- सोयाबीन

सोयाबीन सोयाबीन

सोयाबीन का मृदुरोमिल आसिता रोग

फफूंद

Peronospora manshurica


संक्षेप में

  • पत्ती की ऊपरी सतह पर छोटे, हल्के पीले धब्बे.
  • पुराने धब्बे भूरे पड़ जाते हैं जिनके चारों ओर चमकीला घेरा होता है.
  • पत्ती की निचली सतह धूसर रोएंदार दिखती है।.
 - सोयाबीन

सोयाबीन सोयाबीन

लक्षण

मृदुरोमिल आसिता रोग (डाउनी मिल्ड्यू) के शुरुआती लक्षण नए पौधों पर भी मिलते हैं, लेकिन रोग अंतिम वनस्पतिक या शुरुआती प्रजनन अवस्थाओं तक खेत में विकसित नहीं होता है। शुरुआत में, छोटे, अनियमित, हल्के पीले धब्बे पत्ती की ऊपरी सतह पर प्रकट होते हैं। बाद में, ये धब्बे पीले से किनारों के साथ धूसर-भूरे हो जाते हैं। पत्तियों की निचली सतह पर रोगाणु की मौजूदगी के कारण धब्बे धूसर रोएंदार नज़र आते हैं। पूरी फसल की छत्र (कैनोपी) पर लक्षण अक्सर कम मुखर होते हैं। जब फलियां संक्रमित होती हैं, तो फलियों के अंदर फफूंद जैसी वृद्धि का एक पपड़ीदार हिस्सा दिखता है। संक्रमित बीज दिखने में मटमैला सफ़ेद होता है और आंशिक या पूरी तरह फफूंद से ढका होता है। धब्बों का आकार और आकृति पत्तियों की आयु पर निर्भर करते हैं। पुराने धब्बे पीले या हरे किनारों के साथ धूसर भूरे से लेकर गहरे भूरे रंग में बदल सकते हैं। गंभीर रूप से संक्रमित पत्तियां पीली से भूरी पड़ जाती हैं और समय से पूर्व गिर जाती हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

मृदुरोमिल आसिता रोग का कारण फफूंद जैसा सूक्ष्मजीव, पेरोनोस्पोरा मैनशुरिका, है। इसके बीजाणु या स्पोर मुख्य रूप से पत्तियों के कूड़े या कभी-कभी बीजों पर शीत-शयन करते हैं। रोग फूल आना शुरू होने के बाद सबसे आम नज़र आता है। नई पत्तियां सबसे ज़्यादा संवेदनशील होती हैं जबकि संक्रमित पत्तियां अक्सर पौधों के शीर्ष पर दिखती हैं। पुराने सोयाबीन पौधों पर धब्बे संख्या में बढ़ सकते हैं जबकि पुरानी पत्तियों पर धब्बों का आकार घट सकता है। मध्यम तापमान (20-22 डिग्री सेल्सियस) और उच्च नमी रोग को बढ़ावा देते हैं। डाउनी मिल्ड्यू का फफूंद मोटी भित्ति वाले बीजाणुओं के रूप में पत्तियों के कूड़े और बीजों पर शीत-शयन करते हैं। रोग का विकास अधिकांशतः जलवायु पर निर्भर करता है। नमी घटने का डाउनी मिल्ड्यू रोगाणु पर बुरा असर पड़ता है, जिससे आगे रोग फैलाव से बचाव होता है। लगातार ज़्यादा नमी और बारिश होने पर डाउनी मिल्ड्यू रोग का विकास बढ़ता है।

जैविक नियंत्रण

अब तक हमें इस रोग के विरुद्ध कारगर किसी जैविक नियंत्रण विधि की जानकारी नहीं है। अगर आपको रोग लगने की संभावना या लक्षणों की विकटता कम करने वाली किसी सफल विधि की जानकारी है, तो कृपया हमसे संपर्क करें।

रासायनिक नियंत्रण

रोकथाम उपायों के साथ-साथ उपलब्ध जैविक उपचारों को लेकर हमेशा एक समेकित कार्यविधि पर विचार करें। बीज उपचार के लिए मेटा लैक्सिल, ऑक्साडिक्सिल जैसे फफूंदनाशकों का इस्तेमाल मैंकोज़ेब, मैनेब या ज़िनेब के साथ करें।

निवारक उपाय

  • रोपण के लिए उपलब्ध प्रतिरोधी किस्मों से प्राप्त प्रमाणित बीजों का ही इस्तेमाल करें.
  • पास-पास लगाने या अत्यधिक उर्वरक आपूर्ति से बचें.
  • मृदुरोमिल आसिता रोग (डाउनी मिल्ड्यू) लगने की संभावना कम की जा सकती है अगर आप सोयाबीन का गैर-मेज़बान फसलों के साथ कम से कम एक वर्ष तक फसल-चक्रीकरण करें.
  • अगले वर्ष मृदुरोमिल आसिता रोग लगने की संभावना कम करने के लिए संक्रमित फसल अवशेष गहराई में दबा दें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!