- धान

धान धान

चावल का ब्लास्ट

फफूंद

Magnaporthe oryzae


संक्षेप में

  • पत्तियों पर गहरे किनारों वाले हल्के घाव.
  • गांठें भी प्रभावित हो सकती हैं, तने टूट सकते हैं.
  • अंकुर या छोटे पौधे मर सकते हैं।.
 - धान

धान धान

लक्षण

चावल का ब्लास्ट पौधे के प्रत्येक ऐसे भाग को प्रभावित करता है जो ज़मीन से ऊपर होता है: पत्ती, कॉलर (मूल संधि), गांठ, गर्दन, मंजरी के हिस्से, और कभी-कभी पत्ती का खोल। पत्तियों पर पीले से लेकर हल्के हरे हरितहीन आँख के आकार के नुकीले किनारों वाले धब्बे दिखाई देते हैं। घावों के किनारे गले हुए होते हैं तथा केंद्र धूसर से सफ़ेद रंग का होता है। घावों का आकार पौधे की उम्र, चावल की क़िस्म, तथा संक्रमण के समय पर निर्भर करता है। जैसे-जैसे घाव बढ़ते जाते हैं, पत्तियां धीरे-धीरे सूख जाती हैं। यदि पत्तियों के जोड़ तथा उसके खोल पर संक्रमण होता है, तो मूल संधि में सड़न दिखाई दे सकती है तथा संधि के ऊपर की पत्तियां मर सकती हैं। गांठें भी प्रभावित होती हैं। इसके कारण गांठें कत्थई हो जाती हैं तथा तना टूट जाता है, जो अक्सर अंकुर या छोटे पौधे की मृत्यु का कारण बन सकता है। विकास के बाद के चरण के दौरान, पत्ती का गंभीर ब्लास्ट संक्रमण पत्ती के क्षेत्र को कम कर देता है, जिसके परिणामस्वरूप दानों का भरना और उपज भी कम हो जाती है। यह चावल की फ़सल के सबसे विनाशकारी रोगों में से एक है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

चावल के ब्लास्ट के लक्षण, फफूंद मैग्नापोर्थे ग्रिसिया के कारण होते हैं, जो चावल के सबसे विनाशकारी रोगों में से एक है।यह कृषि रूप से महत्वूपर्ण अन्य फ़सलों को भी प्रभावित कर सकता है, जैसे गेहूं, राई, जौ और मोती बाजरा। फ़सल कटाई के बाद, फफूंद भूसी पर जीवित रह सकता है और इसलिए यह अगले मौसम तक भी पहुंच सकता है। जैसे-जैसे पौधे पकते हैं, वे आमतौर पर रोगजनक के प्रति कम संवेदनशील होते जाते हैं। ठंडा मौसम, बारंबार वर्षा और मिट्टी की कम नमी भी रोग के लिए अनुकूल होती है। संक्रमण के लिए पत्ती पर नमी की लंबी अवधि की आवश्यकता होती है। सूखी मिट्टी में बोए जाने वाले चावल में, जिन स्थानों में दिन और रात के तापमान में अधिक अंतर के कारण ओस बनने की संभावना होती है, वहां रोग का जोखिम होता है। अंत में, उच्च नाइट्रोजन या कम सिलिकॉन स्तर वाली मिट्टी में उगाई गई चावल की फ़सल में इस रोग की संभावना ज़्यादा होती है।

जैविक नियंत्रण

आज तक, इस रोग को नियंत्रित करने के लिए कोई भी जैविक उपचार व्यावसायिक रूप से उपलब्ध नहीं है। स्ट्रेप्टोमायसिस या स्यूडोमोनस जीवाणु पर आधारित उत्पादों का फफूंद पर और रोग की संभावना या फैलाव के लिए व्यवहार्यता को जांचने के प्रयोग चल रहे हैं।

रासायनिक नियंत्रण

अगर उपलब्ध हो, तो हमेशा जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एक एकीकृत दृष्टिकोण पर विचार करें। रोग के विरुद्ध थिरैम से बीज का उपचार प्रभावशाली होता है। एज़ोक्सीस्ट्रोबिन, या ट्रायज़ोल या स्ट्रोबिलुरिन परिवार वाले सक्रिय घटकों का उपयोग भी अंकुरण, मुख्य तने से अतिरिक्त तने निकलने वाले चरण, और मंजरी निकलने के चरण के दौरान, चावल के ब्लास्ट को नियंत्रित करने के लिए किया जा सकता है। बाली निकलने के समय एक या दो कवकनाशक की ख़ुराक भी रोग को नियंत्रित करने के लिए उपयोगी हो सकती है।

निवारक उपाय

  • स्वस्थ या प्रमाणित बीज पदार्थों का उपयोग करें.
  • क्षेत्र में उपलब्ध प्रतिरोधी क़िस्मों का रोपण करें.
  • वर्षा ऋतु के आरंभ के बाद, मौसम में बीज जल्दी बोएं.
  • नाइट्रोजन उर्वरकों के अत्यधिक प्रयोग और दो या उससे अधिक विभाजित उपचारों से बचें.
  • नियमित सिंचाई की मदद से पौधों को सूखे के तनाव से बचाएं.
  • चावल के अच्छे विकास के लिए उचित जल भराव स्तर बनाए रखें.
  • चावल के खेतों में लगातार पानी भरे रखने तथा जलनिकासी को रोकने की व्यवस्था रखें.
  • खरपतवार और वैकल्पिक धारक पौधों पर नियंत्रण रखें.
  • अगर आपको मालूम है कि मिट्टी में सिलिकॉन की कमी है, तो सिलिकॉन उर्वरकों का उपयोग करें.
  • सिलिकॉन के सस्ते स्रोतों में सिलिकॉन की उच्च मात्रा वाली चावल की क़िस्मों का पुआल शामिल है.
  • लक्षणों के लिए अपने खेतों की नियमित निगरानी करें.
  • खेतों में फफूंद को अगले मौसम में फैलने से रोकने के लिए पौधे के सभी संक्रमित अवशेषों को नष्ट कर दें.
  • आबादी को कम करने के लिए फ़सल चक्रीकरण की एक सरल और प्रभावशाली विधि अपनाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!