- जवार

जवार जवार

ज्वार के दानों की स्मट

फफूंद

Sporisorium sorghi


संक्षेप में

  • प्रत्येक बाली में ज्वार के कई दाने शंकु या अंडाकार जीवाणु उत्पन्न करने वाली बनावटों से बदल जाते हैं.
  • ये तथाकथित स्मट की बीजाणुधानी सफ़ेद से भूरे या कत्थई, और कभी-कभी धारीदार होतीं हैं।.
 - जवार

जवार जवार

लक्षण

ज्वार के दाने शंकु या अंडाकार जीवाणु उत्पन्न करने वाली बनावटों से बदल जाते हैं जिन्हें स्मट की बीजाणुधानी कहते हैं। ये अंग एक हठी पर्त से ढके होते हैं तथा उनके आकार पर निर्भर करते हुए छिलके से ले कर 1 सेमी से अधिक की लम्बाई तक ढके रहते हैं। छिलका रंग में सामान्य दिखता है। अधिकाँश बीजाणुधानी शंकु के आकार या अंडाकार होतीं हैं तथा एक लम्बाई लिए हुए ज्वार के बीज जैसी दिखतीं हैं। बीजाणुधानी रंग में सफ़ेद से भूरे या कत्थई रंग की, कभी-कभी ऊपर धारियों से ढकी होतीं हैं। अधिकाँश मामलों में, शीर्ष सिर्फ आंशिक रूप से स्मट ग्रस्त होते हैं। कुछ मामलों में, पुष्पगुच्छों की शाखाएं पूरी तरह नष्ट हो जातीं हैं तथा सिर्फ बीजाणुधानी से ढका हुआ विकृत केन्द्रीय तना शेष रह जाता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

जब कोई स्मट से संक्रमित दाने बोए जाते हैं तो विश्राम कर रहे जीवाणु भी बीज के साथ अंकुरों में विकसित होते तथा जीवाणु उत्पन्न करते हुए अंकुरित होते हैं जो संक्रमण की प्रक्रिया को और अधिक गंभीर कर देते हैं। ये जीवाणु हवा के द्वारा अन्य पौधों तक ले जाए जाते हैं जहाँ वे अंकुरित होते हैं और कवकीय विकास को उत्पन्न करते हैं जो व्यवस्थित रूप से पौधे के अन्दर बिना उसे कोई हानि पहुंचाए फैलता रहता है। सर्वप्रथम लक्षण सबसे पहले फूलों के बनने की प्रक्रिया के दौरान (हैडिंग) दिखाई देते हैं। उस समय, कवकीय विकास धीरे-धीरे दानों का स्थान ग्रहण कर लेता है और उनके चारों ओर एक झिल्ली बढ़ने लगती है। परिपक्व होने पर, यह झिल्ली नए जीवाणुओं को छोड़ते हुए फट जाती है जो अन्य बीजों या मिट्टी को संक्रमित करते हैं। जीवाणुओं के अंकुरण तथा पौधों में संक्रमण के लिए आदर्श तापमान 30 डिग्री से. है।

जैविक नियंत्रण

इस समय रोग के उपचार के लिए कोई जैविक उपचार उपलब्ध नहीं है।यदि आप कोई उपचार जानते हों तो कृपया हमसे संपर्क करें।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा समवेत उपायों का प्रयोग करना चाहिए जिसमे रोकथाम के उपायों के साथ जैविक उपचार, यदि उपलब्ध हो, का उपयोग किया जाए। रोग के प्रकोप को दबाने के लिए बीजों के कार्बोक्सिन (2 ग्रा/1 किग्रा. बीजों के लिए) के द्वारा उपचार की सलाह दी जाती है। प्रोपिकोनाजोल, मानेब या मांकोजेब वाले पत्तियों पर छिड़काव किये जाने वाले स्प्रे ने भी खेतों के अध्ययन में संतोषप्रद परिणाम दिए हैं।

निवारक उपाय

  • यदि उपलब्ध हों तो प्रतिरोधक या सहनशील प्रजातियों को लगायें.
  • मिट्टी में 15 डिग्री से. से 32 डिग्री से. के तापमान पर बीजों को बोने से कवक को अंकुरित होने से रोका जा सकता है।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!