- गन्ना

गन्ना गन्ना

लाल सड़न

फफूंद

Glomerella tucumanensis


संक्षेप में

  • पत्तियों पर लाल - भूरे रंग के घाव हो जाते हैं.
  • सफ़ेद गूदे के अंदर लाल सड़े हुए हिस्से दिखते हैं.
  • पत्तियों पर लाल रंग के गोलाकार धब्बे, विशेष रूप से मध्यशिरा पर, नज़र आते हैं.
  • अनाज की सड़न लाल, भूरा या धूसर बदरंगपन और खट्टी गंध का रूप लेती है।.
 - गन्ना

गन्ना गन्ना

लक्षण

संक्रमित तनों का रंग फीका होता है और सतह पर बड़े लाल धब्बे दिखते हैं। यह काफ़ी हद तक क़िस्म पर निर्भर करता है। तने को लंबाई में काटने से सफ़ेद गूदे में लाल सड़े हुए ऊतक नज़र आते हैं। प्रतिरोधी पौधों में, लाल, रोगग्रस्त हिस्से अक़्सर गांठों के बीच के हिस्से में दिखाई देते हैं। जैसे-जैसे रोग बढ़ता है, गूदे में गड्ढे बन सकते हैं और कड़े रेशों के गुच्छे भी दिखने लगते हैं। पत्तियां मुरझाने और सिकुड़ने लगती हैं। पौधे एक खट्टी गंध छोड़ने लगते हैं और मौसम की विपरीत परिस्थितियों में तने आसानी से टूट जाते हैं। पत्तियों की मध्यशिरा पर छोटे लाल गोलाकार या लंबे घाव हो जाते हैं, कभी-कभी उसकी पूरी शिरा पर। खोल में लाल धब्बे हो सकते हैं और छोटे गहरे रंग के धब्बे कभी-कभार केवल पत्तियों की ऊपरी सतह पर बन जाते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षण ग्लोमेरेला टुकुमेनेन्सिस कवक के कारण होते हैं, जो मिट्टी में कुछ ही समय (महीनों) के लिए जीवित रह सकता है। हालांकि यह एक वास्तविक मिट्टी-जनित रोगजनक नहीं है, पौधे के अवशेषों से बहकर मिट्टी में आए हुए बीजाणु हाल ही में रोपण किए गए बीजों या अंकुरों को संक्रमित कर सकते हैं। इसके बाद, यह रोग संक्रमित पौधों की मध्यशिरा या तने में पैदा होने वाले और तेज़ हवा, बारिश, अधिक ओस, और सिंचाई के पानी द्वारा फैलने वाले बीजाणुओं से प्रसारित होता है। ठंडा, गीला मौसम, मिट्टी की उच्च नमी और एक ही फ़सल की खेती इस रोग के लिए अनुकूल होती है। पौधे की संवेदनशीलता सूखे के कारण भी बढ़ जाती है। गन्ने के अलावा, फफूंद छोटे पौधों, जैसे मकई और ज्वार को भी संक्रमित कर सकता है।

जैविक नियंत्रण

बीजों पर उपस्थित रोगजनक को समाप्त करने के लिए और लाल सड़न की संभावना को कम करने के लिए गर्म पानी के स्नान (जैसे, 50 डिग्री सेल्सियस पर 2 घंटों के लिए) का उपयोग किया जा सकता है। बीजों का उपचार करने के लिए जैविक नियंत्रक कारकों का भी उपयोग किया जा सकता है। इनमें चेटोमियम और ट्राइकोडर्मा वंश की फफूंद की कुछ प्रजातियां और स्यूडोमोनास जीवाणु की कुछ प्रजातियां शामिल हैं। इन घोलों पर आधारित पत्तियों के छिड़काव भी रोग के फैलाव को कम करने में प्रभावी हैं।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो निवारक उपायों के साथ जैविक उपचारों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। बीजों को 50-54 डिग्री सेल्सियस पर 2 घंटों के लिए कवकनाशक (जैसे, थिरैम) और गर्म पानी में डुबोकर रोगजनक को नष्ट करें। खेत में रासायनिक उपचार प्रभावी नहीं होते हैं और इनके उपयोग की सलाह नहीं दी जाती है।

निवारक उपाय

  • यदि आपके क्षेत्र के लिए उचित हो, तो प्रतिरोधी क़िस्मों का रोपण करें.
  • प्रमाणित स्रोतों से स्वस्थ बीजों और अंकुरों का उपयोग करें.
  • एक ऐसे खेत से रोपण सामग्री लें जो रोग से मुक्त हो.
  • मौसम के दौरान तेज़ गर्मी या तेज़ ठंड से बचने के लिए बुवाई का समय बदलें.
  • खेत में नियमित निगरानी रखें और रोगग्रस्त पौधों या समूहों को उखाड़ फेंकें.
  • रोगग्रस्त फ़सलों की रैटूनिंग (भूमि के ऊपर के हिस्से को काटना) न करें.
  • कटाई के बाद पौधों के अवशेषों को हटाएं और जला दें.
  • विकल्प के रूप में, मिट्टी में उपस्थित फफूंद सामग्री को सूरज के सामने लाने के लिए खेत की कई बार जुताई करें.
  • गैर-संवेदनशील पौधों के साथ 2-3 वर्षों के लिए अच्छा फ़सल चक्रीकरण अपनाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!