- मक्का

मक्का मक्का

दक्षिणी ज़ंग (पुचिनिया पोलिसोरा)

फफूंद

Puccinia polysora


संक्षेप में

  • पुरानी पत्तियों के ऊपरी हिस्से पर छोटे, लाल-नारंगी, पाउडर जैसे, घने संकुचित दाने विकसित होते हैं.
  • बाद में, वे पौधे की छोटी पत्तियों और अन्य भागों में दिखाई देते हैं.
  • पत्तियों पर हरित हीनता और परिगलन के धब्बे भी मौजूद होते हैं.
  • पौधों का ख़राब स्वास्थ्य डंठल में सड़न, झुकाव और ख़राब अनाज की गुणवत्ता के लिए ज़िम्मेदार होता है।.
 - मक्का

मक्का मक्का

लक्षण

दक्षिणी ज़ंग पुरानी पत्तियों के ऊपरी तरफ़ छोटे लाल-नारंगी पिन के सिरे जैसे दानों के रूप में प्रकट होता है। यह पत्तियों के निचले हिस्से में बहुत कम नज़र आता है। ये दाने पाउडर जैसे, आकार में अंडाकार, उभरे हुए, और घने रूप से एकत्रित रहते हैं। बीमारी के बाद के चरणों में, वे घनी मात्रा में वितरित हो जाते हैं और नई पत्तियों, पत्तियों के आवरण, भूसी और डंठल पर भी दिखाई दे सकते हैं। पत्तियों पर हरित हीनता (पीलापन) और परिगलन (भूरापन) के धब्बे भी मौजूद रहते हैं। पुरानी पत्तियों की तुलना में युवा पत्तियाँ अधिक संवेदनशील रहती हैं और यही कारण हैं कि देर से लगाए गए खेतों में रोग की अधिक संभावना होती है। पौधों का ख़राब स्वास्थ्य डंठल को सड़ा देता है, उसे झुका देता है, और अनाज की ख़राब गुणवत्ता का कारण बनता है। इसके फैलने की क्षमता उपज में काफ़ी नुकसान पहुँचा सकती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

दक्षिणी ज़ंग कवक पुचिनिया पोलिसोरा की वजह से होने वाला एक रोग है, जो आमतौर पर उप-उष्णकटिबंधीय से उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में पौधों के विकास के बाद के चरणों में होता है। यह बाध्यता (ऑब्लिगेट) परजीवी है, जिसका अर्थ है कि यह केवल जीवित पौधों की सामग्री पर जीवित रह सकता है, मिट्टी के मलबे या बीज में नहीं। नतीजतन, एक मौसम में संक्रमण दूसरे मौसम में इसके होने की संभावनाओं को नहीं बढ़ाता है। संक्रमण का प्राथमिक स्रोत है अन्य खेतों या क्षेत्रों से हवा द्वारा बीजाणुओं का उड़कर आना। यह फिर हवा और पानी से एक पौधे से दूसरे पौधे तक फैलता है। भारी संक्रमण के लिए अनुकूलतम स्थिति 27 डिग्री सेल्सियस और 33 डिग्री सेल्सियस तापमान के बीच और उच्च आर्द्रता हैं। वनस्पति की अवधि के प्रारंभिक दौर में संक्रमण के कारण पौधे को तेज़ी से और भारी क्षति पहुँच सकती है।

जैविक नियंत्रण

बीजाणु अंकुरण को बाधित करने के लिए गुआको (मिकानिया ग्लोमेराटा) के पानी में बनाए अर्क का प्रयोग करें। डिस्टिल्ड वॉटर में गुआको के पूरे पत्तों को डुबोकर और 24 घंटों के लिए रेफ्रिजरेटर में घोल को रखकर यह अर्क बनाया जा सकता है। बाद में, फिल्टर पेपर से अर्क को छान लें, उसे पानी से तब तक पतला करें जब तक यह 5% की सांद्रता तक नहीं पहुंचता है। फिर, इसे पत्तियों पर लगा दें।

रासायनिक नियंत्रण

संभावित जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर विचार करना महत्वपूर्ण है। कवकनाशक को संक्रमित हिस्सों में लगाने से वे हिस्से ठीक नहीं हो सकते हैं, इसलिए इसे एक निवारक उपाय के रूप में स्वस्थ पौधों को संक्रमण से बचाने के लिए लगाया जा सकता है। पौधों की आयु, रोग की उपस्थिति और मौसम की स्थिति को ध्यान में रखते हुए, समय पर उन्हें लगाना भी महत्वपूर्ण है। मेंकोज़ेब, साइप्रोकोनाज़ोल, फ़्लुट्रियाफ़ोल के साथ फ़्लुओक्सास्ट्रोबिन, पायराक्लोस्ट्रोबिन, पायराक्लोस्ट्रोबिन के साथ मेटाकोनाज़ोल, एज़ॉक्सीस्ट्रोबिन के साथ प्रोपीकोनाज़ोल, ट्राइफ़्लोक्सिस्ट्रोबिन के साथ प्रोथियोकोनाज़ोल पर आधारित कवकनाशक रोग के असर को प्रभावी रूप से कम कर सकते हैं। उपचार का एक उदाहरण यह रहा: जैसे ही दाने दिखाई देते हैं, तो 2.5 ग्राम/लीटर के हिसाब से मेंकोज़ेब का छिड़काव करें और फूल निकलने तक 10 दिनों के अंतराल पर दोहराएं।

निवारक उपाय

  • प्रतिरोधी या सहिष्णु किस्मों का उपयोग करें.
  • मौसम में देरी से मकई लगाने से बचें.
  • फसलों को मज़बूत करने के लिए संतुलित उर्वरीकरण सुनिश्चित करें.
  • बाद के विकास चरणों के दौरान खेतों में अधिक सिंचाई से बचें.
  • रोग के किसी भी लक्षण के लिए खेत की निगरानी करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!