- मूंगफली

मूंगफली मूंगफली

लोबिया में राख जैसी तने की अंगमारी

फफूंद

Macrophomina phaseolina


संक्षेप में

  • शिथिलन, लटकती हुई छोटी पत्तियां और पत्तियों के ऊतकों में हरित रोग.
  • ऊतकों का भूसे जैसे रंग वाला होना.
  • जड़ों का सड़ जाना, काला रंग दिखने लगना, बाहर और अन्दर कटी हुई छाल और सूक्ष्म गहरी फंफूद दिखना।.
 - मूंगफली

मूंगफली मूंगफली

लक्षण

इस रोग के लक्षण आमतौर पर पुष्पीकरण अवस्था से पहले दिखाई देते हैं। वे पहले पौधे के शीर्ष भाग तक सीमित रहते हैं और इसमें लटकती हुई छोटी पत्तियां भी शामिल होती हैं और साथ ही डंठलो तथा ऊतकों का हरित रोग भी शामिल होता है। नीचे की पत्तियां और प्रभावित पौधे अक्सर भूसे के रंग वाले और कुछ स्थितियों में भूरे-से होते हैं। सड़ाध के लक्षणस्वरूप मूसल जड़ें काली पड़ जाती हैं और बाद में पार्श्व, द्वितीयक जड़ें और मूल भाग गायब हो जाते हैं। मृत ऊतक जड़ों को बिल्कुल नाज़ुक बना देते हैं और छाल फट जाती है। जब पौधे को जड़ से खींचते हैं, तो वह आसानी से टूट जाता हैं और जड़ का निचला हिस्सा ज़मीन में ही रह जाता है। जोड़ वाले हिस्से के लम्बवत भाग पर छाल में अन्दर की तरफ़ और बाहरी ऊतक पर सूक्ष्म फफूंद दिखाई पड़ता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

यह एक मिट्टी में पैदा होने वाला रोग है जो मिट्टी में पैदा होने वाले मेक्रोफ़ोमिना फ़ेज़ोलीना कवक के सूत्रों या के बीजाणुओं से शुरू होता है। लक्षण अचानक पैदा होते हैं जब आस पास का तापमान के 25-30 सेल्सियस होता है। तब तक, फफूंद पोधों के ऊतकों के एक बड़े हिस्से पर आबादी बसा चुका होता है और धीरे-धीरे उन्हें नष्ट करने लगता है। तापमान के बढ़ने तथा अक्सर नमी होने पर उष्णकटिबंधीय नम क्षेत्रों में आर. बटाटीकोला विशिष्ट रूप से प्रबल होता जा रहा है। पुष्पीकरण व फली बनने की अवस्था में 30° सेल्सियस से अधिक तापमान और शुष्क मिट्टी इस बीमारी की तीव्रता को भयानक रूप से बढ़ती है। कुछ मामलों में, सर्दी में बनाई गई फफूंद संरचनाएं, जिन्हें स्कलेरोशिया भी कहते हैं, मिट्टी में 6 साल तक बनी रहती हैं।

जैविक नियंत्रण

जैवनियंत्रक तत्वों जैसे ट्राइकोडर्मा विरिडे , स्यूडोमोनस फ़्लोरेसेंस और बैसिलस सबटीलिस भी इस बीमारी को नियंत्रित करने में लाभकारी है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें।। थियोफ़ेनेट मिथाइल और विटावेक्स से कवकनाशी बीज उपचार और इस रोग को काफ़ी कम करती है। केप्टेन , थीरेम, या बेनलेट से बीजों का उपचार भी रोग को कम कर सकता है (आमतौर पर, 3 ग्राम/बीज किलोग्राम)।

निवारक उपाय

  • परिपक्वता के दौरान उच्च तापमान से बचाने के लिए जल्दी परिपक्व होने वाली किस्मों को बोयें ताकि संक्रमण कम रहे.
  • बीमारी के लक्षणों का पता लगाने के लिए खेतों का नियमित निरीक्षण करें.
  • 3-सालों वाला फसल चक्रीकरण अपनायें जिससे मिट्टी में सर्दियों में बनी रहने वाली संरचनाओं को कम किया जा सके.
  • गहरी जुताई करें और पौधों के अवशेषों को खेतों से हटा दें और उन्हें नष्ट कर दें.
  • सिंचाई द्वारा पौधरोपण से लेकर फली भरने तक मिट्टी में नमी रखें लेकिन पानी की अधिकता न करें.
  • बीमारियों की परिस्थितियों को कम करने के लिए उच्च दरों वाले उर्वरकों के प्रयोग से बचें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!