- सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

मेल सेको (फ़ोमा ट्रैकीफ़िला)

फफूंद

Phoma tracheiphila


संक्षेप में

  • वसंत में, नई टहनियों और पत्तियों की शिराओं के बीच पर्णहरित हीनता (इंटरवीनल क्लोरोसिस) के बाद टहनियों का शीर्षारंभी क्षय.
  • अंकुरों और महीन जड़ क्रमशः संक्रमित शाखाओं और मूल जड़ के आधार पर बढ़ती हैं.
  • आंतरिक शिराओं में गोंद का उत्पादन, जो गुलाबी या नारंगी बदरंगपन के रूप में दिखता है।.
 - सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

लक्षण

लक्षण पहले व्यक्तिगत शाखाओं या क्षेत्रों में प्रकट हो सकते हैं, और यदि इनका उपचार नहीं किया जाता है, तो बाकी के पेड़ तक फैल सकते हैं, जो फिर मर सकता है। पहले लक्षण नई टहनियों और पत्तियों की शिराओं के बीच पर्णहरित हीनता के रूप में वसंत में दिखाई देते हैं, जिसके बाद टहनियों और शाखाओं का शीर्षारंभी क्षय शुरू हो जाता है। सूखी हुई टहनियों के सीसा या राख के जैसे धूमैले रंग के क्षेत्रों में उभरे हुए काले रंग के स्थान बीजाणुओं के गुच्छों का संकेत देते हैं। मूल जड़ से प्रभावित शाखाओं और महीन जड़ों के आधार से अंकुरों का निकलना रोग के धारक की एक बहुत आम प्रतिक्रिया है। जब संक्रमित टहनियों, शाखाओं या तनों की लकड़ी काटी जाती है या छाल छीली जाती है, तो लकड़ी का रंग हल्का गुलाबी या नारंगी लाल जैसा बदरंग दिखाई देता है। यह आंतरिक लक्षण शिराओं के भीतर गोंद उत्पादन के साथ जुड़ा हुआ है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

कवक पत्तियों, शाखाओं और जड़ों में घावों के माध्यम से प्रवेश करता है। माना जाता है कि बीजाणु पानी में रहते हैं। कवक चार महीनों से अधिक समय के लिए मिट्टी में संक्रमित टहनियों या शाखाओं के भीतर जीवित रह सकता है। यह कई हफ़्तों तक संक्रमण का एक बड़ा स्रोत हो सकता है। बारिश की बौछार या ऊपरी सिंचाई द्वारा पेड़ों और मलबे से बीजाणु फैलते हैं। कुछ हवा में भी उड़ सकते हैं। कवक आमतौर पर केवल थोड़ी दूरी पर फैलता है, प्रारंभिक स्रोत से 15 और 20 मीटर की दूरी के बीच, लेकिन हवा की दिशा ये दूरी बढ़ा सकती है। जिस तापमान पर संक्रमण होता है वह 14 से 28 डिग्री सेल्सियस के बीच है, 20-25 डिग्री सेल्सियस इष्टतम स्थिति है।

जैविक नियंत्रण

तांबे पर आधारित कवकनाशकों का रोगजनक के खिलाफ़ इस्तेमाल किया जा सकता है। शरद ऋतु से वसंत तक की सबसे बड़ी संवेदनशीलता की अवधि के दौरान, तांबे के संरक्षक कवकनाशकों को बार-बार छतरी पर लगाने की आवश्यकता होगी। देखा गया है कि राइज़ोस्फ़ेयर में रहने वाले स्यूडोमोनस बैक्टीरिया, जैसे स्यूडोमोनस फ़्लुरेसेसेन्स और स्यूडोमोनस प्युटिडा भी फ़ोमा ट्रेकिफ़ीला के विकास को रोकते हैं।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। ज़िराम पर आधारित उत्पाद (ज़िंक डाइमिथाइल डिथिओकार्बामेट) फ़ोमा ट्रैकिफ़िला के नियंत्रण में काफ़ी प्रभावी हैं। कारबॉक्सीन और बेंन्ज़िमिडाज़ोल जैसे जैविक उत्पाद भी निवारक उपचार के रूप में प्रभावी हैं। एक संरक्षक और जैविक कवकनाशक के मिश्रण की सिफ़ारिश दी जाती है, विशेष रूप से पेड़ों को घाव पहुँचाने वाली तेज़ ठंड, ओले, या तेज़ हवाओं जैसी मौसम की परिस्थितियों के बाद।

निवारक उपाय

  • प्रमाणित स्रोतों से बीज खरीदें.
  • यदि क्षेत्र में उपलब्ध हों, तो प्रतिरोधी किस्म लगाएं.
  • उन क्षेत्रों की नर्सरी से पौधों का उपयोग न करें जहां रोग आम है.
  • जैसे ही पहले लक्षण दिखाई देते हैं, पेड़ों की छंटाई करें.
  • बगीचे की नियमित रूप से जाँच करें और पेड़ों के निकले हुए तनों सहित संक्रमित पौधे के हिस्सों को तुरंत नष्ट कर दें.
  • खेतीबाड़ी के दौरान चोट से बचाया जाना चाहिए।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!