- पपीता

पपीता पपीता

राख जैसी फफूँदी (सूटी मोल्ड)

फफूंद

Pezizomycotina


संक्षेप में

  • फलों पर गहरे भूरे से काले रंग की फफूँदी.
  • पत्तियाँ, टहनियाँ और तने भी प्रभावित हो सकते हैं.
  • पत्तियाँ सूख जातीं हैं और गिर जातीं हैं।.
 - पपीता

पपीता पपीता

लक्षण

राख जैसी फफूँदी ऐसे आम के पेड़ों और अन्य पौधों पर पाई जाती है, जिन्हें पहले कीड़े द्वारा खाया गया हो। फफूँद वास्तव में हनीड्यू पर बढ़ता है, जो कीड़ों द्वारा साथी कीटों को आकर्षित करने के लिए बनाया गया एक चिपचिपा, मीठा स्राव होता है। इस स्राव को भोजन स्रोत के रूप में इस्तेमाल करके, फफूँद धीरे-धीरे प्रभावित पौधे के हिस्से की सतह को हल्के से गाढ़े काले के रंगों में रंगते हुए ढांक देता है। राख जैसी फफूँद गैर-परजीवी और गैर-रोगजनक कवक है, इसलिए वे पौधे के ऊतकों पर नहीं बसते हैं और न ही लक्षण उत्पन्न करते हैं। लेकिन, वे प्रकाश संश्लेषण करने और वायुमंडल के साथ गैसों का आदान-प्रदान करने की पौधे की क्षमता में बदलाव करते हैं। गंभीर रूप से संक्रमित पत्तियां मर कर गिर सकती हैं, जिससे पौधों का विकास और जीवन प्रभावित हो सकता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

फ़्लोएम खाने वाले कीट, जैसे मैंगो लीफ़ हॉपर (एम्रिटोडस एटकिनसोनी), सफ़ेद मक्खियाँ, एफ़िड्स और कई अन्य इस रोग से संबंधित हैं, क्योंकि ये पौधे के रस को खाते हैं। खाने की प्रक्रिया में, हनीड्यू को संबंधित पौधों की सतह पर स्रावित किया जाता है, जो राख जैसी फफूँद के पनपने के लिए माध्यम बन जाता है। यह शहद समीप की पत्तियों या पौधों पर गिर सकता है, और इस तरह कवक फैलता है। फफूंदी मोल्ड या बीजाणु के रूप में पौधों के भागों, औज़ारों या परिवहन वाहन में जीवित रहता है। कीड़े भी पौधों से पौधों तक कवक को फैलाते हैं। चींटियों, उदाहरण के लिए, अपने स्वयं के लाभ के लिए राख जैसी फफूँदी की बस्तियों की रक्षा करती हैं।

जैविक नियंत्रण

नीम के तेल के मिश्रण का उपयोग करके, जो एक वृहद परिप्रेक्ष्य वाला जैविक यौगिक है, मक्खियों, एफ़िड्स, स्केल्स, चींटियों, और मीली बग को दूर रखा जा सकता है। नीम का तेल कवक के विकास को भी कम करता है। प्रभावित पौधों पर कीटनाशक साबुन या डिश साबुन (उदाहरण के लिए, प्रति 5 लीटर पानी में एक बड़ा चम्मच) छिड़का जा सकता है। एक बार जब साबुन का घोल पौधों पर बैठ जाता है, तो उसे पानी से धोकर फफूँदी को हटाया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों के एकीकृत दृष्टिकोण पर हमेशा विचार करें। ऑरेंगेनोफॉस्फेट परिवार के सिंथेटिक कीटनाशक, जैसे मैलाथियोन का उपयोग पौधों को कीड़ों के खाने से रोकने के लिए किया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • पेड़ों के बीच पर्याप्त दूरी बनाए रखना और पर्याप्त धूप प्रदान करना सुनिश्चित करें.
  • पेड़ों तक चींटियों तथा पौधों का रस चूसने वाले कीटों को पहुंचने से रोकने के लिए उन के आसपास अवरोधों का निर्माण करें.
  • पौधे का फ़्लोएम (भोजन को पत्तियों से अन्य भागों में भेजने वाले ऊतक) खाने वाले परजीवियों के प्रति पेड़ों का इष्टतम प्राकृतिक प्रतिरोध सुनिश्चित करने के लिए पेड़ों को पर्याप्त रूप से उर्वरक और पानी प्रदान करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!