- प्याज

प्याज प्याज

प्याज़ की पत्ती की स्टेमफ़ाइलियम अंगमारी

फफूंद

Pleospora allii


संक्षेप में

  • पत्तियों पर छोटे, गीले, सफ़ेद हल्के पीले धब्बे होते हैं.
  • समय के साथ, ये पीले-भूरे से लेकर भूरे रंग के केंद्र के साथ धँसे हुए, लम्बे, भूरे रंग के धब्बे बन जाते हैं.
  • बड़े हिस्से के मर जाने से ऊतकों में अंगमारी से काफ़ी ज़्यादा नुक़सान होता है।.
 - प्याज

प्याज प्याज

लक्षण

शुरुआती लक्षण छोटे, गीले, सफ़ेद हल्के पीले रंग के धब्बे होते हैं। आमतौर पर, ये धब्बे चलने वाली हवा के सामने वाले पत्तों के किनारे पर अधिक संख्या में पाए जाते हैं। समय के साथ, ये छोटे धब्बे जुड़ जाते हैं और धँसे हुए, अंडाकार या लम्बे, पीले-भूरे से लेकर भूरे केंद्र वाले भूरे रंग के धब्बे पत्ती की सतह पर दिखाई देने लगते हैं। उनके केंद्र में घेरे भी बन सकते हैं। बाद के चरणों में, बड़े सूखे हुए क्षेत्र बन जाते हैं, जो पत्ती या बीज के तने को घेर सकते हैं और ऊतकों को काफ़ी नुकसान पहुंचा सकते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

स्टेमफ़ाइलियम लीफ़ ब्लाइट या पत्ती की अंगमारी, कवक प्लीयोस्पोरा ऐली के कारण होती है, जिसे पहले स्टेमफ़ाइलियम वेसिकेरियम के नाम से जाना जाता था और जिस पर इस बीमारी का नाम रखा गया है। यह संक्रमित पौधे के मलबे पर जीवित रहता है और वसंत में अनुकूल परिस्थितियों में फिर से उगना शुरू करता है। यह तब बीजाणु पैदा करता है जो हवा से पास के पौधों में फैल जाते हैं। यह आम तौर पर मृत और मरने वाले प्याज़ के ऊतकों, जैसे कि पत्ती की नोंक, पिछले रोगों के कारण घाव, या क्षतिग्रस्त ऊतक (जैसे कीड़े या ओलों से) पर हमला करता है। लंबे समय तक गर्म गीला रहने से रोग के विकास को बढ़ावा मिलता है। यदि मौसम गर्म है (18 - 25 डिग्री सेल्सियस) और पत्ती की सतह 24 घंटे से अधिक समय तक गीली रहती है, तो स्वस्थ पत्तियों पर भी हमला हो सकता है। संक्रमण आमतौर पर पत्तियों तक ही सीमित रहता है और गाँठ को प्रभावित नहीं करता है। नयी पत्तियों की तुलना में पुरानी पत्तियाँ अतिसंवेदनशील होती हैं।

जैविक नियंत्रण

स्टेमफ़ाइलियम पत्ती अंगमारी के जैव नियंत्रण के लिए, अज़ाडिरैक्टा इंडिका (नीम) और धतूरा स्ट्रैमोनियम (जिमसनवीड) के जलीय अर्क का असर पारंपरिक कवकनाशकों के समान होता है। ग्रीनहाउस परिस्थितियों में, ट्राइकोडर्मा हर्ज़ियेनम और स्टैकीबोट्रिस कार्टारम पर आधारित उत्पादों से रोकथाम या उपचार करने से रोग होने की संभावना और गंभीरता (दोनों मामलों में लगभग 70%) में कमी होती है।

रासायनिक नियंत्रण

अगर उपलब्ध हो तो हमेशा रोकथाम के उपायों और जैविक उपचार दोनों के एक साथ उपाय पर विचार करें। सक्रिय तत्वों ऐजोक़्सीस्ट्रोबिन + डाईफ़ेनोकोनाज़ोल, बोस्केलिड + पायराक्लोस्ट्रोबिन, क्लोरोथेलोनिल, आइप्रोडियोन, मैंकोज़ेब और प्रोक्लोराज़ का घोल स्टेमफ़ाइलियम वेसिकेरियम की वृद्धि को कम करने में अत्यधिक प्रभावी हैं। उपचार तब किया जाना चाहिए जब कवक के लिए स्थितियां प्रतिकूल हों (ठंडा और शुष्क मौसम)। सामान्य तौर पर, कवकनाशी की प्रभावशीलता को उत्पादों के बदलने से बढ़ाया जा सकता है।

निवारक उपाय

  • प्रतिरोधी किस्मों को चुनें (कई उपलब्ध हैं).
  • पत्तियों को ज़्यादा देर तक गीला रहने से बचाने के लिए पौधों की क़तारों को चलने वाली हवा की दिशा में बोएं.
  • हवा के अच्छे बहाव के लिए पौधों के घनत्व को कम करें.
  • रोपण से पहले खेत से पानी की पर्याप्त निकासी को सुनिश्चित करें.
  • अत्यधिक नाइट्रोजन के इस्तेमाल से बचें जिससे रोग की गंभीरता बढ़ सकती है.
  • फसल की कटाई के बाद जुताई द्वारा मलबे और कल्लों को हटा दें और दफ़न करें.
  • 3-4 साल की अवधि के फसल चक्रण का उपयोग करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!