- सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

ब्लैक शैंक

फफूंद

Phytophthora nicotianae


संक्षेप में

  • पत्तियां असामान्य रंग और रूप दिखाती हैं, विकृत और घुंघराली दिखती हैं.
  • गले हुए क्षेत्र बड़े पैमाने पर हरितहीन पत्ते के बीच दिखाई देते हैं.
  • पेड़ों में, फल में भी असामान्य आकार होता है, और उनकी त्वचा काली या भूरे रंग के धब्बों से ढकी होती है.
  • इन घावों पर व्यापक फफूंदी हो जाती है और रस नीचे टपकता देखा जा सकता है.
  • प्रचुर मात्रा मे गोंद छाल पर उपस्थित घावों से निकलता है (गमोसिस)।.
 - सिट्रस (नींबू वंश)

सिट्रस (नींबू वंश) सिट्रस (नींबू वंश)

लक्षण

इस बीमारी के लक्षण पौधे के सभी विकास चरणों में और पौधे के सभी भागों में देखा जा सकता है। पत्तियां असामान्य रंग और रूप दिखाती हैं, विकृत और घुंघराली दिखती हैं। गले हुए क्षेत्र बड़े पैमाने पर हरितहीन पत्ते के बीच दिखाई देते हैं। जैसे-जैसे बीमारी बढ़ती है, मरे हुए ऊतक गिर जाते हैं और पत्तियां कटी-फटी दिखती हैं। पेड़ों में, फल का भी असामान्य आकार होता है, और उनकी त्वचा काली या भूरे रंग के धब्बों से ढकी होती है। बाद के चरणों में, इन घावों पर व्यापक फफूंदी हो जाती है और रस नीचे टपकता देखा जा सकता है। फल सूख जाता है और छिलका सिकुड़ने के स्पष्ट संकेत दिखाती है। वृक्ष की छाल गहरे भूरे रंग की हो जाती है और वृक्षों के तने पर नासूर स्पष्ट रूप से दिखाई दे सकते हैं। प्रचुर मात्रा में गोंद छाल से निकलता है (गमोसिस)। जब तने को काटा जाता है, तो जड़ों की आंतरिक ऊतकों मे सड़ांध (बदरंगपन) के लक्षण दिखाते हैं। कुल मिलाकर, पौधे मुरझा जाते हैं और गंभीर मामलों में सड़ जाते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

कृषि और बागवानी क्षेत्र में कई महत्वपूर्ण वनस्पति प्रजातियों पर फ़ाइटोफ़्थोरा निकोटियाने होता है। यह इसे विशेष रूप से गंभीर रोगजनक बनाता है। यह मिट्टी से पैदा होने वाला फफूंद है, जो मुख्य रूप से गर्म और आर्द्र जलवायु में होता है, लेकिन यह समशीतोष्ण जलवायु में भी देखा जा सकता है। रोगजनक के प्रसार और इसके बीजाणुओं के फैलाव के लिए मुक्त नमी आवश्यक है। बारिश या सिंचाई के पानी की छींटें बीजाणुओं को संक्रमित पौधों से पास के स्वस्थ पौधों में ले जाने में मदद करती हैं। यह पानी में बीजाणुओं के रूप में भी जीवित रह सकता है और इस तरह से मूल रोग क्षेत्र से दूर जल निकासी के गड्ढे या सिंचाई प्रणाली द्वारा पौधों को संक्रमित या दूषित कर सकता है।

जैविक नियंत्रण

इस कवक का नियंत्रण फसल और पर्यावरणीय परिस्थितियों के आधार पर अलग होगा। फ़ाइटोफ़्थोरा निकोटियाने के कई प्रतिपक्षी और रोगजनकों उपस्थित हैं, उदाहरण के लिए, एस्परगिलस टेरियस, स्यूडोमोनस पुटिडा या ट्राइकोडर्मा हर्ज़ेनियम। गीले मौसम के दौरान कॉपर-आधारित कवकनाशक प्रत्येक 2-3 महीनों में प्रयोग करें, जिससे रोग की घटनाएं कम हो सकती हैं। विघटित छाल को हटाकर तांबे के कवकनाशी लेप को लगाया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हों, तो जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों की एक एकीकृत पद्धिति पर सदैव विचार करें। कुछ फ़सलों में, मेटालेक्सिल और फ़ॉस्फ़ोनेट दोनों को प्रभावी पाया गया है। मेटालेक्सिल के लिए कुछ प्रतिरोध की सूचना मिली है।

निवारक उपाय

  • प्रमाणित स्रोतों से रोग मुक्त बीज या पौधों का उपयोग करें.
  • यदि उपलब्ध हों, तो अधिक सहिष्णु किस्मों का उपयोग करें.
  • फसलों पर अत्यधिक पानी न डालें.
  • रोगग्रस्त पौधौं या पेड़ों की रोगग्रस्त शाखाओं को तोड़ दें.
  • अच्छी जल निकासी वाले स्थलों में पौधे लगाएँ.
  • खेती कार्यों के दौरान फसलों को चोटों से बचें.
  • जब पत्तियां गीली होती हैं, तो खेतों पर काम न करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!