- अन्य

अन्य अन्य

सेब का तीव्र विगलन (बिटर रॉट)

फफूंद

Glomerella cingulata


संक्षेप में

  • फलों पर छोटे, धंसे हुए, भूरे धब्बे दिखाई देते हैं जिनके चारों ओर लाल आभा होती है.
  • इनमें कुछ धब्बे बड़े हो जाते हैं और इनके मध्य में काली बिंदियां दिखने लगती हैं.
  • ब्राउन रॉट फल की सतह से उसके केंद्र की ओर V-आकृति बनाते हुए फैलता है.
  • सड़ते हुए सेब पूरी तरह सूख जाते हैं और पेड़ पर लटके रहते हैं, जिन्हें ममीफ़ाइड फल कहा जाता है।.
 - अन्य

अन्य अन्य

लक्षण

पहले लक्षण नए फलों पर छोटी धूसर या भूरी चित्तियों के रूप में बसंत में दिखते हैं। गर्मियों तक ये चित्तियां छोटे, धंसे हुए भूरे धब्बों में बदल जाती हैं। ये धब्बे कभी-कभी लाल आभा से घिरे रहते हैं। परिस्थितियां अनुकूल होने पर इनमें से कुछ धब्बे बड़े हो जाते हैं और इनके मध्य में छोटी, काली या गहरी भूरी बिंदियां होती हैं। धीरे-धीरे भूरी पनीली सड़न सतह से फल के केंद्र तक V-आकृति के पैटर्न में फैल जाती है (केंद्र के चारों ओर बेलनाकार सड़न की आकृति सेब के एक अन्य रोग, बॉट रॉट, की ख़ासियत है)। चारों ओर से सड़ने से फल सूख जाता है पर आम तौर पर टहनी से लटका रहता है। इसे ममीफ़ाइड फल कहते हैं। पत्तियों पर संक्रमण छोटे बैंगनी चित्तियों के रूप में दिखता है, जो बाद में बढ़कर टेढ़े-मेढ़े परिगलित हिस्से बन जाते हैं। गंभीर रूप से संक्रमित पत्तियां पीली पड़ जाती हैं और अंत में गिर जाती हैं। यदि रोग का संक्रमण नई टहनियों तक पहुंच जाता है, तो अगले मौसम के पुष्पिकरण पर प्रभाव पड़ता है। सेब की सभी किस्में बिटर रॉट के प्रति संवेदनशील होती हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

पत्तियों और फलों पर लक्षणों का कारण एक ही रोगाणु की दो अलग-अलग लैंगिक अवस्थाएं हैं। पत्तियों और फलों पर धब्बे ग्लोमोरेला सिंगुलेटा के लैंगिक रूप का ऊतकों पर बसने के कारण होते हैं। इसका अलैंगिक रूप कोलेटोट्रिकम ग्लोईस्पोरियोड्स है और यह बाद के मौसम में फलों पर घावों का कारण है। फफूंद ममीफ़ाइड फलों और संक्रमित लकड़ी में सर्दियाँ बिताता है। बसंत में, यह दोबारा वृद्धि शुरू करके बीजाणु बनाता है जो बारिश की बौछारों के कारण निकल आते हैं और हवा से फैल जाते हैं। अधिक तापमान (25° सेल्सियस) और लंबे समय तक पत्तियां गीली रहने से फफूंद के जीवन चक्र और संक्रमण प्रक्रिया को बढ़ावा मिलता है। फलों में रोग उनके विकास के किसी भी चरण में लग सकता है, लेकिन बाद के आधे मौसम में ज़्यादा आम है। फल बढ़वार के दौरान लंबे समय तक अधिक गीला, गर्म मौसम रहने पर महामारी फैल सकती है और भयंकर नुकसान हो सकता है।

जैविक नियंत्रण

नियंत्रित परिस्थितियों में, कवक शत्रु मेचनिकोविया पल्केरिमा टी5-ए2 का उष्मा उपचार के साथ गोल्डन डिलीशियस सेबों में बिटर रॉट पर नियंत्रण के लिए इस्तेमाल किया जा चुका है। लेकिन, अभी इस उपचार का परीक्षण बाग़ानों में नहीं किया गया है।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा एक समेकित दृष्टिकोण से रोकथाम उपायों के साथ उपलब्ध जैविक उपचारों का इस्तेमाल करें। डिनैथियॉन, कॉपर या सल्फ़र आधारित घोलों का हर पंद्रह दिन पर छिड़काव करने से अच्छे नतीजे मिलते हैं, बशर्ते साफ़-सफ़ाई का ध्यान रखा जाए। अगर मौसम गर्म और गीला है, तो 14 दिन के अंतराल के बजाय जल्दी-जल्दी छिड़काव करना ज़रूरी हो जाता है।

निवारक उपाय

  • खेत में साफ़-सफ़ाई का विशेष ध्यान रखें.
  • रोग का स्तर कम रहने पर बाग की निगरानी करें और बढ़ने के समय ही पेड़ से रोगित फल हटा दें.
  • फल तोड़ने के बाद संक्रमित लकड़ी और पेड़ अवशेषों को हटाकर नष्ट कर देना चाहिए.
  • या फिर ज़मीन पर पड़ी मृत टहनियों के छोटे टुकड़े कर दें ताकि वे जल्द सड़-गल सकें.
  • पौधे को संक्रमण के प्रति प्रतिरोधी बनाये रखने के लिए पौधों को मज़बूत बनाने वाले फ़ोर्टीफ़ायर का इस्तेमाल किया जा सकता है.
  • उर्वरकों का संतुलित इस्तेमाल करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!