसम में, ये धब्बे जल से लथपथ घाव बन जाते हैं। पत्तियों के निचले हिस्से पर एक सफ़ेद कवक का आवरण देखा जा सकता है। जैसे-जैसे बीमारी बढ़ती है, सभी पत्तियाँ परिगलित, भूरे रंग की हो जाती हैं और मर जाती हैं। इसी प्रकार के घाव तने और डंठल पर भी विकसित हो जाते हैं। आलू के कंदों की त्वचा पर स्लेटी-नीले धब्बे होते हैं और उनका मांस भी भूरा हो जाता है, जो उन्हें खाने के लिए अयोग्य बना देता है। प्रभावित खेतों की सड़ांध एक विशिष्ट गंध छोड़ती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

यह कवक एक अविकल्पी (ऑब्लिगेट) परजीवी है, यानी जीवित रहने के लिए इसे सर्दियों में पौधों के मलबों और कंदों और अन्य धारकों की आवश्यकता होती है। यह त्वचा के घावों और फटे हुए हिस्सों के माध्यम से पौधे में प्रवेश करता है। वसंत के दौरान, उच्च तापमान पर फफूंद के बीजाणु अंकुरित होते हैं और हवा या पानी के माध्यम से फैल जाते हैं। ठंडी रातों (18 डिग्री सेल्सियस से नीचे), गर्म दिन (18 और 22 डिग्री सेल्सियस के बीच), और बारिश और कोहरे (90% सापेक्ष आर्द्रता) जैसी गीली स्थितियों की अवधि में रोग अधिक गंभीर होता है। इन परिस्थितियों में, देरी से होने वाले झुलसा रोग (ब्लाइट) की महामारी फैल सकती है।

जैविक नियंत्रण

शुष्क मौसम से पहले कॉपर-आधारित कवकनाशक लगाएं। जैविक कोटिंग एजेंटों को पत्तियों पर छिड़कने से संक्रमण को रोका जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। देरी से होने वाले झुलसा रोग को नियंत्रित करने के लिए, विशेष रूप से आर्द्र क्षेत्रों में, कवकनाशकों को लगाना महत्वपूर्ण है। पत्तियों पर एक कोटिंग चढ़ा देने वाले कवकनाशक संक्रमण से पहले प्रभावी होते हैं और कवक में प्रतिरोध को बढ़ावा नहीं देते हैं। मेंडीप्रोपेमिड, क्लोरोथलोनिल, फ्लुज़िनम, या मेंकोज़ेब युक्त निवारक उपचारों का भी उपयोग किया जा सकता है। मेंकोज़ेब जैसे कवकनाशकों का बुवाई से पहले बीजों के उपचार के लिए भी उपयोग किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • स्वस्थ बीजों या अधिक सहिष्णु पौधों का उपयोग करें.
  • सुनिश्चित करें कि खेत में वायु संचालन अच्छा है और मिट्टी में पानी इकट्ठा नहीं होता.
  • खेतों की निगरानी करें और संक्रमित पौधों और उनके आसपास के पौधों को हटा दें.
  • गैर-धारक फसलों के साथ दो से तीन वर्ष तक चक्रीकरण करें (क्रॉप रोटेशन).
  • खेत में और आसपास स्वतः उगने वाले धारकों को नष्ट करें.
  • नाइट्रोजन के साथ अत्यधिक उर्वरीकरण से बचें.
  • पौधों की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए प्लांट फ़ोर्टिफ़ायर का उपयोग करें.
  • कंदों को कम तापमान और अच्छे वायु संचालन वाली जगह में स्टोर करें.
  • कटाई के बाद कंदों और पौधों के मलबे को नष्ट करें, उन्हें दो फीट गहरा दफ़न करके या जानवरों को खिलाकर।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!