- प्याज

प्याज प्याज

प्याज़ के बैंगनी धब्बे

फफूंद

Alternaria porri


संक्षेप में

  • पुराने पत्तों और फूलों की डंठल पर छोटे, अनियमित, धँसे हुए और सफ़ेद चकत्ते होते हैं.
  • ज़्यादा सापेक्ष आर्द्रता पर ये घाव केंद्र में हल्के और गहरे घेरों वाले अण्डाकार भूरे या बैंगनी रंग के धब्बों में बदल जाते हैं.
  • पत्ते या फूलों की डंठल मुरझा जाती हैं और पौधा सूख जाता है।.
 - प्याज

प्याज प्याज

लक्षण

लक्षण मुख्य रूप से वातावरण की सापेक्ष आर्द्रता (RH) पर निर्भर करते हैं। छोटे, अनियमित, धँसे हुए और सफ़ेद रंग के धब्बे पहले पुराने पत्तों और फूलों की डंठल पर दिखाई देते हैं। यदि सापेक्ष आर्द्रता कम रहती है, तो आगे कोई और विकास नहीं देखा जाता है। लेकिन, ज़्यादा सापेक्ष आर्द्रता पर ये घाव केंद्र में हल्के और गहरे घेरों वाले अण्डाकार भूरे या बैंगनी रंग के धब्बों में बदल जाते हैं। समय के साथ, ये घाव कई सेंटीमीटर लंबे हो सकते हैं और इनमें एक पीले रंग का किनारा होता है। घावों के इकट्ठे होने और पत्तों या फूल की डंठलों को घेरने की संभावना होती है, जिससे पत्ते मुरझा सकते हैं और पौधे सूख सकते हैं। कटाई के दौरान चोटिल हो जाने पर, प्याज़ पर हमला हो सकता है, मुख्य रूप से गर्दन के स्थान पर। भंडारण के लक्षण प्याज़ के बाहरी या भीतरी छिलकों में गहरी पीली लाल रंग की दलदली सड़ांध के रूप में दिखाई देते हैं। प्याज़, लहसुन और लीक इस बीमारी से प्रभावित हो सकते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

बैंगनी धब्बा रोग या पर्पल ब्लॉच कवक अल्टरनेरिया पोरी के कारण होता है। यह संक्रमित फसल के मलबे पर या मिट्टी की सतह के पास सर्दी में रहता है। जैसे ही वसंत में गर्म, गीली स्थितियाँ होती हैं, तो यह बीजाणु पैदा करने के साथ अपने जीवन चक्र को फिर से शुरू करता है। हवा, सिंचाई का पानी या बारिश की छींटों से बीजाणु स्वस्थ पौधों और खेतों तक फैल जाते हैं। रोग 21-30 डिग्री सेल्सियस तापमान और 80-90% सापेक्ष आर्द्रता की अनुकूल परिस्थितियों में होता है। रोग का होना और लक्षण की तीव्रता मौसम और जगह की स्थितियों पर भी निर्भर करती है। जब यह स्टेमफ़ाईलियम अंगमारी के साथ होता है, तो नुकसान ज़्यादा हो सकता है। बैंगनी धब्बा का प्रतिरोध मुख्य रूप से ऊपरी त्वचा की मोटाई के कारण होता है। खेत में काम के दौरान या रेत के तूफ़ान जैसी घटनाओं से चोटिल होने पर यह प्रतिरोध कम हो सकता है।

जैविक नियंत्रण

आज तक, इस बीमारी के लिए कोई प्रभावी जैविक नियंत्रण उपलब्ध नहीं है। रोगजनक अल्टरनेरिया पोरी को रोकने के लिए प्रतिपक्षी कवक क्लैडोस्पोरियम हर्बेरम का उपयोग किया गया है। इससे संक्रमण को 66.6% तक कम किया गया है। अन्य कवक, उदाहरण के लिए, पेनिसिलियम प्रजातियाँ बहुत कम (54%) असरकारक रही हैं। कई प्रतिपक्षियों के मिश्रण से 79.1% तक की कमी की जा सकती है। परंतु, अभी तक इन निष्कर्षों पर आधारित कोई भी व्यावसायिक उत्पाद नहीं बनाया गया है। अज़ाडिरैक्टा इंडिका (नीम) और धतूरा स्ट्रैमोनियम (जिमसनवीड) के अर्क का उपयोग बैंगनी धब्बों के जैविक नियंत्रण के लिए किया जा सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

उपलब्ध होने पर हमेशा निवारक उपायों और जैविक उपचार दोनों को एक साथ आज़माने पर विचार करें। प्याज़ की अधिकांश व्यावसायिक फसलों को सुरक्षात्मक फफूंदनाशकों के बार-बार उपयोग से बैंगनी धब्बा से बचाना चाहिए। कवकनाशी बोस्कालिड, क्लोरोथेलोनिल, फ़ेनमिडोन और मैन्कोज़ेब (सभी 0.20 - 0.25%) पर आधारित घोल का रोपाई के एक महीने बाद 15 दिनों के अंतर पर निवारक रूप से छिड़काव किया जा सकता है। बैंगनी धब्बे के नियंत्रण के लिए कॉपर कवकनाशी पंजीकृत हैं, लेकिन ज़्यादा प्रभावी नहीं हैं। प्रतिरोध के बनने से बचने के लिए विभिन्न प्रकार के वैकल्पिक कवकनाशकों का इस्तेमाल करें।

निवारक उपाय

  • प्रमाणित स्रोतों से बीजों का उपयोग अवश्य करें.
  • यदि संभव हो, तो बुवाई और रोपाई मौसम की शुरुआत में करें.
  • यदि उपलब्ध हो, तो प्रतिरोधी किस्मों को चुनें.
  • कवक को सूरज की किरणों के संपर्क में लाने के लिए बुवाई के दो मौसम के बीच खेत की 2-3 बार जुताई करें.
  • रोपाई के समय पौधों के बीच की दूरी बढ़ाएं.
  • मज़बूत और स्वस्थ पौधों के लिए नाइट्रोजन और फ़ॉस्फ़ोरस सही मात्रा में डालें.
  • खेतों में और उसके चारों ओर खरपतवार पर नियंत्रण करें.
  • कटाई के बाद मलबे और अपने आप उगने वाले पौधों को हटा दें.
  • ध्यान रखें कि खेत में काम के दौरान पौधों को घायल न करें.
  • 2-3 साल का फसल चक्रण रोगजनक आबादी को ऊँचे स्तर तक जाने से रोकता है.
  • प्याज़ का एक अच्छे हवादार कमरे में 1-3 डिग्री सेल्सियस और 65-70% की आर्द्रता पर भंडारण करें.
  • प्याज़ के थ्रिप्स कीटों पर नियंत्रण करें, क्योंकि उनके द्वारा कमज़ोर किए गए पौधों में बीमारी की आशंका अधिक होती है।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!