- गेहूं

गेहूं गेहूं

पीला धारीदार ज़ंग

फफूंद

Puccinia striiformis


संक्षेप में

  • छोटे ज़ंग लगे फोड़े संकीर्ण धारियों में व्यवस्थित होते हैं.
  • तने और सिरे भी प्रभावित हो सकते हैं।.
 - गेहूं

गेहूं गेहूं

लक्षण

रोग की गंभीरता पौधे की संवेदनशीलता पर निर्भर करती है। संवेदनशील किस्मों में, कवक, पीले से नारंगी ("ज़ंग लगे") फोड़े पैदा करता है, जो पत्तियों के शिराओं के समनांतर पंक्तियों में संकीर्ण धारियों में व्यवस्थित होते हैं। वे बाद में जुड़कर पूरी पत्ती को ढक देते हैं। यह एक ऐसी विशेषता है जो युवा पौधों में जल्दी दिखती है। ये फोड़े (व्यास में 0.5 से 1 मिमी) कभी-कभी तनों और सिरों पर भी देखे जा सकते हैं। रोग की बाद की अवस्था में, पत्तियों पर लंबे, परिगलित, हल्की भूरी धारियां या धब्बे दिखाई देते हैं, जो अक्सर ज़ंग लगे फोड़े से भरे होते हैं। गंभीर संक्रमण में, पौधों का विकास गंभीर रूप से प्रभावित हो जाता है और ऊतकों को क्षति पहुंचती है। पत्तियों के कम होने से उत्पादकता में कमी आती है, प्रति पौधा कम बालियां होती हैं, और प्रति बाली कम दाने होते हैं। कुल मिलाकर, यह रोग गंभीर रूप से फ़सल को नुकसान पहुंचा सकता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षण का कारण कवक पुचिनिया स्ट्रीफ़ॉर्मिस, एक बाध्यकारी (ऑब्लिगेट) परजीवी, होता है। इसे जीवित रहने के लिए जीवित पौधे की सामग्री की आवश्यकता होती है। हवा के कारण बीजाणु कई सौ किलोमीटर तक फैलते हैं और रोग की मौसमी महामारी उत्पन्न कर सकते हैं। कवक पौधे में रंध्रों के माध्यम से प्रवेश करता है और धीरे-धीरे पत्तियों के ऊतकों पर बस्ती बना लेता है। रोग मुख्यतः पौधे के विकास के मौसम के दौरान होता है। कवक के विकास के लिए अनुकूल परिस्थितियां हैं: ऊंचाई, उच्च आर्द्रता (ओस), बारिश और 7 और 15 डिग्री सेल्सियस के बीच का ठंडा तापमान। जब तापमान 21-23 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है, तो संक्रमण रुक जाता है क्योंकि इन तपमानों में कवक का जीवन चक्र बाधित होता है। अन्य धारकों में गेहूं, जौ और राई शामिल हैं।

जैविक नियंत्रण

बाज़ार में कई जैविक-कवकनाशक उपलब्ध हैं। बैसिलस पुमिलस को यदि 7 से 14 दिनों के अंतराल पर लगाया जाए, तो यह कवक के विरुद्ध प्रभावशाली होता है और इसे उद्योग के मुख्य खिलाड़ी बेचा करते हैं।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। स्ट्रोबिलुरिन वर्ग से संबंधित कवकनाशकों के पत्तियों के स्प्रे रोग के खिलाफ़ प्रभावी संरक्षण प्रदान करते हैं यदि इन्हें संक्रमण से पहले लगाया जाए। पहले से ही संक्रमित खेतों में, ट्रायज़ोल परिवार से संबंधित उत्पादों का उपयोग करें या दोनों उत्पादों के मिश्रण का उपयोग करें।

निवारक उपाय

  • यदि उपलब्ध हो, तो प्रतिरोधक किस्मों का रोपण करें.
  • नाइट्रोजन की पर्याप्त उर्वरकता सुनिश्चित करें, अत्यधिक उपयोग से बचें.
  • खर-पतवार के लिए खेत में निगरानी करें और उन्हें हटाएं.
  • कटाई के बाद गहरी जुताई करके पौधे के मलबे को मिट्टी से निकालें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!