- धान

धान धान

नकली स्मट

फफूंद

Villosiclava virens


संक्षेप में

  • चावल के कुछ दानों पर छोटी, नारंगी , चिकनी 'गेंदें' दिखाई देती हैं.
  • ये 'गेंदें' सूख जाती हैं और हरी-काली रंग की हो जाती हैं.
  • दानों का बदरंग होना, वज़न घटना और अंकुरण दर का कम होना देखा जाता है।.
 - धान

धान धान

लक्षण

लक्षण पुष्पीकरण के दौरान दिखाई देते हैं, विशेष रूप से तब जब छोटी बालें परिपक्वता तक पहुंचने वाली होती हैं | नारंगी, मखमली अंडाकार हिस्सा, जिसका व्यास लगभग 1 सेमी होता है, अलग-अलग दानों पर दिखाई देता है। बाद में, दाने पीले-हरे या हरे-काले रंग में बदल जाते है। पुष्पगुच्छ के सिर्फ कुछ दाने ही बीजाणु की गेंद बनाते हैं, पौधे के अन्य भाग प्रभावित नहीं होते है। दानों के वज़न और बीज अंकुरण में कमी आती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षण कवक, विलोसिकलावा विरेंस, के कारण होते हैं। यह एक ऐसा रोगजनक है जो सभी चरणों में पौधों को संक्रमित कर सकता है, लेकिन इसके लक्षण केवल फूल खिलने के तुरंत बाद या दानों के भरने के चरण के दौरान दिखाई देते हैं। मौसम की स्थिति संक्रमण के नतीजे निर्धारित करती है, क्योंकि उच्च सापेक्ष आर्द्रता (>9 0%), निरंतर बारिश और 25-35º से. का तापमान कवक के लिए अनुकूल है। नाइट्रोजन की अधिक मात्रा वाली मिट्टी भी इस रोग के विकास के लिए अनुकूल होती है। जल्दी लगाए जाने वाले चावल के पौधों में आमतौर पर नकली स्मट की कम समस्याएं होती हैं। सबसे बुरी स्थिति परिस्थितियों में, बीमारी गंभीर हो सकती है और फसल का नुकसान 25% तक पहुंच सकता है। भारत में, 75% तक उपज का नुकसान देखा जा चुका है।

जैविक नियंत्रण

बीजों का 52 डिग्री पर 10 मिनट तक उपचार करने से संक्रमण से बचने की संभावना बढ़ जाती है । पुष्पगुच्छ की शुरुआत के दौरान, तांबा आधारित कवकनाशक को रोकथाम के लिए उपयोग किया जा सकता है (2.5 ग्राम प्रति लीटर पानी)। एक बार बीमारी का पता चलने पर, उसे नियंत्रित करने और उपज को थोड़ा बढ़ाने के लिए फसल पर तांबा आधारित कवकनाशक का छिड़काव करें।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा समवेत उपायों का प्रयोग करना चाहिए जिसमें रोकथाम के उपायों के साथ जैविक उपचार, यदि उपलब्ध हो, का उपयोग किया जाए। कवकनाशक के साथ बीज उपचार आमतौर पर बीमारी को नहीं रोक पाता है। पुष्पीकरण के दौरान, रोकथाम के लिए एज़ोक्सीस्ट्रोबिन, प्रोपिकोनाज़ोल, क्लोरोथेलोनिल, एज़ोक्सीस्ट्रोबिन के साथ प्रोपिकोनाज़ोल, ट्राइफ़्लोक्सीस्ट्रोबिन के साथ प्रोपिकोनाज़ोल, ट्राइफ़्लोक्सीस्ट्रोबिन के साथ टेबुकोनाोज़ल पर आधारित उत्पादों का छिड़काव करें। बीमारी दिखाई देने पर रोग को बढ़ने से रोकने के लिए, इन्हीं उत्पादों का छिड़काव करें या फिर ऑरियोफंगिन, कैप्टान और मैंकोज़ेब आधारित उत्पादों का उपयोग करें।

निवारक उपाय

  • प्रमाणित खुदरा विक्रेताओं से स्वस्थ बीज का प्रयोग करें.
  • उपलब्ध प्रतिरोधक प्रजातियों का उपयोग करें.
  • यदि संभव हो तो बीमारी की सबसे बुरी स्थिति से बचने के लिए पौधों की जितनी जल्दी हो सकी उतनी जल्दी बुआई करें.
  • स्थायी तौर पर पानी भरने के बजाय खेतों को भिगोने और सुखाने की एक के बाद एक प्रक्रिया अपनाएं (आद्रता कम करने के लिए).
  • नाइट्रोजन का कम मात्रा में उपयोग करें और उसे थोड़ा-थोड़ा करके लगाएं.
  • खेत के मेढ़ों और सिंचाई के नालों को साफ़ रखें.
  • खेत को खर-पतवार से साफ़ रखें और संक्रमित पौधों के अवशेषों, पुष्पगुच्छों और बीजों को फसल काटने के बाद हटा दें.
  • फसल के बाद खेत की गहरी जुताई और सौरकरण भी कीटों को अगली फसल तक जाने से रोकती है.
  • जहां संभव हो, संरक्षण जुताई करें और लगातार चावल की फसल उगाते रहें.
  • गैर-संवेदनशील फसलों के साथ 2- या 3-वर्षीय फसल रोटेशन की योजना बनाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!