- सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

साइट्रस की पत्तियों का धब्बा (स्यूडोसरकोस्पोरा एंगोलेनसिस)

फफूंद

Pseudocercospora angolensis


संक्षेप में

  • पत्तियों पर, गाढ़े भूरे रंग के किनारे और पीले परिवेश वाले हल्के भूरे से स्लेटी गोलाकार धब्बे.
  • युवा फलों पर पीले रंग के परिवेश के साथ उठे हुए फोड़े.
  • पुराने फल सपाट घाव दिखाते हैं, कभी-कभी धंसे हुए भूरे रंग के केंद्र के साथ।.
 - सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

लक्षण

गोलाकार, अधिकतर पृथक धब्बे पत्तियों पर दिखाई देते हैं, जिनका व्यास 10 मिमी तक पहुंच सकता है। सूखे मौसम के दौरान, वे लाल किनारों और एक प्रमुख पीले रंग के परिवेश के साथ हल्के भूरे या स्लेटी रंग के केंद्र के साथ देखे जा सकते हैं। बारिश की शुरुआत के बाद, वे काले हो जाते हैं और बीजाणुओं से ढक जाते हैं, और ये पत्तियों के निचले हिस्से पर विशेष रूप से दिखाई देता है। जैसे-जैसे रोग बढ़ता है, धब्बे आपसे में मिल जाते हैं और पत्तियों की एक सामान्यीकृत हरित हीनता दर्शाते हैं, जिसके बाद कभी-कभी पत्तियाँ झड़ने लगती हैं। कभी-कभार, धब्बे का केंद्र निकल जाता है और एक छेद बना देता है। हरे फलों पर, धब्बे एक पीले परिवेश के साथ गोलाकार से अनियमित, असतत या संगठित हो सकते हैं। गंभीर संक्रमण में, काले, उभरे हुए फोड़े जैसी वृद्धि नज़र आती है, जिसके बाद केंद्र में परिगलन दिखता है और फल गिर जाते हैं। परिपक्व फलों पर घाव का आकार अक्सर अलग-अलग, लेकिन सामान्यतः सपाट होता है। कभी-कभी इनमें एक भूरे रंग का धंसा हुआ केंद्र दिखाई देता है। कभी-कभार घाव पत्तियों की टहनियों से लेकर तने पर भी उपस्थित होते हैं। ऐसे कई घावों के परिणामस्वरूप शीर्षारंभी क्षय (डायबैक) हो सकता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

लक्षण स्यूडोसर्कोस्पोरा एंगोलेनसिस कवक के कारण होते हैं। जब तक कि बीजाणुओं को उत्पन्न करने के लिए स्थिति अनुकूल नहीं होती, यह संक्रमित पौधों की सामग्री पर निष्क्रिय घावों में रहता है। इसके जीवन चक्र को लंबे समय तक गीले मौसम की स्थिति के बाद सूखे की स्थिति, और साथ ही 22-26 डिग्री सेल्सियस के सामान्य तापमान से सहायता मिलती है। संक्रमण के फैलाने का प्राथमिक स्रोत पत्तियां हैं, क्योंकि फलों की तुलना में उनके घाव अधिक बीजाणु पैदा करते हैं। लम्बी दूरी तक कवक हवा में उड़ने वाले बीजाणुओं के माध्यम से फैलता है और स्थानीय फैलाव मुख्य रूप से बारिश की बौछार या वर्षा जल से होता है। संक्रमित सामग्री को अन्य क्षेत्रों या स्थानों पर ले जाकर मानव भी इस रोग को फैला सकते हैं।

जैविक नियंत्रण

साइट्रस लेटिफ़ोलिया और साइट्रस लिमोन जैसी प्रतिरोधी प्रजातियों के फल से निकाले गए प्राकृतिक तेल रोगजनकों की वृद्धि कम कर सकते हैं। नींबू के पत्ते का अर्क और साइट्रस ऑरेंटिफ़ोलिया के साथ-साथ बॉटलब्रश पौधों (कैलिस्टेमोन सिट्रनस और कैलिस्टेमोन रिगिडस) के तेल रोगजनक को बाधित कर सकते हैं। इन प्रभावों को अभी तक प्रयोगशालाओं में नियंत्रित स्थितियों में ही जाँचा गया है। तांबे पर आधारित कवकनाशी भी उपयोग किए जा सकते हैं।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। ट्राइफ़्लॉक्सीस्ट्रोबिन या मेंकोज़ेब पर आधारित फफूंदनाशकों को खनिज स्प्रे तेल के साथ मिलाकर छिड़कने से कवक को दूर करने के अच्छे परिणाम प्राप्त हुए हैं। क्लोरोथेलोनिल, तांबा और उनके मिश्रण पर आधारित कवकनाशक भी प्रभावी हैं। वर्षा के बाद छिड़काव की सिफ़ारिश दी जाती है, क्योंकि बारिश में बीजाणु का उत्पादन बढ़ता है।

निवारक उपाय

  • यदि उपलब्ध हों, तो सहिष्णु या प्रतिरोधी किस्म लगाएं.
  • गिरे हुए फल और पत्तियों को इकट्ठा करके जलाकर या दफ़न करके नष्ट कर दें.
  • संदूषण को फैलने से रोकने के लिए फलोद्यान के चारों ओर वायुरोधक बनाएं.
  • वृक्षों के बीच अधिक स्थान छोड़कर फलोद्यान में वायु-संचालन बेहतर करें.
  • नियमित छंटाई करें और अन्य धारकों के साथ रोपण करने से बचें.
  • फलों के समूह को सिंचाई द्वारा समक्रमिक करने का प्रयास करें.
  • दूषित क्षेत्रों से संक्रमित पौधों, पेड़ों या फलों के परिवहन से बचें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!