- सोयाबीन

सोयाबीन सोयाबीन

सोयाबीन का श्यामव्रण (एन्थ्राक्नोज़)

फफूंद

Colletotrichum truncatum


संक्षेप में

  • फलियों तथा तने पर असामान्य भूरे धब्बे.
  • भूरी शिराएं तथा मुड़ी हुई पत्तियां.
  • फफूंद लगी हुई बंजर बीजों वाली फलियाँ.
  • संक्रमित छोटे पौधों का गिर जाना।.
 - सोयाबीन

सोयाबीन सोयाबीन

लक्षण

एन्थ्राक्नोज़ प्रायः बिना किसी लक्षण के सोयाबीन के तने, फलियों और पत्तियों को संक्रमित कर सकता है। हो सकता है कि लक्षण सिर्फ़ प्रजनन विकास की अवस्था में ही दिखाई दें। जब मौसम गर्म और नम होता है, तनों और फलियों पर असामान्य छोटे काले धब्बे दिखने लगते हैं। ये धब्बे छोटे काले धब्बों से स्वयं भी ढके हो सकते हैं। पत्तियां मुड़ने लगती हैं और शिराएं भूरी हो जाती हैं। बहुत अधिक संक्रमित फलियों में छोटे, फफूंद लगे हुए बंजर बीज पैदा होते हैं। छोटे पौधों में जल्द हुए संक्रमण से वे मर जाते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

इस रोग के कारक पौधों के अवशेषों पर एक वर्ष से अधिक तक जीवित रह सकते हैं। संक्रमित अवशेषों पर उत्पन्न बीजाणु हवा तथा वर्षा द्वारा ऊपरी पत्तियों तक फैलते हैं। आम तौर पर संक्रमण तब होता है जब पत्तियों पर नमी, वर्षा या ओस का समय प्रतिदिन 12 घंटे से अधिक होता है। हालांकि, रोग का पैदावार पर कम असर होता है, लेकिन पौधों तथा बीजों की गुणवत्ता कम हो सकती है। अनुकूल परिस्थितियों वाले प्रदेशों में (नम मिट्टी, गर्म तथा नम मौसम), फसल को नुकसान अधिक हो सकता है।

जैविक नियंत्रण

अब तक एन्थ्राक्नोज़ के लिए कोई जैविक उपचार उपलब्ध नहीं है।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा समवेत उपायों का प्रयोग करना चाहिए जिसमें रोकथाम के उपायों के साथ जैविक उपचार, यदि उपलब्ध हो, का उपयोग किया जाए। यदि 5 प्रतिशत से अधिक बीज संक्रमित हैं, तो फफूंदरोधक के प्रयोग की सलाह दी जाती है। क्लोरोथेलोनिल, मेंकोज़ेब, कॉपर स्प्रे या प्रोपिकोनाज़ोल और प्रणालीगत फफूंदरोधक थियोफ़ेनेट-मीथाइल का प्रयोग किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • प्रमाणित उच्च गुणवत्ता वाले बीजों को ही बोएं.
  • दूकानदार से सलाह लें कि सहनशील प्रजातियाँ उपलब्ध हैं या नहीं.
  • रोगजनक कारकों का जमाव रोकने के लिए गैर-धारक फसलों के साथ चक्रीकरण करें.
  • कतारों में 50 सेमी. से कम दूरी न रखें.
  • पौधों पर नियमित रूप से नज़र रखें और औज़ार तथा उपकरणों को साफ़ रखें.
  • उचित तापमान पर बीजों का भण्डारण करें.
  • हल चला कर पौधों के अवशेषों को दबा दें अथवा उन्हें जला दें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!