- गेहूं

गेहूं गेहूं

खुली कांगियारी (लूज़ स्मट)

फफूंद

Ustilago segetum var. tritici


संक्षेप में

  • फूल खिलने के चरण के पहले या उसके दौरान लक्षण दिखाई देते हैं.
  • चूर्ण जैसे काले दानों के साथ काली बालियां और एक अजीब "मृत मछली" की गंध.
  • विकासशील दानों की जगह कवक ले लेता है।.
 - गेहूं

गेहूं गेहूं

लक्षण

लक्षण फूल खिलने के चरण से कुछ पहले या उसके दौरान उत्पन्न होते हैं। चूर्ण जैसे काले अनाज के साथ काली बालियां और एक अजीब "मृत मछली" जैसी गंध आती है। विकासशील दानों की जगह कवक ले लेता है और संक्रमित बालियों में कोई अनाज नहीं बनता है। दुनिया के गेहूं उगाने वाले क्षेत्रों में यह एक आम रोग है। संक्रमित बालियों में संपूर्ण उपज हानि देखी जा सकती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षण बीज-जनित फफूंद, उस्टिलागो ट्रिटिची, के कारण पैदा होते हैं, जो गेहूं के संक्रमित दानों में सुप्तावस्था में जीवित रहते हैं। फफूंद का विकास पौधे के जीवन चक्र के साथ चलता है। जब संक्रमित बीज अंकुरित होता है, तो फफूंद अपना विकास गेहूं के नए पौधे की नई डंठलों में शुरू करता है और फूलों के ऊतकों पर बस जाता है। पराग छोड़ने की बजाय, फूल फफूंद के बीजाणुओं को छोड़ते हैं, जो हवा के ज़रिए स्वस्थ फूलों तक पहुंचते हैं। वहां, वे अंकुरित होते हैं और आंतरिक ऊतकों पर बसना शुरू कर देते हैं, और अंत में नए बीजों में प्रवेश कर जाते हैं। संक्रमित बीजों में सुषुप्त फफूंद उपस्थित होते हैं, लेकिन वे स्वस्थ दिखाई देते हैं। बीजों के रोपण के साथ, चक्र दोबारा शुरू हो जाता है। प्रसार के अन्य माध्यम हैं फ़सल के अवशेष, बारिश, और कीड़े। बीजाणुओं के तेज़ अंकुरण के लिए अनुकूल परिस्थितियां हैं नमी (60-85% सापेक्षिक आर्द्रता) के साथ अक्सर होने वाली बारिश या ओस और 16–22 डिग्री सेल्सियस का ठंडा तापमान।

जैविक नियंत्रण

बीजों को 4-6 घंटों के लिए 20-30 डिग्री सेल्सियस पानी में भिंगो दें। उसके बाद, इन्हें 2 मिनट के लिए 49 डिग्री सेल्सियस गरम पानी में डुबो दें। अगले कदम में, बीजों को प्लास्टिक की शीट पर रख दें और उन्हें 4 घंटों के लिए धूप में रहने दें। बुवाई से पहले, बीजों को पूरी तरह से हवा में सुखा लेना चाहिए। इस उपचार से संक्रमण का जोखिम कम होता है, लेकिन इससे बीजों का अंकुरण दर कम हो सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचारों के साथ रोकथाम उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण को अपनाने के बारे में हमेशा विचार करें। बीजों का कार्बोक्सिन या ट्रायडिमेनोल जैसे प्रणालीगत कवकनाशकों के साथ उपचार किया जा सकता है, जिन्हें अंकुरित हो रहा बीज सोख लेता है और ये पदार्थ बीज के भीतर फफूंद को बढ़ने से रोक देते हैं या उसे समाप्त कर देते हैं। बीजों के उपचार के लिए यौगिकों की एक व्यापक श्रृंखला मौजूद है, जिसमें ट्रिटिकोनाज़ोल, डाईफ़ेनोकोनाज़ोल और टेबुकोनाज़ोल शामिल हैं।

निवारक उपाय

  • स्वस्थ पौधों या प्रमाणित रोग मुक्त स्रोतों से बीज का उपयोग करें.
  • यदि उपलब्ध हो, तो सहनशील क़िस्मों का रोपण करें.
  • विभिन्न खेतों के बीच काम करते समय औज़ारों, हाथों, और जूते-चप्पलों को अच्छी तरह साफ़ करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!