- आलू

आलू आलू

आलू कंद की सतह पर काली रूसी (ब्लैक स्कर्फ़)

फफूंद

Rhizoctonia solani


संक्षेप में

  • सख्त, उभरे हुए काले धब्बे (पपड़ी)आलू की सतह पर दिखाई देते हैं.
  • ये काले निशान आसानी से रगड़े या खुरचे जा सकते हैं.
  • ऊपरी जड़ें और नई डंठलों पर सफ़ेद कवक वृद्धि के साथ भूरे, धँसे हुए धब्बे विकसित हो जाते हैं.
  • पत्तियां मुरझा जातीं हैं और बदरंग हो जातीं हैं।.
 - आलू

आलू आलू

लक्षण

आलू कंद की सतह पर आकार या आकृति में अनियमित उभरे हुए काले धब्बे दिखाई देते हैं (स्कर्फ़)। इन काले निशानों को आसानी से रगड़कर या खुरचकर हटाया जा सकता है। हाथ के एक लेंस की सहायता से, इन धब्बों के आसपास सफ़ेद कवक सामग्री को देखा जा सकता है। कवक के लक्षण नए पौधों और तने पर दिखने वाले तने के नासूर (स्टेम कैंकर) के जैसे दिखते हैं। भूरे, धँसे पैच जड़ पर विकसित होते हैं, जो अक्सर सफ़ेद कवक से घिरे होते हैं। यदि सड़ांध तने को चारों ओर से घेर लेती है और पानी और पोषक तत्वों के परिवहन को रोक देती है, तो पत्तियां फीकी हो जाती हैं और सूख जाती हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

ब्लैक स्कर्फ़ कवक रीज़ोक्टोनिया सोलानी के कारण होता है। यह कवक 5 से 25 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर, लंबे समय तक मिट्टी में जीवित रहता है, यहां तक कि आलू की अनुपस्थिति में भी। संक्रमण मिट्टी से या संक्रमित कंदों की बुवाई करने पर पैदा हो सकता है। कवक वास्तव में सड़ांध का कारण नहीं है, लेकिन कंद को आगे बुवाई के लिए इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। ठंडे और गीले मौसम से संक्रमण अधिक हो सकता है। पौधे के विकास के शुरुआती चरणों में गर्म तापमान रोग के प्रभाव को कम करता है। हल्की, रेतीली मिट्टी पर ब्लैक स्कर्फ़ और स्टेम कैंकर अधिक आम होते हैं।

जैविक नियंत्रण

जैविक कवकनाशक, ट्रायकोडर्मा हरज़ियेनम, या गैर-रोगजनक रिज़ोक्टोनिया प्रजातियों को हल रेखा में लगाएं। इससे खेतों में ब्लैक स्कर्फ़ और संक्रमित कंदों की संख्या में कमी आ सकती है। हल रेखा में मेवेशी खाद लगाना या हरी सरसों के अवशेषों के साथ जैव धूमन जैसे उपचारों का भी उपयोग किया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। फ़्लुओडिऑक्सिनिल या थियोफ़ेनेट-मिथाइल और मेंकोज़ेब के मिश्रण के साथ बीज उपचार विभिन्न प्रकार के कवक रोगों को फैलने से रोकने के लिए प्रभावी होते हैं, और इनमें ब्लैक स्कर्फ़ भी शामिल है। फ़्लुओटेनिल या एज़ोक्सिस्ट्रोबिन के साथ हल रेखा में उपचार कवक की प्रगति को नियंत्रित करने में मदद करता है।

निवारक उपाय

  • बोने के लिए स्वस्थ पौधों या प्रमाणित स्रोतों से सामग्री का उपयोग करें.
  • मौसम में जल्दी रोपण से बचें.
  • बीज कंदों को गर्म मिट्टी में बोएं (8 डिग्री सेल्सियस से ऊपर).
  • मिट्टी से जल्दी नए पौधे निकल पाएं, इसके लिए छिछली हल रेखा के उपयोग पर विचार करें.
  • फ़सलों के चक्रीकरण के बारे में विचार करें (क्रॉप रोटेशन).
  • गैर-धारक पौधों के अवशेषों को कटाई के बाद छोड़ दें.
  • पौधों को पर्याप्त मात्रा में पानी दें, ख़ासकर शुष्क मौसम के दौरान।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!