- गेहूं

गेहूं गेहूं

गेहूं के तने का ज़ंग

फफूंद

Puccinia graminis


संक्षेप में

  • लाल, गोलाकार और चूर्ण जैसे दाने तनों, पत्तियों के खोल, और कभी-कभार पत्तियों पर दिखाई देते हैं.
  • दाने बढ़कर जुड़ जाते हैं और बड़े हिस्सों पर छा जाते हैं, जिससे पौधे की बाहरी त्वचा को एक खुरदुरा रूप मिलता है.
  • तने कमज़ोर पड़ सकते हैं और तेज़ हवा और बारिश की परिस्थितियों में पौधे गिर सकते हैं.
  • कमज़ोर हुए पौधे अन्य रोगजनकों के संक्रमण के प्रति संवेदनशील हो जाते हैं.
  • यदि अनाज के दाने पूरी तरह भरने से पहले रोग गंभीर हो जाए, तो भारी उपज हानि हो सकती है।.
 - गेहूं

गेहूं गेहूं

लक्षण

संक्रमण के 7 से 15 दिनों के बाद पहले लक्षण दिखाई देते हैं। तनों, पत्तियों के खोल, पत्तियों और कभी-कभार छोटे फूलों पर लाल-भूरे, अंडाकार से लंबे दाने निकल आते हैं। तने और पत्तियों के खोल मुख्य रूप से प्रभावित होते हैं। चूर्ण जैसे दाने बढ़कर एक दूसरे से जुड़ जाते हैं और बड़े हिस्सों पर छा जाते हैं। पौधे की बाहरी त्वचा को हुई क्षति की वजह से वह खुरदुरा दिखने लगता है। गंभीर संक्रमण के मामले में, तने कमज़ोर पड़ सकते हैं और तेज़ हवा या बारिश में लटक सकते हैं या गिर सकते हैं। फफूंद की वजह से पानी और पोषक तत्वों का परिवहन बाधित होता है और पानी और पौधे की शक्ति में कमी होती है, तथा अनाज के दानों तक कम पोषक तत्व पहुंच पाते हैं। अनाज के दाने सिकुड़ जाते हैं, जिससे उपज को हानि पहुंचती है। पूरा पौधा कमज़ोर पड़ जाता है, और वह अन्य रोगजनकों के संक्रमण के प्रति संवेदनशील हो जाता है। यदि दाने पूरी तरह भरने से पहले रोग फैल जाए, तो उपज हानि गंभीर हो जाती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षणों का कारण पुचिनिया ग्रेमिनिस फफूंद है, जो एक बाध्यकारी परजीवी है और जिसे जीने के लिए पौधों के जीवित ऊतकों की आवश्यकता होती है। अधिक दूरी तक बीजाणु तेज़ हवा से फैलते हैं और पानी के संपर्क में आने के बाद अंकुरित होते हैं। ये मशीनों, वाहनों, औज़ारों, कपड़ों और जूते-चप्पलों से भी फैलते हैं। फफूंद पौधे को पत्ती की सतह के प्राकृतिक पोरों द्वारा संक्रमित करता है, एक ऐसी प्रक्रिया जिसे कम प्रकाश (सुबह-सवेरे या शाम) और बार-बार ओस गिरने या बारिश के कारण पत्तियों की लंबी अवधि के गीलेपन से लाभ मिलता है। तने की ज़ंग के लिए गर्म दिन (25 से 30 डिग्री सेल्सियस) और ओस बनने के लिए उचित रात्रि का कम तापमान (15 से 20 डिग्री सेल्सियस) भी अनुकूल परिस्थितियां प्रदान करते हैं। रोग आमतौर पर गेहूं तक सीमित रहता है, लेकिन अन्य पौधे भी इसके रोगवाहक का काम कर सकते हैं या इससे प्रभावित हो सकते हैं (अन्य अनाज के पौधे, घासें, और बेरीबेरी झाड़ों की प्रजातियां)।

जैविक नियंत्रण

माफ़ कीजिए, हमें पुचिनिया ट्रिटिचिना के विरुद्ध किसी भी वैकल्पिक उपचार के बार में जानकारी नहीं है। यदि आप कुछ ऐसा जानते हों जो इस रोग से लड़ने में मदद करे, तो कृपया हमसे संपर्क करें। हमें आपके सुझावों की प्रतीक्षा रहेगी।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो निवारक उपायों के साथ जैविक उपचारों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। टेबुकोनाज़ोल या प्रोथियोकोनाज़ोल युक्त कवकनाशक फफूंद को नियंत्रित करने के लिए उपयोग किए जा सकते हैं। रोकथाम उपचारों के लिए, ट्रायज़ोल और स्ट्रोबिलुरिन युक्त कवकनाशकों को लगाया जा सकता है। स्ट्रोबिलुरिन के विरुद्ध कुछ हद तक प्रतिरोध देखा गया है।

निवारक उपाय

  • रोग-प्रतिरोधी गेहूं की किस्मों का उपयोग करें.
  • जल्दी पकने वाली क़िस्मों का उपयोग करें.
  • वंसत में, जितनी जल्दी हो सके रोपण करें.
  • विपरीत स्थितियों से बचने के लिए शरद ऋतु में जितनी देर से हो सके रोपण करें.
  • रोग के किसी भी संकेत के लिए खेतों की नियमित निगरानी करें.
  • क्षेत्र में उगने वाले खरपतवार, अपने आप उगने वाले पौधे, और बेरीबेरी झाड़ (दारुहल्दी) की प्रजातियों को हटा दें.
  • नाइट्रोजन की अत्यधिक मात्रा के उपयोग से बचें.
  • पौधों के लिए अच्छा वायु-संचार सुनिश्चित करने के लिए पौधों के बीच पर्याप्त स्थान छोड़ें.
  • खेत में फफूंद जीवित न रह पाए, इसके लिए पौधों के सभी अवशेषों को निकाल कर नष्ट कर दें.
  • किसी दूसरे खेत में जाने से पहले, औज़ारों, जूते-चप्पलों, हाथों, और पतलूनों को अच्छी तरह साफ़ कर लें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!