- बैंगन

बैंगन बैंगन

बैंगन की पत्तियों का कवक (सरकोस्पोरा लीफ़ स्पॉट)

फफूंद

Cercospora melongenae


संक्षेप में

  • छोटे, गोल, पीले और थोड़े धंसे हुए धब्बे पत्तियों की ऊपरी तरफ़ दिखाई देते हैं.
  • धब्बे बड़े होते हुए एक-साथ जुड़ जाते हैं, और एक पीले परिवेश के साथ भूरे रंग के और अनियमित हो जाते हैं.
  • भारी संक्रमण से पत्तियाँ मुड़ सकती हैं और अपरिपक्व रह जाती हैं, जिसके बाद वे झड़ने लगती हैं.
  • भारी संक्रमण से उपज में कमी आ जाती है।.
 - बैंगन

बैंगन बैंगन

लक्षण

संक्रमण किसी भी विकास के चरण में हो सकता है और पत्तियों, डंठलों और तने पर दिखाई देता है। शुरुआती लक्षण पुरानी, निचली पत्तियों के ऊपरी तरफ़ छोटे, गोल और थोड़े धंसे हुए धब्बों के रूप में दिखाई देते हैं। समय के साथ, धब्बे बड़े, अधिक अनियमित होते जाते हैं और पीले रंग के परिवेश से घिरे रहते हैं। बाद में, पत्तियों के धब्बे दोनों सतहों पर दिखाई देते हैं। पुराने धब्बे जुड़ जाते हैं और पत्तियों पर अपने स्थान के आधार पर विभन्न स्वरूप धारण कर लेते हैं। वे भूरे रंग से लेकर स्लेटी रंग के (ऊपरी तरफ़) और हल्के भूरे रंग (निचले हिस्से) के होते हैं। यदि भारी संक्रमण हो, तो पत्तियाँ मुड़कर गिर सकती हैं। हालांकि कवक फल को सीधे संक्रमित नहीं करता है, फिर भी पौधों की उत्पादकता की कमी के कारण फलों के विकास में कमी आ सकती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

सरकोस्पोरा मेलोंगेना पौधे का रोगजनक कवक है। कवक के बीजाणु पौधे के मलबे और मिट्टी में कम से कम 1 वर्ष तक जीवित रह सकते हैं। तब वे विभिन्न तरीकों से निचली, पुरानी पत्तियों पर पहुँच जाते हैं। अधिकतर वे हवा और पानी (बारिश और सिंचाई) के द्वारा फैलते हैं, लेकिन ये संक्रमित औज़ारों और व्यक्तियों द्वारा भी फैल सकते हैं। यह तब तने से होता हुआ युवा पत्तियों तक पहुँच जाता है। नमी और उच्च आर्द्रता रोग के संक्रमण और विकास के लिए अनुकूल हैं। यही कारण है कि यह बरसात के मौसम (गीला मौसम, पौधे का निरंतर गीला रहना) के दौरान अधिक आम है।

जैविक नियंत्रण

जैविक कारक संक्रमण को नियंत्रित करने में मदद कर सकते हैं। बैक्टीरिया बैसिलस सब्टिलिस प्रजाति QST 713 पर आधारित जैविक कवकनाशियों का उपयोग सरकोस्पोरा मेलोंगेना के विरुद्ध पत्तियों पर छिड़काव के रूप में किया जा सकता है। अज़ाडिरेक्टा इंडिका (नीम तेल) के पौधे का अर्क भी संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए सहायक हो सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

रोग को नियंत्रित करने के लिए एक एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार किया जाना चाहिए। अगर कवकनाशकों की ज़रूरत होती है, तो तांबे के नमक के साथ संयोजन में क्लोरोथेलोनिल, मेंकोज़ेब, या ओक्टेनॉयक एसिड युक्त उत्पादों का पत्तियों पर छिड़काव करने के लिए और मिट्टी में लगाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • सहिष्णु या प्रतिरोधी क़िस्में लगाएं.
  • स्वस्थ या प्रमाणित रोगजनक-मुक्त बीज और पौधों की सामग्री का उपयोग करें.
  • अच्छा वायुसंचालन सुनिश्चित करने और रोग के प्रसार से बचने के लिए पौधों के बीच अच्छी दूरी बनाए रखें.
  • पर्याप्त उर्वरिकरण सुनिश्चित करें.
  • नमी को कम करने के लिए अत्यधिक सिंचाई से बचें और ऊपरी छिड़काव का उपयोग न करें.
  • शाम के बजाय सुबह पानी दें.
  • पौधों के गीला होने पर काम करने से बचें.
  • अत्यधिक खर-पतवार न उगने दें.
  • संक्रमित पौधों और अपने कचरे को निकाल दें या जलाकर या जोतकर नष्ट कर दें.
  • गैर-धारक फ़सलों के साथ कुछ समय के लिए फ़सल चक्रीकरण की सिफ़ारिश दी जाती है।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!