- टमाटर

टमाटर टमाटर

टमाटर के तने की सड़न

फफूंद

Didymella lycopersici


संक्षेप में

  • तने के निचले हिस्से पर काले स्पष्ट धँसे हुए धब्बे.
  • प्रभावित ऊतकों पर छोटे काले दाग़.
  • पौधे झुक जाते हैं और धीरे-धीर मुरझा जाते हैं.
  • फल काले होकर सिकुड़ जाते हैं।.
 - टमाटर

टमाटर टमाटर

लक्षण

संक्रमण अधिकतर तने पर या ज़मीन से ऊपर होता है, लेकिन मिट्टी से संपर्क में आने वाली पत्तियां भी प्रभावित हो सकती हैं। भूरे, स्पष्ट और धंसे हुए धब्बे सबसे पहले तने पर दिखाई देते हैं। जैसे-जैसे वह बढ़ते हैं, ये घाव तने को घेर सकते हैं, जिससे पौधा झुकने लगता है और फिर मुरझा जाता है। प्रभावित ऊतकों पर छोटे काले दाग़ दिखाई देते हैं। बाद में, तने के ऊपरी हिस्सों में द्वितीयक घाव या नासूर पैदा हो सकते हैं। पानी की छींटें बीजाणुओं को पौधे के अन्य हिस्सों तक पहुंचा देती है, जिससे अतिरिक्त संक्रमण होता है और रोग फैल जाता है। प्रभावित फल काले हो जाते हैं और सिकुड़ने लगते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षण कवक डिडिमेला लाइकोपरसिची के कारण होते हैं, जो मिट्टी और पौधों के संक्रमित मलबे में जीवित रहता है। फफुंद आसानी से नियमित छंटाई या अन्य खेती के कार्यों से हुए घाव में प्रवेश कर जाता है। वैकल्पिक मेज़बान नाइटशेड के परिवार तक सीमित हैं, जिसका टमाटर भी एक सदस्य है। पत्तियों पर उपस्थित धब्बों में बीजाणु पैदा करने वाले कुशन होते हैं। बाद में, हवा या बारिश की बौछारों से वे स्वस्थ पौधौं तक पहुंच जाते हैं। यह भी माना जाता है कि रोग संक्रमित बीजों द्वारा प्रसारित होता है। डिडिमेला तने की सड़न व्यापक परिस्थितियों में पैदा हो सकती है। परंतु, ठंडा तापमान (20°से.), बारिश की छींटों के साथ गीला मौसम या ऊपरी सिंचाई का उपयोग इसके लिए अनुकूल परिस्थितियां होती हैं। जैसे-जैसे पौधे परपिक्व होते हैं, उनकी संवेदनशीलता बढ़ जाती है, और मिट्टी में नाइट्रोजन और फ़ॉस्फ़ोरस की कमी रोग की गंभीरता को बढ़ाती है।

जैविक नियंत्रण

रोग से बचने के लिए या उसकी संभावना कम करने के लिए रोकथाम उपाय सर्वश्रेष्ठ विकल्प होते हैं। फफुंद ट्राइकोडर्मा हर्ज़ियेनम के कुछ प्रकार डी. लाइकोपरसिची के लिए अच्छा नियंत्रण प्रदान करते हैं और उपज को बढ़ाते हैं।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपायों के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। रोग से बचने के लिए या उसकी संभावना कम करने के लिए रोकथाम उपाय सर्वश्रेष्ठ विकल्प होते हैं। यदि सही समय पर लगाया जाए, तो कवकनाशक उपचार प्रभावशाली हो सकते हैं। क्लोरोटेलोनिल पर आधारित उत्पाद नए संक्रमणों को रोकने में उपयोगी हो सकते हैं।

निवारक उपाय

  • प्रमाणित स्रोतों से स्वस्थ बीजों का उपयोग करें.
  • प्रतरोधी किस्में लगाएं.
  • ग्रीनहाउस में पौधे उगाते समय पौधों के बीच पर्याप्त स्थान छोड़ें ताकि छतरी के लिए उचित वायु-संचार उपलब्ध हो.
  • निचली पत्तियों को मिट्टी से संपर्क में आने से रोकें या इन्हें हटा दें या काट दें.
  • पौधों को सुबह पानी दें और ऊपरी सिंचाई से बचें.
  • कम से कम हर 3 साल पर विविध फ़सल चक्रीकरण सुनिश्चित करें.
  • कई हफ़्तों तक मिट्टी के सौरीकरण की योजना बनाएं.
  • खेती का काम करते समय पौधों को चोट पहुंचाने से बचें.
  • जैसे ही संक्रमित पौधे दिखाई दें, उन्हें हटा दें.
  • स्वैच्छिक रूप से उगने वाले, खर-पतवार और अन्य परपोषी पौधों को खेत से और उसके आसपास से हटा दें.
  • कटाई के बाद पौधों का मलबा हटा दें और जला दें.
  • खेती का काम करने के बाद, डंडों और औज़ारों का कीटाणुशोधन करें.
  • ग्लासहाउस में, आद्रता स्तर 90% से कम रखें और तापमान 15° से. से कम रखें.
  • टमाटर के पौधे को सहारा देने के लिए बेंत के डंडे (अरुंडो डोनेक्स) या नीलगिरी के खूंटों का इस्तेमाल करें क्योंकि यह रोग की संभावना कम करता है।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!