- सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

साइट्रस की तेल ग्रंथियों का संक्रमण (मेलानोज़)

फफूंद

Diaporthe citri


संक्षेप में

  • फलों पर तेल ग्रंथियों के चारों ओर लाल-भूर से काले-भूरे रंग के धब्बे दिखाई देते हैं.
  • ऊतकों पर घाव और दरारें नज़र आने लगती हैं और फल समय से पहले गिर सकते हैं.
  • पत्तियों पर पीले रंग के परिवेश के साथ थोड़े-से उभरे हुए छोटे भूरे रंग के धब्बे दिखाई पड़ते हैं, जो लाल-भूरे रंग की गोंद से भीगे हुए होते हैं।.
 - सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

लक्षण

मेलानोज़ के लक्षण फलों की परिपक्वता के अंतिम चरणों में लाल-भूरे रंग से काले-भूरे रंग के धब्बों (0.2 - 1.5 मिमी आकार) के रूप में दिखाई देते हैं। त्वचा पर उपस्थित तेल ग्रंथियों के आसपास ये धब्बे बन जाते हैं। संक्रमण की प्रक्रिया में ऊतकों पर घाव और दरारें सामान्य हैं। फलों का विकास अवरुद्ध हो सकता है और वे समयपूर्व गिर सकते हैं। अन्य रोगों के कारण इसी तरह के धब्बों के विपरीत, मेलानोज़ के धब्बे छूए जाने पर रेती जैसे लगते हैं। पूरी तरह से पके फलों पर रोगजनक फल सड़ांध का कारण बन जाता है, जो आम तौर पर डंठल से विकसित होता है और इससे फल जल्दी गिर सकते हैं। पत्तियों पर लक्षण पहले छोटे भूरे रंग के अनिरंतर धब्बों के रूप में प्रकट होते हैं, जो बाद में लाल-भूरे रंग की गोंद से भरे और उभरे हुए फोड़ों की तरह दिखने लगते हैं। वे अक्सर एक पीले रंग के परिवेश से घिरे होते हैं, जो अंततः छोटे, कड़े कॉर्क जैसे फोड़े बन जाते हैं। भंडारण के दौरान, तने के कोनों से जुड़े फल के हिस्सों की सड़ांध हो सकती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

मेलानोज़ एक सड़न पैदा करने वाला प्राणी है, जो मृत टहनियों पर अपना जीवन चक्र पूरा करता है। बीमारी की गंभीरता मृत लकड़ी पर फफूंद की मात्रा और वर्षा या ऊपरी सिंचाई के बाद निरंतर गीलेपन की अवधि से निर्धारित होती है। संक्रमण होने के लिए लगभग 18-24 घंटे का गीलापन और 20-24 डिग्री सेल्सियस के बीच का तापमान आवश्यक है। पेड़ों पर, ज़मीन पर, या वृक्ष समूह में पेड़ों की सामग्री के ढेर पर मृत लकड़ी की अत्यधिक मात्रा होने पर बीजाणु समस्या पैदा करते हैं।

जैविक नियंत्रण

डी. सिट्री के उपचार के लिए जैविक कॉपर यौगिक युक्त स्प्रे का उपयोग करें। प्रारंभिक छ्ड़िकाव पंखड़ियों के गिरने पर होना चाहिए, उसके 6-8 सप्ताह बाद एक बार और उपचार किया जाना चाहिए।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। वसंत के अच्छे विकास के दौरान पायराक्लोस्ट्रोबिन का लगाना फलों पर मेलानोज़ का विकास रोकने के लिए प्रभावी साबित हुआ है। मेंकोज़ेब और फ़ेनबुकोनाज़ोल पर आधारित उत्पादों की भी सिफ़ारिश दी जाती है। स्ट्रोबिलुरिन कवकनाशी भी संतोषजनक परिणाम देते हैं और इन्हें भी लगाया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • बगीचे से मृत पेड़ सामग्री नियमित रूप से हटाएं.
  • क्षतिग्रस्त या मरने वाले हिस्सों के पेड़ों को प्रति वर्ष 1-2 बार छांटें.
  • रोगजनक के प्रति पौधों के शारीरिक प्रतिरोध को बेहतर करने के लिए वृक्षों का संतुलित उर्वरीकरण सुनिश्चित करें.
  • रोग के लक्षणों के लिए नियमित रूप से जाँच करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!