- मक्का

मक्का मक्का

बालियों में सड़ांध पैदा करता फ़्यूज़ेरियम कवक

फफूंद

Fusarium verticillioides


संक्षेप में

  • रोग आम तौर पर मौसम में देरी से और भंडारण के दौरान विकसित होता है.
  • कुछ दानों में सफ़ेद, गुलाबी रंग का फफुंद नज़र आता है.
  • दानों के ऊपर से एक त्रिज्यात स्वरूप में पीली-भूरी या भूरी रंग की धारियाँ दिखाई देती हैं.
  • पूरा बाल सूखा हुआ और दाने सड़ांध से पूरी तरह से समाप्त लगते हैं.
  • कवक विषाक्त पदार्थों का उत्पादन करता है, जिससे दाने खाए जाने योग्य नहीं रहते हैं।.
 - मक्का

मक्का मक्का

लक्षण

लक्षण मकई के प्रकार, पर्यावरण और रोग की गंभीरता के आधार पर भिन्न होते हैं। रोग आम तौर पर मौसम में देरी से और भंडारण के दौरान विकसित होता है। स्वस्थ दिखने वाले दानों के बीच सफ़ेद, गुलाबी रंग के फफूंद के साथ रोगग्रस्त दाने नज़र आते हैं। दानों पर बदरंगपन भी दिखाई दे सकता है। वे पीले-भूरे या भूरे रंग के भी हो सकते हैं। बदरंगपन दानों के ऊपर से एक त्रिज्यात स्वरूप में दिखाई देते हैं। यदि बीमारी के विकास (गर्म और शुष्क मौसम, कीटों की उपस्थिति) के लिए अनुकूल स्थिति होती है, तो बालियाँ पूरी तरह कवक से ढक सकती हैं और प्रचुर मात्रा में कवक विकास दिखाती हैं। पूरा बाल सूखा और दाने पूरी तरह से खाए हुए दिख सकते हैं। अनाज उपज कम हो जाती है। कवक विषाक्त पदार्थों का उत्पादन करता है, जिससे दाने खाने योग्य नहीं रहते।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

रोग मुख्य रूप से कवक फ़्यूज़ेरियम वर्टिकिलियोड द्वारा होता है, लेकिन फ़्यूज़ेरियम की अन्य प्रजातियां भी उन्हीं लक्षणों को पैदा कर सकती हैं। यह बीजों, फसल के अवशेषों या घास जैसे अन्य धारकों पर रहता है। बीजाणु मुख्यतः हवा से फैलते हैं। यह मकई की बालियों में मुख्य रूप से ओलों या कीड़ों और पक्षियों के भोजन के कारण हुई क्षति, या खेती के दौरान चोटों के घावों से प्रवेश करते हैं। यह फिर अंकुरित होता है और प्रवेश बिंदुओं से धीरे-धीरे पूरे दाने पर फैल जाता है। इसके अलावा, यह जड़ से पौधे पर बसना शुरू कर सकता है और पौधे के हिस्सों पर पलते हुए पौधे के ऊपरी हिस्सों तक पहुंच जाता है। पौधे, पर्यावरण की अनेक स्थितियों में संक्रमित हो सकते हैं, लेकिन लक्षण विशेष रूप से तब गंभीर होते हैं जब मौसम गर्म और शुष्क होता है, और पौधे पुष्प पैदा करने के चरण तक पहुंच गए होते हैं। यह मकई का सबसे अधिक आम फफूंद है।

जैविक नियंत्रण

बैक्टीरिया स्यूडोमोनस फ़्लोरेसेन्स पर आधारित घोल बीज उपचार के रूप में इस्तेमाल किए जा सकते हैं। इनका छिड़काव करके भी रोग की संभावनाओं को और विषाक्त पदार्थों के उत्पादन को कम किया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो जैविक उपचार के साथ रोकथाम उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। मौसम में जल्दी लगाए गए कवकनाशक सिट्टे के संक्रमण को सीमित कर सकते हैं। क्योंकि क्षति सिट्ट पर होती है, कवकनाशक रोग से लड़ने का सबसे प्रभावी तरीका नहीं है। ऐसे कीट नियंत्रित रखने पर विचार करें, जो सिट्टों को घायल करते हों और कवक के विकास में मदद करते हों। फफूंद को नियंत्रित करने के लिए, एक मिलीलीटर प्रति लीटर पानी के हिसाब से प्रोपिकोनाज़ोल का उपयोग दानों के सख़्त होने के चरण के दौरान किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • अपने बाज़ार में सहिष्णु या प्रतिरोधी किस्मों की खरीद करें.
  • स्थानीय मौसम की स्थिति के अनुसार अनुकूलित पौधों की बुवाई करें.
  • खेतों में घने रोपण से बचें.
  • पौधे के विकास के बाद के चरणों के दौरान अच्छा उर्वरिकरण सुनिश्चित करें.
  • विषाक्त पदार्थों के उत्पादन से बचने के लिए संक्रमित अनाज को साफ़ करें या उन्हें अलग से स्टोर करें.
  • अपनी भंडारण सुविधाओं को अच्छी तरह से साफ़ करें.
  • भूसी अलग करने की भूमि पर उत्पाद को गीला होने से बचाने के लिए फ़सल की कटाई से पहले मौसम के पूर्वानुमान पर नज़र रखें.
  • फसल कटाई के दौरान दानों को चोट पहुँचाने से बचें.
  • कम आर्द्रता और कम तापमान में अनाज का भंडारण करें.
  • कटाई के बाद फसल के अवशेषों को जोतें और दफ़न करें.
  • कम-से-कम एक वर्ष के लिए गैर-धारक पौधों के साथ बदलें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!