- कपास

कपास कपास

गीले मौसम में कपास में होने वाला तुषारपात

फफूंद

Ascochyta gossypii


संक्षेप में

  • बीजपत्रों पर और अंकुरों की निचली पत्तियों पर घुमावदार, हल्के भूरे या सफे़द धब्बे.
  • पुरानी पत्तियों पर गहरे भूरे रंग के किनारों के साथ पीले-भूरे धब्बे और तनों पर काले या राख के रंग के फोड़े.
  • फूलों पर हमला नहीं होता है, लेकिन बीजकोष खुल सकते हैं और रोएं बदरंग हो जाते हैं।.
 - कपास

कपास कपास

लक्षण

ऐसोकइटा तुषारपात आमतौर पर मौसम के शुरू में होता है। बीजपत्र और अंकुरों के निचले पत्तों पर विभिन्न आकारों में गोलाकार, हल्के भूरे या सफे़द धब्बों का पाया जाना इनके लक्षण होते हैं। ये घाव आकार में काफ़ी बड़े हो सकते हैं और इनके किनारे बैंगनी-भूरे रंग के होते हैं। बाद के संक्रमण में परिपक्व पत्तियों पर पीले-भूरे धब्बे दिखते हैं, जिनके गहरे भूरे रंग के किनारे होते हैं। घाव मिल सकते हैं और बड़े आकार के पीले-भूरे रंग के धब्बे बन सकते हैं। इन घावों के केंद्र बाद में हल्के भूरे या स्लेटी रंग के हो जाते हैं और पपड़ी में बदल जाते हैं, और अंत में बाहर गिर जाते हैं। लंबे, काले या धूमिल कालिख रंग के फोड़े तने पर दिखाई देते हैं। ये मुख्य रूप से लगातार कई दिनों तक बादल छाए रहने के बाद दिखाई देते हैं। यहां भी, घावों पर छोटी, काली छींटें दिखाई दे सकती हैं। समय के साथ, फोड़े सूख सकते हैं, फट सकते हैं, और तने को घेरकर पौधे के ऊपरी हिस्सों को नष्ट कर सकते हैं। फूलों पर हमला नहीं होता है, लेकिन बीजकोष आधे खुल सकते हैं और धूमिल बदरंग रोएं दिखाई दे सकते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

अधिकांश प्रमुख कपास उत्पादक क्षेत्रों में ऐसोकइटा तुषारपात के आसार पाए गए हैं, और यह कवक ऐसोकइटा गोस्सीपी के कारण होता है। यह कई वर्षों तक पौधे के अवशेषों पर सर्दियां बिता सकता है और अनुकूल परिस्थितियों में, यह ऐसे बीजाणुओं का उत्पादन करता है जो बाद में कई किलोमीटर की दूरी पर हवा और बारिश की बौछार से फैलते हैं। ठंड, बदली और बरसाती मौसम, उच्च आर्द्रता, सुबह की ओस और लंबे समय तक पत्ती पर गीलापन (2 घंटे या अधिक), विशेष रूप से रोग को फैलने में मदद करता है, ख़ासतौर पर पौधे के विकास के शुरुआती चरणों के दौरान। कवक तापमान की एक विस्तृत श्रृंखला में विकसित हो सकता है (5-30 डिग्री सेल्सियस), लेकिन इष्टतम विकास 15-25 डिग्री सेल्सियस के बीच होता है। यदि परिस्थितियां अनुकूल होती हैं, तो पौधे की बढ़वार के मौसम के दौरान संक्रमण के कई चक्र हो सकते हैं। उपज नुकसान के आसार शायद ही कभी मिलते हैं, लेकिन अनुकूल परिस्थितियों में ये संभव है।

जैविक नियंत्रण

अभी तक, इस बीमारी के खिलाफ़ कोई भी जैविक उपचार उपलब्ध नहीं है। कॉपर-आधारित कवकनाशी जैसे बोर्डोक्स मिश्रण का उपयोग रोग के प्रसार को कम करने के लिए किया जा सकता है। परंतु, ध्यान दें कि यह पौधों में एक विषाक्त प्रतिक्रिया भी पैदा कर सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो, तो हमेशा निवारक उपायों और जैविक उपचार के एकीकृत दृष्टिकोण पर विचार करें। बीज को बुवाई से पहले थिरैम या थिरैम + थायबेंडाज़ोल पर आधारित बीज पर डालकर इलाज किया जा सकता है। क्लोरोथलोनिल पर आधारित निवारक पर्ण कवकनाशी का उपयोग किया जा सकता है, ख़ासकर यदि एक अतिसंवेदनशील किस्म उगाई जाती है। एक बार बीमारी का पता चलने के बाद, कार्रवाई के एक व्यवस्थित मोड के साथ पर्ण कवकनाशकों के चक्रीकरण की अनुशंसा की जाती है (बॉस्कैलिड, मैन्कोज़ेब, पाइराक्लोस्ट्रॉबिन + फ़्लुक्सापायरोक्सैड)। गंभीर उपज हानि से बचने के लिए पौधे की बढ़वार के मौसम में उपचार करने की आवश्यकता हो सकती है।

निवारक उपाय

  • यदि उपलब्ध हो, तो अधिक प्रतिरोधी किस्में चुनें.
  • प्रमाणित रोगमुक्त बीज सामग्री का उपयोग करें.
  • वैकल्पिक रूप से, एक स्वस्थ खेत वाले बीजों का उपयोग करें.
  • घने छत्र से बचने के लिए बीज दरों संबंधी सिफ़ारिशों का पालन करें.
  • बीमारी से बुरी तरह से प्रभावित होने से बचाने के लिए मौसम में देरी से पौधे लगाएं.
  • बीमारी के संकेतों के लिए खेतों की निगरानी करें.
  • खेत में तथा उसके आसपास रोगग्रस्त पौधों, स्वेच्छा से उगने वाले पौधों, और खरपतवार को उखाड़ फेंके.
  • खेतों में अच्छी स्वच्छतापरक कार्यप्रणाली को व्यवहार में लाएं, उदाहरण के लिए बूथ और कपड़ों को धोना, और औज़ारों को साफ़ रखना.
  • अत्यधिक मात्रा में पानी देने और ऊपरी सिंचाई से बचें.
  • जब पत्ती की सतह गीली हो, तो खेती-बाड़ी करने से बचें.
  • पैदावार पर पड़ने वाले अत्यधिक बुरे प्रभाव से बचने के लिए जितनी जल्दी हो सके फसल काट लें.
  • अगले मौसम में कवक के संक्रमण की संभावना को कम करने के लिए अवशेषों को मिट्टी में गहराई में दफ़न करें.
  • वैकल्पिक रूप से उन्हें हटा दें और जलाकर नष्ट कर दें.
  • गैर-अतिसंवेदनशील पौधों के साथ-साथ 2-3 साल की फसल चक्रीकरण योजना बनाएं।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!