- काला और हरा चना

काला और हरा चना काला और हरा चना

उड़द दाल पर ज़ंग

फफूंद

Uromyces phaseoli


संक्षेप में

  • छोटे, गोल लाल-भूरे रंग के दाने पत्तियों के निचले हिस्से में दिखाई देते हैं.
  • बाद में दाने बड़े क्षेत्रों में विलय हो जाते हैं और पत्तियों की ऊपरी सतह पर दिखाई देने लगते हैं.
  • मौसम के बाद के हिस्से में लंबे, गहरे भूरे रंग के क्षेत्र दिखाई देते हैं.
  • संक्रमण डंठल, फली और तने पर दिखाई दे सकता है.
  • पत्तियाँ सूखकर सिकुड़ जाती हैं और गिरने लगती हैं, जिससे पतझड़ जैसी स्थिति और उपज हानि होती है।.
 - काला और हरा चना

काला और हरा चना काला और हरा चना

लक्षण

प्रारंभिक लक्षण छोटे, गोल, लाल भूरे रंग के दानों के रूप में दिखाई देते हैं, जो सफ़ेद फफूंद के बीच बढ़ते हैं, आमतौर पर पत्ती की निचली सतह पर। दाने छोटे समूहों में दिखाई देते हैं और बाद में पत्ती की सतह पर बड़े क्षेत्रों में विलय हो सकते हैं। इसके अतिरिक्त, रैखिक, गहरे भूरे रंग के क्षेत्र मौसम के बाद के चरण में दिखाई देते हैं। भारी संक्रमण पत्ती की ऊपरी सतह को प्रभावित कर सकता है, जिसके परिणामस्वरूप दाने पूरी पत्ती को ढक देते हैं। पत्तियां शुष्क, सिकुड़ी हुई हो जाती हैं और गिर जाती हैं। रोग के इस चरण में, डंठल, फली और तने भी प्रभावित हो सकते हैं। गंभीर रूप से पत्तियों के झड़ने की स्थिति में गंभीर उपज हानि होती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

मिट्टी पर फ़सल के मलबे में या अन्य धारकों में रोगजनक जीवित रहता है। प्राथमिक संक्रमण, पौधों के आधार पर पुरानी पत्तियों पर मिट्टी की छींटों से बीजाणुओं के माध्यम से होता है। पौधे से पौधे तक द्वितीयक फैलाव हवा से होता है। संक्रमण की शुरुआत और फैलाव को गर्म तापमान (21 से 26 डिग्री सेल्सियस), रात के दौरान अत्यधिक ओस के साथ नमी, और बदली के मौसम से सहायता मिलती है।

जैविक नियंत्रण

संक्रमण होने के बाद, साल्विया ऑफ़िशिनालिस और पोटेंन्टीला इरेक्टा के पौधों के अर्क का कवक विकास के खिलाफ़ सुरक्षात्मक उपाय के रूप में अच्छा प्रभाव पड़ता है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। यदि संक्रमण बाद के चरणों में देखा जाता है, तो रासायनिक उपचार व्यवहार्य नहीं है। यदि कवकनाशक की ज़रूरत हो, तो मेंकोज़ेब, प्रोपिकोनाज़ोल, तांबे या सल्फ़र यौगिकों वाले उत्पादों को पत्तियों पर छिड़काव करके इस्तेमाल किया जा सकता है। इन्हें संक्रमण के नज़र आते ही लगाएं और फिर 15 दिनों के बाद इसे दोहराएं।

निवारक उपाय

  • स्वस्थ पौधों से बीज या प्रमाणित रोगजनक-मुक्त बीज का उपयोग करें.
  • यदि आपके क्षेत्र में उपलब्ध हो, तो सहिष्णु या प्रतिरोधी किस्में उगाएं.
  • अपने खेत के पास अन्य धारकों के रोपण से बचें.
  • खेत से अन्य धारकों और खर-पतवार निकालें.
  • पौधों की निगरानी करें और पौधों के संक्रमित हिस्सों को निकालें.
  • गैर-धारक फ़सलों के साथ हर तीन से चार वर्ष पर घुमाएं (फ़सल चक्रीकरण).
  • गहरी जुताई करें और पौधे के मलबे को जलाकर या उस पर जुताई करके उसे हटाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!