- आम

आम आम

कवक फ़ोमा के कारण झुलसा रोग (फ़ोमा ब्लाइट)

फफूंद

Peyronellaea glomerata


संक्षेप में

  • पुरानी पत्तियों पर पीले से भूरे रंग के अनियमित घाव.
  • घाव स्लेटी रंग के परिगलित केंद्रों के साथ बड़े बन जाते हैं.
  • पत्तियों का मुरझाना, अंततः सारी पत्तियाँ झड़ जाती हैं।.
 - आम

आम आम

लक्षण

फ़ोमा ब्लाइट संक्रमण के लक्षण केवल पुरानी पत्तियों पर दिखाई देते हैं। प्रभावित पत्तियाँ पर बिखरे हुए कोणीय, पीले से भूरे रंग के अनियमित घाव दिखते हैं। जैसे-जैसे बीमारी बढ़ती है, घाव बढ़ते जाते हैं और बड़े पैच बना लेते हैं जो बाद में स्लेटी रंग के केंद्रों और गहरे रंग के किनारों के साथ फीके परिगलित क्षेत्रों में बदल जाते हैं। अंतिम चरण में, पत्तियां सूखना शुरू हो जाती हैं और पूरी तरह झड़ जाती हैं। अन्य धारक पौधों में सामान्य बेल (विटिस विनिफ़ेरा) और केंटकी घास (पोआ प्रेटेंसिस) शामिल हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

फ़ोमा ब्लाइट एक नई बीमारी है, लेकिन अब यह आम के फल के उत्पादन क्षेत्रों में आर्थिक रूप से महत्वपूर्ण होती जा रही है। लक्षण कवक पेरोनेलिया ग्लोमेराटा के कारण होते हैं, जिन्हें पहले फ़ोमा ग्लोमेराटा कहा जाता था, और यहीं से रोग का सामान्य नाम लिया गया है। यह एक सर्वव्यापी और व्यापक कवक है जो मिट्टी में और विभिन्न मृत या जीवित पौधों की सामग्री (बीज, फल, सब्ज़ियां) पर रहता है, सामान्यतः बिना लक्षण उत्पन्न किए। यह लकड़ी, सीमेंट, तेल से पेंट की गई सतहों और कागज़ पर घर के अंदर भी पाया जा सकता है। कवक आमतौर पर रोगग्रस्त ऊतकों का एक द्वितीयक हमलावर माना जाता है। लेकिन, कुछ धारकों में, और कुछ पर्यावरणीय परिस्थितियों में (नम मौसम और अधिक तापमान), रोग बढ़ जाता है। वृद्धि के लिए इष्टतम तापमान 26 डिग्री सेल्सियस से 37 डिग्री सेल्सियस तक होता है।

जैविक नियंत्रण

पहले लक्षणों के दिखते ही और 20 दिनों के अंतराल पर कॉपर ऑक्सीक्लोराइड (0.3%) का छिड़काव करके रोग को नियंत्रित किया जा सकता है। ठंडी जगह पर स्टोर करके और साथ ही नीम की पत्तियों के अर्क के साथ फलों का उपचार करके भंडारण के दौरान फलों पर अनेक रोगजनकों के विकास को रोका जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। लक्षणों के दिखाई देते ही, कवकनाशक का छिड़काव और 20 दिनों के अंतराल पर 0.3% मिल्टोक्स का छिड़काव कवक को नियंत्रित करने में काम करता है।

निवारक उपाय

  • भंडारण के दौरान, कवक विकास से बचने के लिए भंडारण सुविधाओं को अच्छी तरह से स्वच्छ रखें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!