- शिमला मिर्च एवं मिर्च

शिमला मिर्च एवं मिर्च शिमला मिर्च एवं मिर्च

मिर्च के एन्थ्राक्नोज़ (फफूंद)

फफूंद

Colletotrichum sp.


संक्षेप में

  • फलों पर घाव.
  • पत्तियों और तनों पर गहरे भूरे किनारों वाले भूरे कत्थई धब्बे दिखते हैं.
  • फलों के धब्बों में संकेंद्रित छल्ले दिखते हैं.
  • टहनियां मरने लगती हैं (शीर्षारंभी क्षय) और फल सड़ने लगते हैं।.
 - शिमला मिर्च एवं मिर्च

शिमला मिर्च एवं मिर्च शिमला मिर्च एवं मिर्च

लक्षण

फलों पर पानी सोखे हुए गोल या मुड़े हुए घाव, जो बाद में नरम और थोड़े धँस जाते हैं। घाव के बीच का हिस्सा या तो नारंगी या भूरा होता है और काला हो जाता है, जबकि आस-पास के उत्तकों का हल्का रंग होता है। घाव फल की ज़्यादातर सतह पर हो सकता है। कई घाव होते हैं। फल के धब्बों में सकेन्द्रिय गोले होना आम बात है। हरे फल भी संक्रमित हो सकते हैं, लेकिन जब तक वे पक नहीं जाते उन्हें कोई लक्षण नहीं दिखाई देते हैं। पत्तों और टहनी पर छोटे, असामान्य आकृति के गहरे भूरे किनारों वाले स्लेटी-भूरे धब्बे मिलते हैं। मौसम के अंत के आसपास, पके हुए फल सड़ जाते हैं और शाखाओं में शीर्षारंभी क्षय दिखने लगता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

यह रोग सी. ग्लोस्पोरियोड्स और सी. कैप्सिकी जैसे कॉलेटोट्रिचम जाति के फफूंद के कारण होते हैं। ये रोगजनक पके हुए और कच्चे फलों, और फसल कटाई के बाद मिर्च के पौधों को लगभग हर विकास चरण में संक्रमित कर सकते हैं। ये बीजों के ऊपर या भीतर, पौधे के मलबे या सोलनसेई जैसे वैकल्पिक परपोषी पौधों पर पलते हैं। इसे संक्रमित प्रत्यारोपण द्वारा नए सिरे से भी पेश किया जा सकता है। फफूंद गर्म और गीले मौसम में बढ़ता है, और यह बारिश या सिंचाई के पानी द्वारा फैल सकता है। फल संक्रमण 10° सेल्सियस से 30° सेल्सियस के तापमान पर हो सकता है, जबकि 23° सेल्सियस से 27° सेल्सियस में रोग ज़्यादा बढ़ता है। फल की सतह की नमी एन्थ्राक्नोज़ (फफूंद) की तीव्रता को बढ़ाती है।

जैविक नियंत्रण

ख़राब बीजों का 30 मिनट तक 52° सेल्सियस गर्म पानी में भिगोकर उपचार किया जा सकता है। तापमान और समय का ध्यान रखें ताकि उपचार का अच्छा परिणाम मिले।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ बचाव के उपाय भी साथ में करें। यदि फफूंदीनाशक की आवश्यकता है, तो मेन्कोज़ेब या तांबे पर आधारित उत्पादों का छिड़काव करें। फूलों के खिलने पर इलाज शुरू करें।

निवारक उपाय

  • रोपण से पूर्व मिट्टी में उसकी कार्बन की मात्रा बढाने के लिए खाद मिलाएं.
  • जलभराव से बचने के लिए खेतों की अच्छी जलनिकासी की योजना बनाएं.
  • मिट्टी और पौधों के मध्य जीवाणुओं के संक्रमण से बचने के लिए कतारों के बीच पलवार का उपयोग करें.
  • यदि आपके क्षेत्र में उपलब्ध हों तो प्रतिरोधी प्रकार की किस्में उगाएं.
  • प्रमाणित स्रोतों और स्वस्थ पौधों वाले बीजों का उपयोग करें.
  • बोने से पहले देख लें कि कहीं अंकुरों की पत्तियाँ धब्बे वाली तो नहीं हैं.
  • फसल का चक्रीकरण करें, लेकिन मिर्च, टमाटर या स्ट्रॉबेरी की दूसरी फसल से नहीं.
  • खेत और जंगली घास का ध्यान रखें.
  • ऊपर से सिंचाई न करें, अगर करें तो केवल सुबह के समय करें.
  • फसल कटाई के बाद बचे कचरे को हटा दें या जलाकर नष्ट कर दें.
  • फसल चक्रीकरण करें किंतु मिर्च, टमाटर या स्ट्राबेरी की अन्य प्रजातियों के साथ चक्रीकरण न करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!