- गेहूं

गेहूं गेहूं

गेहूं में करनाल बंट

फफूंद

Tilletia indica


संक्षेप में

  • हर बाली के कुछ दानों का आधार काला हो जाता है.
  • अनाज काले पाउडर जैसे गुच्छों से भरे हुए होते हैं.
  • जब दानों को कुचला जाता है, तो सड़ी हुई मछली की बदबू आती है।.
 - गेहूं

गेहूं गेहूं

लक्षण

शुरुआती चरणों में, हर बाली के कुछ दानों के आधार पर काले क्षेत्र दिखाई देते हैं। धीरे-धीरे, अनाज के भीतर की सामग्री खाली हो जाती है, और पूरी तरह या आंशिक रूप से काले पाउडरी गुच्छे भर जाते हैं। इसके कारण अनाज फूलता नहीं है और छिलका आमतौर पर ज्यों का त्यों रहता है। जैसे-जैसे रोग बढ़ता है, अन्य बालियों में भी दाने प्रभावित हो जाते हैं। कुचले जाने पर इन दानों से सड़ी हुई मछली की बदबू आती है। परंतु, प्रति बाली, प्रभावित दानों की संख्या शायद ही कभी 5 या 6 से ज़्यादा होती है। हो सकता है कि संक्रमित पौधे छोटे रह जाएं। रोग का अनाज की उपज पर न्यूनतम प्रभाव पड़ता है, लेकिन गुणवत्ता की समस्याओं के कारण या बीजाणुओं की उपस्थिति के कारण हो सकता है कि दानों की बिक्री न हो।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

करनाल बंट बीज या मिट्टी में पैदा होने वाले कवक, टिलेशिया इंडिका, के कारण होता है। यह कवक मिट्टी में 4-5 सालों तक जीवित रह सकता है। दूषित मिट्टी या पौधों के अवशेषों में उपस्थित बीजाणु स्वस्थ पौधों या पुष्पों तक पहुंच सकते हैं। संक्रमण खिलने की अवस्था के दौरान कभी भी हो सकता है, लेकिन पौधे बालियों के पैदा होने के दौरान अधिक संवेदनशील होते हैं। विकसित हो रहे बीजों पर कवक बस जाता है और धीरे-धीरे उनकी सामग्री को खाली कर देता है। लक्षणों के विकास के लिए मौसम एक महत्वपूर्ण कारक होता है। अनाज के उत्पन्न होने के समय, नम मौसम (70% से ज़्यादा) और 18 से 24° से. का तापमान रोग की प्रगति के लिए अनुकूल होता है। बीजाणु खेती के उपकरणों, औज़ारों, कपड़ों, और गाड़ियों से फैले सकते हैं।

जैविक नियंत्रण

माफ़ कीजिएगा, टिलेशिया इंडिका के विरुद्ध किसी भी वैकल्पिक उपचार के बारे में हमें जानकारी नहीं है। यदि आपको इस रोग से लड़ने का कोई तरीक़ा पता हो, तो कृपया हमसे संपर्क करें। हमें आपके सुझावों का इंतज़ार रहेगा।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। कोई बीज उपचार 100% प्रभावी नहीं है, लेकिन कई उपचार हैं जो कवक के विकास को रोकते हैं और अनाज के नुकसान को कम करते हैं। कार्बोक्सीन-थिरम, डाइफ़ेनोकोनाज़ोल, मेफ़ेनॉक्सम या टेबुकोनाज़ोल पर आधारित कवकनाशक खेतों में हवा से फैलने वाले संक्रमण को प्रभावशाली ढंग से दूर सकते हैं।

निवारक उपाय

  • स्वस्थ पौधों या प्रमाणित स्रोतों से बीज का उपयोग करें.
  • यदि उपलब्ध हो, तो प्रतिरोधी किस्में उगाएं.
  • आसपास के खेतों में वैकल्पिक मेज़बानों की खेती से बचें.
  • 5 वर्ष तक गैर-मेज़बान पौधों के साथ एक व्यापक फ़सल चक्रीकरण लागू करें.
  • कवक के लिए अनुकूल मौसम से बचने के लिए बुवाई के समय को समायोजित करें.
  • खेत में जल निकासी में सुधार करें और खिलने के समय अत्यधिक सिंचाई से बचें.
  • नाइट्रोजन के साथ अत्यधिक उर्वरीकरण से बचें.
  • संदूषित खेतों से खेतों की मशीनों और मिट्टी की आवाजाही को सीमित रखें.
  • प्लास्टिक पलवार का उपयोग मिट्टी के तापमान को बढ़ाने और कवक के प्रसार को कम करने के लिए किया जा सकता है।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!