- शिमला मिर्च एवं मिर्च

शिमला मिर्च एवं मिर्च शिमला मिर्च एवं मिर्च

मिर्ची के पत्ते का धब्बा (सेर्कोस्पोरा लीफ़ स्पॉट)

फफूंद

Cercospora capsici


संक्षेप में

  • पत्तियों पर सफेद केंद्र, गहरे छल्लों और पीले आभामंडल वाले बड़े, संकेंद्रित, धब्बे पड़ जाते हैं (मेंढक की आंख की तरह) धब्बे धीरे-धीरे जुड़कर पत्तियों पर बड़े घाव बनाते हैं.
  • पत्तियां पीली होकर गिर जाती हैं, जिसके कारण फल धूप से झुलसने लगते हैं।.
 - शिमला मिर्च एवं मिर्च

शिमला मिर्च एवं मिर्च शिमला मिर्च एवं मिर्च

लक्षण

संक्रमण के शुरुआत में, पत्तियों पर हल्के स्लेटी रंग के केंद्र और लाल-भूरे किनारों वाले भूरे गोलाकार धब्बे पड़ जाते हैं। बाद में, वे बड़े गोल पीले-भूरे धब्बों में परिवर्तित हो जाते हैं, जिनका आकार लगभग 1.5 सेमी तक बढ़ जाता है, और जिनमें एक सफ़ेद केंद्र के आसपास गहरे रंग के छल्ले बन जाते हैं। पीले किनारों वाले खुरदरा गहरे रंग के छल्लों के कारण धब्बे मेंढक की आंख की तरह दिखाई देते हैं। जैसे-जैसे धब्बों की संख्या बढ़ जाती है, तो वे जुड़कर पत्तियों पर बड़े घाव बना देते हैं। सफ़ेद केंद्र अक्सर सूखकर गिर जाता है, जिससे गोली के जैसा प्रभाव (शॉट-होल) दिखाई देता है। संक्रमण के बाद के चरणों में, पत्तियां पीली होकर मुरझा जाती हैं या गिर जाती हैं, जिसके कारण फल धूप से झुलस जाते हैं। गंभीर मामलों में, धब्बे फलों की डंठलों और ऊपरी पंखुड़ियों पर भी दिखाई देते हैं, जिसके कारण अक्सर तने के कोने की सड़न हो जाती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षणों का कारण सर्कोस्पोरा कैप्सिकी है, जो उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में विशेष रूप से पाया जाता है। यह बेहड़उर और खेतों, दोनों जगह पौधों को प्रभावित करता है। यह बीज, मिट्टी और संक्रमित पौधों के अवशेषों में एक मौसम से दूसरे मौसम तक जीवित रहता है। यह पानी, बारिश, हवा और पत्ती के पत्ती से संपर्क, और उपकरणों, औज़ारों और खेती कर्मियों के माध्यम से फैलता है। पत्तियों का संक्रमण पत्ती में सीधे प्रवेश से होता है और लंबी अवधि के लिए पत्तियों का गीलापन यह आसान बना देता है। 23 डिग्री सेल्सियस का तापमान और 77 से 85 प्रतिशत की सापेक्षिक आर्द्रता संक्रमण के लिए अनुकूल परिस्थितियां हैं। इन परिस्थितियों में, उपज पर अत्यंत प्रभाव पड़ता है, विशेषकर अगर संक्रमण मौसम की शुरुआत में हो।

जैविक नियंत्रण

52° सेल्सियस पर 30 मिनट के लिए गर्म पानी में बीज का उपचार करने से बीज पर से कवक हटाई जा सकती है। ध्यान दें कि यदि यह ठीक से न किया जाए (तापमान अधिक हो या अधिक समय के लिए किया जाए), तो उपचार से बीज अंकुरण भी प्रभावित हो सकता है। जब पहले धब्बे दिखाई देते हैं, तो पत्तियों पर कॉपर हाइड्रॉक्साइड युक्त उत्पादों का छिड़काव किया जा सकता है। उपचार 10-14 दिनों के अंतराल पर और फ़सल कटाई से 3-4 हफ़्ते पहले तक जारी रखना चाहिए। यह आवश्यक है कि पत्तियों के दोनों तरफ़ छिड़काव किया जाए।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ बचाव के उपाय भी साथ में करें। इस रोग से लड़ने में केप्टन (3 ग्रा/किलो) से बीज का उपचार एक अच्छा तरीका है। मिर्ची के पत्ते पर सर्कोस्पोरा धब्बा रोग को नियंत्रित करने के लिए अन्य उपचारों में शामिल हैं, कॉपर हाइड्रॉक्साइड, क्लोरोथेलोनिल या मेन्कोज़ेब का पत्तियों पर छिड़काव। उपचार तब शुरू होना चाहिए जब पहले धब्बे दिखाई देते हैं। उपचार 10-14 दिनों के अंतराल पर और फ़सल कटाई से 3-4 हफ़्ते पहले तक जारी रखना चाहिए। यह आवश्यक है कि पत्तियों के दोनों तरफ़ छिड़काव किया जाए।

निवारक उपाय

  • स्वस्थ, प्रमाणित बीज खरीदें.
  • अच्छे वायु संचार और पत्तियों को लंबे समय तक गीलेपन से बचाने के लिए आवश्यकता अनुसार पौधों के बीच जगह छोड़ें.
  • पौधों और फफुंद के बीच दूरी रखने के लिए पलवार का उपयोग करें.
  • पौधों को खड़ा रखने के लिए सहारे का उपयोग करें.
  • पत्तियों की नमी कम रखने के लिए टपक या ड्रिप सिंचाई प्रक्रिया का उपयोग करें.
  • बीज की बुवाई के स्थान की, और नए पौधों या रोपणों की रोग के लक्षणों के लिए निगरानी रखें.
  • संक्रमित पौधों को हटा दें और खेत से दूर नष्ट कर दें.
  • खेत में और उसके आसपास संवेदनशील खर-पतवार को नियंत्रित रखें.
  • जब पौधे गीले हों, तो खेत में काम न करें.
  • विस्तृत फ़सल चक्रीकरण का उपयोग करें, कम से कम 3 साल की अवधि के लिए.
  • कटाई के बाद पौधे के अवशेषों को हटा दें और नष्ट कर दें.
  • सुनिश्चित करें कि बीज के रूप में जिन फलों का उपयोग किया जा रहा है, उनमें तने के कोने की सड़न नहीं है।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!