- काबुली चना

काबुली चना काबुली चना

एस्कोशिटा ब्लाइट

फफूंद

Didymella rabiei


संक्षेप में

  • पत्तियों, तनों या फलियों पर पानी से भरे धब्बे दिखाई देते हैं, जो अंत में भूरे हो जाते हैं.
  • पत्तियों पर, ये एक विशेष गहरे रंगे के संक्रेंदित छल्ले बनाते हैं.
  • खेतों में, दूर से अंगमारी से ग्रस्त पौधों के समूह दिखाई पड़ते हैं।.
 - काबुली चना

काबुली चना काबुली चना

लक्षण

पुराने पौधों पर, रोग सबसे पहले पत्तियों पर फीके रंग के पानी से भरे धब्बों के रूप में दिखाई देता है। समय के साथ, ये घाव भूरे हो जाते हैं और इसके बीच में छोटे काले दाग़ दिखाई देने लगते हैं, जो गहरे रंग के किनारों वाले संक्रेंद्रित छल्ले बनाते हैं। तनों पर भी काले दाग़ों के साथ लंबे से लेकर अंडाकार भूरे घाव बन सकते हैं। गंभीर मामलों में, तने इससे घिर जाते हैं और अंततः प्रतिकूल मौसम में अलग हो जाते हैं। फलियों के घाव पत्तियों के घाव के समान नज़र आते हैं। पूरे के पूरे पौधे झुलस सकते है, और यह खेत में भूरे समूहों के रूप में दिखता है। बीज संक्रमित हो सकते हैं और रोग को अंकुरों तक पहुंचा देते हैं, जिनके तने के आधार पर गहरे भूरे घाव बन जाते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षण का कारण फफूंद डिडायमेला रैबिये है, जिसे पहले एस्कोशिटा रैबिये के नाम से जाना जाता था, और यही से इस रोग को इसका नाम भी मिला है। यह कई वर्षों तक पौधों के अवशेषों पर सर्दियां बिता सकता है। अनुकूल स्थितियों में, यह बीजाणु उत्पन्न करता है, जो बाद में हवा और पानी की छींटों से फैल सकता है, कभी-कभी कई किलोमीटर की दूरी तक। ठंडा और गीला मौसम, उच्च नमी, सुबह की ओस और लंबे समय के लिए पत्तियों का गीलापन (2 घंटों से ज़्यादा) रोग के फैलने में मदद करता है। फफूंद, तापमान की एक व्यापक सीमा के भीतर विकसित हो सकता है (5 से 30 डिग्री सेल्सियस), लेकिन इसका उच्चतम विकास 15 से 25 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर होता है। यदि परिस्थितियां अनुकूल हों, तो फ़सल विकास के मौसम के दौरान संक्रमण के कई चक्र हो सकते हैं।

जैविक नियंत्रण

माफ़ कीजियेगा, एस्कोशिटा ब्लाइट के विरुद्ध हमें कोई भी वैल्काल्पिक उपचार ज्ञात नहीं है। यदि आपको ऐसा कुछ पता है जिससे हमें इस रोग का सामना करने में सहायता मिलती हो, तो कृपया हमसे संपर्क करें। हम आपके सुझाव की प्रतीक्षा रहेगी।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो रोकथाम उपायों के साथ जैविक उपचारों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। बुवाई से पहले, बीजों का उपचार थिरैम या थिरैम के साथ थायबेंडाज़ोल पर आधारित एक लेप से किया जा सकता है। रोग को पैदा होने से रोकने के लिए, फूल खिलने के चरण से पहले निवारक कवकनाशकों (जैसे, क्लोरोथेलोनिल) को लगाया जा सकता है। रोग का पता लगने के बाद, पत्तियों के कवकनाशकों से साथ पूरे पौधे पर प्रभाव डालने वाले उत्पाद (बॉस्कैलिड, मैंकोज़ेब, पायराक्लोस्ट्रोबिन के साथ फ़्लुक्सापायरोक्सैड या ट्रायज़ोलिनथियोन श्रेणी के उत्पाद) के उपयोग की सिफ़ारिश दी जाती है। गंभीर उपज हानि से बचने के लिए, फ़सल विकास के पूरे मौसम के दौरान, उपचारों का उपयोग करना पड़ सकता है।

निवारक उपाय

  • यदि उपलब्ध हों, तो अधिक सहनशील क़िस्मों का रोपण करें.
  • प्रमाणित रोग-मुक्त बीज सामग्री चुनें या एक स्वस्थ खेत के बीजों का उपयोग करें.
  • बीज बुवाई के दर की सिफ़ारिशों का पालन करें.
  • रोग के सबसे बुरे प्रभाव से बचने के लिए देर से रोपाई करें.
  • रोग के संकेतों के लिए खेतों की निगरानी करें.
  • खेत में और उसके आसपास, अपने आप उगने वाले पौधों और खरपतवार को उखाड़ फेंकें.
  • उपज पर सबसे बुरे प्रभाव से बचने के लिए जितनी जल्दी हो सके उतनी जल्दी कटाई करें.
  • खेती के स्वच्छ अभ्यासों का उपयोग करें, उदाहरण के तौर पर, खेतों की जांच के बाद जूतों और कपड़ों को धो लें.
  • एक ही खेत में चने की तीन साल में केवल एक बार बुवाई करें (फ़सल चक्रीकरण)।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!