- मक्का

मक्का मक्का

दक्षिणी मकई की पत्तियों का कवक रोग

फफूंद

Cochliobolus heterostrophus


संक्षेप में

  • पहले, भूरे किनारों वाले पीले-भूरे, हीरे के आकार से लेकर लंबे घाव निचली पत्तियों पर दिखाई देते हैं.
  • ये घाव विभिन्न आकार के होते हैं और वे पत्तियों की शिराओं के आगे तक जाते हैं.
  • अतिसंवेदनशील पौधों में, वे जुड़ जाते हैं, जिसके परिणामस्वरूप पत्तियों के बड़े हिस्सों को पूरी तरह नुकसान पहुँचता है.
  • रोग के बाद के चरणों में भूरे रंग के आवरण और विकृतियों को भी देखा जा सकता है।.
 - मक्का

मक्का मक्का

लक्षण

रोगजनक की शक्ति, पौधे की किस्म और पर्यावरणीय परिस्थितियों के आधार पर लक्षण थोड़े भिन्न होंगे। भूरे किनारों के साथ पीले-भूरे, हीरे के आकार से लेकर लम्बे घाव पहले नीचे की पत्तियों पर दिखाई देते हैं और फिर धीरे-धीरे नई पत्तियों तक पहुँच जाते हैं। घाव विभिन्न आकार के होते हैं और वे पत्तियों की शिराओं के आगे तक जाते हैं। अतिसंवेदनशील पौधों में, घाव एकत्र होकर पत्तियों के बड़े हिस्सों को पूरी तरह ढक देते हैं। अतिसंवेदनशील पौधों में, वे जुड़ जाते हैं, जिसके परिणामस्वरूप पत्तियों के बड़े हिस्सों को पूरी तरह नुकसान पहुँचता है। रोग के बाद के चरणों में दानों में भी स्लेटी रंग के आवरण और विकृतियां देखी जा सकती हैं। पत्तियों को नुकसान के कारण होने वाली उपज में हानि के कारण पौधे मुरझा जाते हैं और टहनियां टूट जाती हैं। डंठलों का झुकना शुरू हो सकता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

यह रोग, कोकलियोबोलस हेट्रोस्ट्रोफ़ु (जिसे बायपोलारिस मेडिस भी कहा जाता है) के कारण होता है। यह कवक मिट्टी में पौधे के अवशेषों में जीवित रहता है। जब स्थिति अनुकूल होती है, तो यह बीजाणु पैदा करता है, जो हवा और बारिश की बौछार से नए पौधों तक फैल जाते हैं। यह पत्तियों पर बढ़ता है और 72 घंटों के भीतर अपने जीवन चक्र (संक्रमण से नए बीजाणुओं के उत्पादन तक) को पूरा कर सकता है। कवक और संक्रमण की प्रक्रिया के विकास को नम मौसम, पत्तियों की नमी, और 22 से 30 डिग्री सेल्सियस तापमान से मदद मिलती है। पत्तियों पर होने वाले नुकसान से पौधे की उत्पादकता कम हो जाती है और अगर संक्रमण मौसम में जल्दी शुरू होता है तो यह उपज को कम कर सकता है।

जैविक नियंत्रण

प्रतिस्पर्धात्मक कवक, ट्रायकोडर्मा एट्रोवीराइड एसजी 3403, के साथ जैविक नियंत्रण का उपयोग रोगजनक संक्रमण के खिलाफ़ सफलतापूर्वक किया जा चुका है। लेकिन, खेतों में इस उपचार की प्रभावकारिता दिखाने के लिए खेतों में परीक्षण अभी तक नहीं किए गए हैं।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक नियंत्रण उपायों के साथ रोकथाम उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। सही समय पर लगाए जाने पर कवकनाशक रोग को प्रभावी ढंग से नियंत्रित कर सकते हैं। संभावित उपज हानि, मौसम का पूर्वानुमान, और पौधे के विकास के चरण के बारे में सोचकर ही कवकनाशक को लगाने पर विचार करें। किसी भी तेज़ी से काम करने वाले, व्यापक स्पेक्ट्रम उत्पाद की सिफ़ारिश दी जाती है, उदाहरण के रूप में, 8-10 दिनों के अंतराल पर मैंकोज़ेब (2.5 ग्रा/ली पानी)।

निवारक उपाय

  • यदि उपलब्ध हो, तो प्रतिरोधी किस्में उगाएं.
  • एक ही फसल की खेती (मोनोकल्चर) से बचने के लिए मकई की विभिन्न किस्में उगाएं.
  • गैर-धारक फसलों के साथ अदला-बदली करें (फसल चक्रीकरण).
  • मिट्टी में फसल के अवशेषों को दफ़नाने के लिए गहरी जुताई करें.
  • फसल कटाई के बाद ज़मीन को जोतकर कुछ समय तक छोड़ दें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!