- मसूर

मसूर मसूर

दालों की स्टेमफ़ाइलियम अंगमारी

फफूंद

Pleospora herbarum


संक्षेप में

  • पत्तियों पर छोटे, हल्के मटमैले धब्बे जो आपस में मिलकर पूरी टहनी ढक लेते हैं.
  • उच्च सापेक्षिक आर्द्रता होने पर रोगित पत्तियां धूसर से काले रंग की दिखने लगती हैं.
  • पौधे कुछ ही दिन में पत्तीविहीन हो सकते हैं.
  • दूर से, खेत में अनियमित भूरे क्षेत्र नज़र आते हैं।.
 - मसूर

मसूर मसूर

लक्षण

स्टेमफ़ाइलियम अंगमारी शुरुआत में पत्तियों या पत्रकों पर छोटे, हल्के मटमैले धब्बों के रूप में नज़र आती है। ये लक्षण बॉट्राइटिस अंगमारी के लक्षणों से बहुत मिलते-जुलते होते हैं। अंत में, ये धब्बे आपस में मिलकर बड़े और अनियमित आकार के धब्बे बना लेते हैं, जो कि पूरी की पूरी शाखाओं को ढक लेते हैं। हरिमाहीन से लेकर पीली-भूरी रंग की पत्तियां विशेष रूप से छत्र (कैनोपी) के शीर्ष पर स्पष्ट दिखती हैं। शुरुआत में, तना हरा रहता है, लेकिन जैसे-जैसे रोग बढ़ता है, यह अंत में पीला-भूरा और फिर भूरा पड़ जाता है। उच्च सापेक्षिक आर्द्रता होने पर रोग लगी पत्तियां धूसर से काली रंग की दिखने लगती हैं। जब ये धरती पर गिर जाती हैं, तो भविष्य में संक्रमण के लिए नए रोगाणु देने का कार्य करती हैं। अक्सर, कुछ ही दिनों में पौधों पर केवल शीर्ष पत्तियां ही रह जाती हैं। दूर से, खेत में अनियमित भूरे क्षेत्र देखे जा सकते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

दालों की स्टेमफ़ाइलियम अंगमारी का कारण फफूंद प्लीयोस्पोरा हर्बेरम है, जिसे पहले स्टेमफ़ाइलियम हर्बेरम के नाम से जाना जाता था और इसीलिए रोग का यह नाम पड़ा है। माना जाता है कि यह बीजों और पौधे क संक्रमित अवशेषों में जीवित रहता है। दालों के अलावा, यह फफूंद कई तरह के चौड़ी पत्ती वाले पौधों को संक्रमित कर सकता है। मौसम के अंत में, लंबी अवधि तक पत्तियां गीली रहना रोग के विकास के लिए आवश्यक है। रोग का लगना और इसकी तीव्रता तापमान पर भी निर्भर करती है और इसके लिए 22-30 डिग्री सेल्सियस की सीमा आदर्श होती है। इन परिस्थितियों में, 8-12 घंटे तक पत्तियां नम रहना रोग लगने के लिए पर्याप्त है। अर्द्ध आदर्श परिस्थितियों में, उदाहरण के लिए 15 से 20 डिग्री सेल्सियस वायु तापमान पर, नमी की अवधि काफ़ी ज़्यादा बढ़ जाती है (24 घंटे या ज़्यादा)। तरुण पौधों की तुलना में पुराने पौधों में रोग विकसित होने की आशंका ज़्यादा होती है, विशेषकर जब वे नाइट्रोजन की कमी झेल रहे होते हैं।

जैविक नियंत्रण

एज़ाडिरैक्टा इंडिका (नीम) और डटूरा स्ट्रैमोनियम (धतूरा) के जलीय अर्क का इस्तेमाल स्टेमफ़ाइलियम पत्ती अंगमारी रोग के जैविक नियंत्रण के लिए किया जा सकता है, इसका असर पारंपरिक फफूंदनाशकों जैसा ही होता है। ग्रीनहाउस में, ट्राइकोडर्मा हर्ज़ियेनम और स्टैकिबॉट्रिस चार्टैरम पर आधारित निवारक या उपचारात्मक इस्तेमाल रोग लगने की संभावना और तीव्रता में कमी लाता है (दोनों मामलों में लगभग 70%)।

रासायनिक नियंत्रण

रोकथाम उपायों के साथ-साथ उपलब्ध जैविक उपचारों को लेकर हमेशा एक समेकित कार्यविधि पर विचार करें। दालों की स्टेमफ़ाइलियम अंगमारी के विरुद्ध प्रभावी होने के लिए, फफूंदनाशकों का इस्तेमाल वृद्धि मौसम के अंतिम तीसरे हिस्से में निवारक उपाय के रूप में किया जाना चाहिए। इससे पहले के उपचार हर तरह से अप्रभावी रहते हैं। सक्रिय तत्वों एज़ॉक्सीस्ट्रॉबिन + डाइफ़ेनोकॉनाज़ॉल, बोस्कैलिड + पाइराक्लॉस्ट्रोबिन, क्लोरोथैलोनिल, आइप्रोडियोन, मैंकोज़ेब और प्रोक्लोरेज़ के घोल भी प्रभावी हो सकते हैं। उपचार तब करना चाहिए जब फफूंद के लिए परिस्थितियां प्रतिकूल हों (ठंडा और सूखा मौसम)। सामान्यतः, उत्पादों को बदल-बदल कर इस्तेमाल करने से फफूंदनाशकों की प्रभावशीलता बढ़ जाती है।

निवारक उपाय

  • स्वच्छ बीज का चुनाव सुनिश्चित करें, यदि संभव हो तो प्रमाणित स्रोतों से.
  • प्रतिरोधी किस्में चुनें (कई उपलब्ध हैं).
  • समुचित वायु संचार के लिए पौधे कम घने रखें.
  • रोपण से पहले खेत में अच्छी जल-निकासी की व्यवस्था सुनिश्चित करें.
  • अत्यधिक नाइट्रोजन आपूर्ति से बचें क्योंकि ये रोग की तीव्रता बढ़ा सकती है.
  • फसल कटाई के बाद पौधे के अवशेषों को हटाकर जुताई करके गहरे दबा दें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!