- आम

आम आम

आम का गुच्छा रोग

फफूंद

Fusarium mangiferae


संक्षेप में

  • प्ररोहों, पत्तियों और फूलों का असामान्य विकास.
  • शीर्ष पर गुच्छा दिखता है.
  • अवरुद्ध वृद्धि.
  • दो तरह की विकृतिः वनस्पतिक और पुष्पीय विकृति.
  • फूलों और वानस्पतिक टहनियों तक विकार की पहुंच।.
 - आम

आम आम

लक्षण

रोग का कारण फफूंद की प्रजाति, फ़्यूज़ेरियम मैंगीफ़ेरी, है। वनस्पतिक विकृति आम तौर पर नई पौध पर पाई जाती है। नवांकुर छोटे-छोटे प्ररोह निर्मित करते हैं, जिसके कारण प्ररोह के शीर्ष पर एक गुच्छा दिखने लगता है। नवांकुर का विकास अवरुद्ध हो जाता है और यह अंत में मर जाता है। पुष्पक्रम की विकृति के कारण बौरों में अंतर दिखाई देता है। बुरी तरह से विकृत पुष्पक्रम बड़े फूलों के कारण घने और खचाखच भरे होते हैं। प्रभावित पेड़ घनी टहनियों और फूलों के कारण असामान्य दिखते हैं। वृद्धि बिंदु, जैसे कि पत्ती और तना कलिकाएं बेढंगे प्ररोह बनाती हैं, जिनके पर्व (गांठों के बीच का हिस्सा) छोटे होते हैं और पत्तियां भंगुर होती हैं। पत्तियां स्वस्थ पौधों की तुलना में काफ़ी छोटी होती हैं। पेड़ पर सामान्य और विकृत वृद्धि एक साथ मौजूद हो सकती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

यह रोग मुख्य रूप से पौधे की संक्रमित सामग्री से फैलता है। मिट्टी में अत्यधिक नमी, घुन का प्रकोप, फफूंद संक्रमण, विषाणु, तृणनाशक और अन्य विषाक्त पदार्थ फफूंद विकास में मदद करते हैं। आयरन, ज़िंक और कॉपर की कमी के कारण भी गुच्छा रोग हो सकता है। प्रभावित बाग़ों में यह रोग धीरे-धीरे फैलता है। फूल आने के दौरान 10-15 डिग्री तापमान इसकी वृद्धि को बढ़ावा देते हैं।

जैविक नियंत्रण

संक्रमण कम करने के लिए धतूरा स्टैमोनियम (एल्केलॉयड), कैलोट्रोपिस गाइगैंटी और नीम के पेड़ (एज़ाडिरैक्टिन) के अर्क का इस्तेमाल करें। ट्राईकोडर्मा हर्ज़ियेनम भी रोगाणु की वृद्धि नियंत्रित करने में बहुत प्रभावशाली है। रोगित पौधों को नष्ट कर देना चाहिए। रोग-मुक्त रोपण सामग्री का इस्तेमाल करें। संक्रमित पेड़ों से ली गई कलमों का इस्तेमाल न करें।

रासायनिक नियंत्रण

रोकथाम उपायों के साथ-साथ उपलब्ध जैविक उपचारों को लेकर हमेशा एक समेकित कार्यविधि पर विचार करें। कैप्टान 0.1% रोग का फैलाव नियंत्रित करने में मदद करता है। नियंत्रण उपाय के रूप में कीटनाशक, फ़ॉलिडोल या मेटासिस्टॉक्स, का छिड़काव करें। फूल लगने के दौरान कार्बेंडाज़िम 0.1% का 10, 15 या 30 दिन के अंतराल पर छिड़काव करें। 100 या 200 पी.पी.एम. नेफ्थलीन एसिटिक एसिड (एन.ए.ए.) अगले मौसम में रोग लगने की संभावना कम करता है। फूल लगने से पहले और फल तोड़ने के बाद सूक्ष्म तत्वों. जैसे कि ज़िंक, बोरॉन और कॉपर. का छिड़काव विकृति नियंत्रित या न्यूनतम करने में कारगर सिद्ध हुआ है।

निवारक उपाय

  • रोपण के लिए रोग-मुक्त पौध चुनें.
  • पौधे के विकृत हिस्सों की मौजूदगी के लिए अपने बाग़ की लगातार निगरानी करें.
  • विकृत बौर की छंटाई से आने वाले वर्षों में पुष्पक्रम में विकृति की तीव्रता कम हो सकती है.
  • पौधे के प्रभावित हिस्सों को हटाकर नष्ट कर दें.
  • फूल लगने से पहले और फल तोड़ने के बाद सूक्ष्म तत्वों, जैसे कि ज़िंक, बोरॉन और कॉपर, का छिड़काव विकृति नियंत्रित या न्यूनतम करने में कारगर सिद्ध हुआ है.
  • एक अध्ययन में नाइट्रोजन की मात्रा बढ़ाने से पुष्पगुच्छ निर्माण में कमी देखी गई है.
  • फफूंद का फैलाव रोकने के लिए अच्छी स्वच्छता, बाग़ और उपकरणों का सही प्रबंधन आवश्यक है.
  • रोग का फैलाव रोकने के लिए अपने छंटाई उपकरणों की अच्छी तरह सफ़ाई करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!