- मक्का

मक्का मक्का

उष्णकटिबंधीय ज़ंग

फफूंद

Physopella zeae


संक्षेप में

  • पत्तियों के दोनों तरफ़ समूहों में आयोजित गोल से लेकर अंडाकार सफ़ेद दाने पत्तियों की शिराओं के समानांतर दिखाई देते हैं.
  • जैसै-जैसे वे बड़े होते हैं, उनके केंद्र में एक स्पष्ट उज्ज्वल खुले हुए घावों के साथ दाने काले हो जाते हैं.
  • गंभीर संक्रमणों में, दाने एकत्रित होकर समय से पहले पत्तियों में गिरावट और गंभीर उपज नुकसान पैदा करते हैं।.
 - मक्का

मक्का मक्का

लक्षण

रोग के लक्षण पत्तियों की बाहरी सतह (एपिडर्मिस) के नीचे गोल से लेकर अंडाकार सफ़ेद दानों के रूप में मुख्य रूप में देखे जाते हैं। दाने, पत्तियों के दोनों किनारों पर उनकी शिराओं के समानांतर समूहों में व्यवस्थित होते हैं। जैसे ही वे बड़े होते हैं, वे बैंगनी से काले रंग के हो जाते हैं और अंततः फट पड़ते हैं, और उनके केंद्र में एक विशिष्ट उज्ज्वल खुला हुआ घाव छोड़ जाते हैं। जब हमला गंभीर होता है, तो दाने जुड़ जाते हैं, जिससे समयपूर्व पत्तियाँ गिरने लगती हैं। कवक अत्यधिक विनाशकारी है और यदि यह पौधे के कुसुमित स्तर से पहले पौधों को संक्रमित करता है, तो गंभीर उपज हानि हो सकती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

यह कवक कहीं-कहीं दिखाई देता है और केवल अमेरिकी महाद्वीप के गर्म, नम कटिबंधी इलाकों में होता है। यह एक बाध्यता (ऑब्लिगेट) परजीवी है जो एक उपयुक्त धारक के बिना अपना जीवन चक्र पूरा नहीं कर सकता है। यह मिट्टी या पौधों के मलबे में सर्दियों में जीवित नहीं रह सकता और यही कारण है कि एक ही खेत में एक मौसम से दूसरे मौसम तक संक्रमण से आसानी से बचा जा सकता है। यह मुख्य रूप से एक पौधे से दूसरे पौधे तक या हवा से विभिन्न क्षेत्रों के बीच फैलता है। उष्णकटिबंधीय ज़ंग या ट्रॉपिकल रस्ट को अधिक तापमान (22 से 30 डिग्री सेल्सियस), उच्च आर्द्रता और सौर विकिरण के उच्च स्तर से मदद मिलती है। पत्ती की सतह पर पानी की उपस्थिति बीजाणु अंकुरण को शुरू कर देती है। उष्णकटिबंधीय ज़ंग मुख्यतः तब होता है जब कम ऊंचाई पर मौसम में देर से मकई लगाई जाती है।

जैविक नियंत्रण

फ़ायसोपेला ज़ेई के खिलाफ़ कोई अन्य उपचार की जानकारी नहीं है। यदि आप किसी भी ऐसे जैविक उपचार के बारे में जानते हैं, जो इस रोग से लड़ने में या इसकी संभावना को कम करने में मदद कर सकता है, तो कृपया हमसे संपर्क करें।

रासायनिक नियंत्रण

जब भी संभव हो, उपलब्ध जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एक एकीकृत दृष्टिकोण का उपयोग करें। कवकनाशकों को पत्तियों पर लगाना तब प्रभावी हो सकता है जब पहले लक्षण उच्च मूल्य वाली फ़सलों में दिखाई देते हैं। एज़ोक्सीस्ट्रोबिन, टेबुकोनाज़ोल, या प्रोपीकोनाज़ोल या इनके संयोजनों से युक्त कवकनाशक रोग के फैलाव को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं।

निवारक उपाय

  • अपने बाज़ार में उपलब्ध प्रतिरोधी या सहिष्णु किस्मों का उपयोग करें.
  • बीमारी के लिए गैर-अनुकूलनीय अवधि के दौरान मकई लगाएं.
  • ऊंचाई पर खेतों में रोपण करने पर विचार करें.
  • खर-पतवार और कवक के अन्य धारकों को नियंत्रित रखें.
  • गैर-धारक फ़सलों के साथ चक्रीकरण करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!