- जवार

जवार जवार

राख जैसी फफुंद (हेड स्मट)

फफूंद

Sphacelotheca reiliana


संक्षेप में

  • पुष्पगुच्छ आंशिक या पूर्ण रूप से काले रंग की चूर्ण जैसी कवकीय बढ़त से ढके होते हैं.
  • बालियों तथा दानों पर असामान्य पत्तीनुमा बनावट दिखाई देती है.
  • प्रभावित दाने गोल या आंसू के आकार के होते हैं तथा पूर्ण रूप से काले रंग के चूर्ण पदार्थ से भरे होते हैं.
  • शिराओं के धागों का एक उलझा हुआ-सा समूह बीजाणुओं के समूह के बीच मिलता है.
  • बालियों पर कोई रेशम या उनके भीतर कोई भी दाने नहीं होते हैं।.
 - जवार

जवार जवार

लक्षण

रोग के आराम्भिक लक्षण पौधे के विकास के बाद के चरणों में दिखाई देते हैं जब पुष्पगुच्छ तथा दाने दिखाई देने लगते हैं। गुच्छे आंशिक या पूर्ण रूप से काले रंग की चूर्ण जैसी कवकीय बढ़त से ढके होते हैं। पुष्पगुच्छ या दानों पर असामान्य पत्तीनुमा बनावट दिखाई देती है। प्रभावित बालियां स्वस्थ बालियों की अपेक्षा अधिक गोल होती हैं तथा पूर्ण रूप से काले रंग के चूर्ण पदार्थ से भरी होती हैं। शिराओं के धागों का एक उलझा हुआ-सा समूह, जो कि पौधे के ऊतकों के कड़े अवशेष होते हैं, बीजाणुओं के समूह के बीच मिलता है। संक्रमित पौधों में आम तौर पर कोई भी रेशम नहीं होता या बालियों में कोई भी दाना उपस्थित नहीं होता है। अत्यधिक शाखाओं के निकलने को अतिरिक्त लक्षण कहा जाता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

कवक स्फ़ेस्लोथेका रेलियाना बीजाणुओं के रूप में मिट्टी में कई वर्षों तक जीवित रह सकता है तथा जड़ों के द्वारा अनोखे तरीके से प्रसारित हो सकता है। यह छुटपुट रूप से खेत में कुछ पौधों, प्रायः अंकुरों, को संक्रमित करता है। यह कवक बाद में पुष्पगुच्छों तथा दानों सहित पौधों के सभी भागों में फैल जाता है। यह काली राख (बीजाणुओं का समूह) जैसा दिखाई देता है, जो गुच्छों को खा जाता है तथा कभी-कभी दानों की पूर्ण रूप से जगह ले लेता है। संक्रमित उपकरणों से संक्रमण एक खेत से दूसरे खेत तक पहुंचता है। मिट्टी में नमी की कमी, ऊष्ण तापमान (21 से 27 डिग्री से.) तथा पोषक तत्वों की न्यूनता संक्रमण तथा रोग के फैलाव में सहायक होती है। एक बार संक्रमण होने पर, संक्रमित पौधों में नुकसान को कम करने का कोई प्रभावी इलाज नहीं है।

जैविक नियंत्रण

नाइट्रोजन की अपेक्षा कम कार्बन के अनुपात वाले उर्वरकों का उपयोग रोग की घटना को कम कर सकता है। कवक को खाने वाले भृंग (फ़ेलेक्रस ओब्सक्युरस तथा लिस्ट्रोंनिकस कोयेरुलियस) जैविक नियंत्रक कारकों का काम कर सकते हैं। बैसिलस मेगाटेरियम के जीवाणुओं के सार से बीजों का उपचार करने पर रोग की संभावना को कम किया जा सकता है |

रासायनिक नियंत्रण

पौधों को कवक के संक्रमण से बचाने के लिए बीजों का एक प्रणालीगत कवकरोधी (कार्बॉक्सिन) से उपचार किया जा सकता है, किन्तु यह सीमित नियंत्रण ही प्रदान करता है। अंकुरण के समय जुताई के बाद हलरेखा में कवकरोधी उपचार प्रभावी हो सकता है, किन्तु हो सकता है कि यह आर्थिक रूप से महंगा हो।

निवारक उपाय

  • प्रतिरोधक या सहनशील प्रजातियों का प्रयोग करें.
  • जल्दी रोपण करें.
  • अंकुरों की तेज़ बढ़त वाली प्रजातियों को रोपें.
  • यदि संभव हो, तो पौधों को कम गहराई में रोपें.
  • नियमित रूप से सिंचाई करें तथा मिट्टी को सूखी न रहने दें.
  • खेतों में अच्छी स्वच्छता रखें.
  • बीजाणुओं को आगे फैलने से रोकने के लिए संक्रमित पौधों को हटा कर जला दें.
  • पर्याप्त नाइट्रोजन तथा पोटैशियम पर ज़ोर देते हुए मिट्टी की अभीष्ट उर्वरकता बनाये रखना सुनिश्चित करें.
  • फसल कटने के बाद पौधों के अवशेषों को हटा दें.
  • गैर-धारकों के साथ फसल के चक्रीकरण की 4 या अधिक वर्षों के लिए योजना बनाएं तथा वैकल्पिक धारक ज्वार से बचें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!