- जौ

जौ जौ

नेट ब्लॉच

फफूंद

Pyrenophora teres


संक्षेप में

  • रोग के जालीनुमा प्रकार की विशेषता है पत्तियों पर छोटे-छोटे भूरे रंग के घाव जो एक जालीनुमा स्वरूप बनाते हैं.
  • अक्सर पीले किनारों के साथ घाव पत्तियों की सतह पर और उसके चारों ओर पैदा होते हैं.
  • रोग के धब्बेनुमा प्रकार कि विशेषता हैं, 3-6 मिमी व्यास के ठोस, भूरे, गोलाकार दाग़.
  • भूसे पर छोटी भूरी धारियों की वजह से दाने सिकुड़ जाते हैं।.
 - जौ

जौ जौ

लक्षण

नेट ब्लॉच के दो प्रकार हैं: धब्बेनुमा प्रकार और जालीनुमा प्रकार। इसके लक्षण आम तौर पर पत्तियों पर पाए जाते हैं, लेकिन कभी-कभी पत्तियों के आवरण और भूसी पर भी नज़र आ सकते हैं। जालीनुमा प्रकार में आरम्भ में छोटे-छोटे भूरे घाव दिखाई देते हैं, जो लम्बाई में बढ़ते हैं और पत्तियों के किनारों के साथ और चारों ओर पतली गहरी भूरे रंग की धारियां उत्पन्न करते हैं, जिससे एक विशिष्ट जाल जैसी संरचना बन जाती है। पुराने घाव पत्तियों की शिराओं के साथ बढ़ना जारी रखते हैं और प्रायः एक पीले किनारे से घिरे होते हैं। शुरुआत में, धब्बेनुमा प्रकार में धब्बे छोटे, ठोस, गोलाकार घाव होते हैं, जो पीले किनारों से घिरे होते हैं। बाद में, ये धब्बे बढ़ कर 3 से 6 मिमी के व्यास के हल्के या गहरे कत्थई धब्बों में बदल जाते हैं। बालियाँ भी संक्रमित हो सकती हैं। बिना जालीनुमा बनावट के छोटी भूरे रंग की धारियां डंठलों पर विकसित होती हैं, जिनके कारण उपज में कमी होती है और बीज सिकुड़ जाता हैं। संक्रमित गुठलियों के आधार पर आम से भूरे घाव होते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

नेट ब्लॉच कवक पायरेनोफ़ोरा टेरेस के कारण होता है, जो पौधों के अवशेषों तथा स्वैच्छिक पौधों पर सर्दियों भर जीवित रहता है। यह रोग संक्रमित बीजों से भी हो सकता है, किन्तु आम तौर पर ऐसा कम होता है। यह रोग हवा में उड़ते बीजाणुओं तथा वर्षा के छींटों के कारण फैलता है। 10 से 20 डिग्री सेल्सियस के तापमान के मध्य लगभग छह घंटों की नम परिस्थितियों के बाद प्राथमिक संक्रमण होता है। हवा द्वारा बीजाणुओं का बिखराव प्राथमिक संक्रमण के 14 से 20 दिनों के बाद होता है, जब परिस्थितियाँ अनुकूल होती हैं। अत्यधिक संक्रमण पत्तियों के हरित भाग तथा पौधे की उत्पादकता को कम कर देता है, तथा पत्तियों को समय से पूर्व नष्ट कर देता है। कवक तने में भी विकसित हो जाता है और फसल कटने के बाद बचे हुए खूंटों में जीवित रहता है, जहाँ से अगले मौसम में नया संक्रमण प्रारम्भ हो जाता है। नेट ब्लॉच बीजों के वज़न और दानों की गुणवत्ता को कम करता है।

जैविक नियंत्रण

माफ़ कीजियेगा, हम पायरेनोफ़ोरा टेरेस के विरुद्ध कोई नया वैकल्पिक उपचार नहीं जानते हैं। यदि आप ऐसा कुछ जानते हों जिससे इस रोग से लड़ने में सहायता मिलती हो, तो हमसे संपर्क करें। हमें आपसे यह जानकारी प्राप्त करने की प्रतीक्षा रहेगी।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा समवेत उपायों का प्रयोग करना चाहिए, जिसमें रोकथाम के उपायों के साथ जैविक उपचार, यदि उपलब्ध हो, का उपयोग किया जाए। ट्रायज़ोल तथा स्ट्रॉबिलुरिन वाले पत्तियों के कवकरोधक दोनों प्रकार के नेट ब्लॉच को नियंत्रित करने में प्रभावी हैं। टेबुकोनाज़ोल के प्रयोग से बचना चाहिए। अधिक वर्षा वाली परिस्थितियों में, दो बार छिड़काव आवश्यक हो सकता है। जहाँ संभव हो, कवकरोधकों के उपयोग के बीच में अन्य उपायों का भी इस्तेमाल करना चाहिए, जिससे प्रतिरोध के विकास की संभावना कम रखी जा सके। बीजों का उपचार सिर्फ़ जालीनुमा प्रकार के नेट ब्लॉच में ही प्रभावी होता है।

निवारक उपाय

  • स्वस्थ पौधों या प्रमाणित जीवाणु रहित स्त्रोतों से प्राप्त बीजों का प्रयोग करें.
  • यदि उपलब्ध हों, तो सहनशील प्रजातियों का उपयोग करें.
  • यदि संभव हो, तो मौसम में देर से बुआई करें.
  • रोपाई के समय बीज बोने की भूमि गर्म, नम तथा अच्छी जलनिकासी वाली होने चाहिए.
  • बीजों को आवश्यकता से अधिक गहराई में नहीं रोपना चाहिए, जिससे उन्हें पर्याप्त नमी मिल सके.
  • सुनिश्चित करें की फसल को पर्याप्त पोषण प्राप्त हो.
  • धयान रखें कि मिट्टी में पोटेशियम का स्तर पर्याप्त हो.
  • ऊपरी पत्तियों के निकलने के पास फ़सल पर ध्यानपूर्वक नज़र रखें.
  • किसी अन्य फ़सल के साथ फसल चक्रीकरण करें, दो वर्षों का अंतराल आवश्यक हो सकता है.
  • घासों तथा स्वैच्छिक फसलों पर नियंत्रण रखें.
  • फसल काटने के बाद पौधों के अवशेषों को भूमि में नीचे दबाने के लिए गहरी जुताई करें.
  • बचे हुए खूंटों के अवशेषों को अगले मौसम की बुवाई तक जितना हो सके कम रखें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!