- कपास

कपास कपास

कपास का श्यामवर्ण (एन्थ्राक्नोज़)

फफूंद

Glomerella gossypii


संक्षेप में

  • पौधों के सभी भागों पर काले परिगलित किनारों वाले लाल से हलके कत्थई धब्बे.
  • तने के घाव पौधों के मृत होने का कारण बन सकते हैं.
  • बीजकोषों में पानी से भरे धब्बे होते हैं, जो बाद में फैलकर धंसे हुए, पीले घाव बन जाते हैं।.
 - कपास

कपास कपास

लक्षण

कपास में श्यामवर्ण विभिन्न विकास चरणों के दौरान हो सकता है तथा सभी ऊतकों को प्रभावित कर सकता है। यदि अंकुर संक्रमित होते हैं, तो बीजपत्र और प्राथमिक पत्तियों पर काले परिगलित किनारों वाले लाल से हल्के कत्थई धब्बे हो सकते हैं। अगर घाव जोड़ों पर होते हैं, तो तना चारों ओर इससे घिर सकता है, जिससे अंकुर और युवा पौधे मुरझाकर मर जाते हैं। बड़े पौधों में, तने के संक्रमण और बसावट के कारण छाल फट सकती है और उसके छोटे-छोटे टुकड़े हो सकते हैं। प्रभावित बीजकोषों में छोटे, गोलाकार, पानी से लथपथ धब्बे होते हैं जो नम परिस्थितियों में तेज़ी से धंसे हुए, पीले से भूरे घाव बन सकते हैं। रोएं अव्यवस्थित और रेशों के भुरभुरे गुच्छे बन सकते हैं, और पीले से भूरे हो सकते हैं। यह भी हो सकता है कि संक्रमित बीजकोष बढ़ना बंद कर दें, सूख जाएं, और समय से पूर्व फट जाएं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

ये लक्षण कवक कोलेक्टोट्रिकम गोसिपियम, जिसे ग्लोमेरेला गोसिपी भी कहा जाता है, के कारण होते हैं। यह एक मौसम से दूसरे मौसम तक सुप्तावस्था में या मिट्टी में उपस्थित संक्रमित बीजों में जीवित रह सकते हैं और जैसे ही अनुकूल मौसम परिस्थितियां मिलती हैं, यह फिर से विकसित होने लगते हैं। ये संक्रमित पौधों के मलबे, सड़े हुए बीज कोषों या दूषित बीजों के माध्यम से लंबी दूरी तक फैल सकते हैं। खेतों में, अतिरिक्त संक्रमण हवा, बारिश, बारिश की छींटों और कीड़ों के माध्यम से बीजाणु द्वारा फैल सकता है। रोगजनक खरपतवार धारकों, एरिस्टिलेचिया ब्रेक्टियाटा और हिबिस्कस डाइवर्सिफ़ोलियस, पर भी जीवित रह सकता है। बीजकोष बनने के दौरान विकास के लिए गर्म और आर्द्र मौसम (29 से 33 डिग्री से.) और देर तक चलने वाली बारिश, तथा पौधों के बीच कम दूरी इसके विकास के लिए अनुकूल हैं।

जैविक नियंत्रण

आज तक, हमें इस रोग के विरुद्ध किसी भी जैविक नियंत्रक विधि के बारे में नहीं पता है। अगर आपको किसी ऐसी विधि के बारे में जानकारी है जो इस रोग की संभावना को कम कर सके या लक्षणों की गंभीरता को कम कर सके, तो कृपया हमसे संपर्क करें।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। केप्टेन, कार्बोक्सिन या थिरम जैसे कवकनाशकों का बीजों के उपचार के लिए उपयोग (आमतौर पर, 2 ग्राम/किलो ग्राम बीज के हिसाब से) रोग की संभावना को कम कर सकता है। बीज बनने के चरण के दौरान मेंकोज़ेब, कॉपर ऑक्सिक्लोराइड का पत्तियों पर छिड़काव भी लक्षणों की गंभीरता को कम कर सकता है।

निवारक उपाय

  • कृपया अपने देश में क्वारंटाइन नियमों के बारे में जानकारी प्राप्त करें.
  • सिर्फ़ स्वस्थ तथा जीवाणु रहित बीजों का ही प्रयोग करें.
  • जलभराव और अत्यधिक सिंचाई से बचें.
  • स्प्रिंकलर से सिंचाई न करें.
  • संक्रमित पौधों के अवशेषों को हटा दें तथा उन्हें जला दें.
  • फसलों का चक्रीकरण करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!