- भिंडी

भिंडी भिंडी

भिंडी का सर्कोस्पोरा पत्ती धब्बा रोग

फफूंद

Cercospora malayensis


संक्षेप में

  • पत्तियों की निचली सतह पर इधर-उधर धब्बों की मौजूदगी.
  • पत्तियों का सूखना और मुरझाना.
  • पत्तियों का झड़ना।.
 - भिंडी

भिंडी भिंडी

लक्षण

शुरुआत में, पत्तियों की निचली सतह पर टेढ़े-मेढ़े भूरे धब्बे दिखाई देते हैं। पुरानी पत्तियां, जो कि भूमि के समीप होती हैं, आम तौर पर रोग से प्रभावित होती हैं। जैसे-जैसे रोग बढ़ता है, पत्तियां सूख कर भूरी हो जाती हैं। ये बेलनाकार मुड़ सकती हैं और अंत में झड़ सकती हैं। गंभीर संक्रमण की स्थिति में पौधे की पत्तियां पूरी तरह झड़ सकती हैं। शुरुआत में, रोग के लक्षण पत्ती की निचली सतह पर जैतून के रंग की धुंधली चित्तियों के रूप में स्पष्ट नज़र आते हैं। बाद में, हल्की भूरी से लेकर धूसर रंग की फफूंदी पत्ती की पूरी निचली सतह ढक लेती है। गंभीर मामलों में, पत्तियों की ऊपरी सतह पर भी परिगलित धब्बे देखे जा सकते हैं। संक्रमित पत्तियां अंत में सूखकर झड़ जाती हैं। रोग नीचे की पत्तियों से ऊपर की तरफ़ बढ़ता है और तना और फलों को संक्रमित करते हुए एकसमान लक्षण दर्शाता है। इसके लक्षणों को भूलवश पी. अबेलमोशी का मान लिया जाता है, जो कि कालिख जैसे काले कोणीय धब्बों (सूटी ब्लैक एंगुलर स्पॉट) का कारण है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

पत्तियों पर धब्बों के कारण फफूंद सर्कोस्पोरा मलेयंसिस और सर्कोस्पोरा अबेलमोशी हैं। यह मिट्टी में पड़े संक्रमित वनस्पतिक कूड़े में जीवित रहता है और शीत-शयन करता है। इसलिए, यह पहले भिंडी के पौधे की जड़ों और निचली पत्तियों को संक्रमित करता है। द्वितीयक रूप से बीजाणु हवा, बारिश, सिंचाई के पानी और यांत्रिक औज़ारों के माध्यम से फैलते हैं। नमी के मौसम में पत्ती धब्बा रोग बहुत आम है क्योंकि गर्म और नम मौसम फफूंद की वृद्धि के अनुकूल होता है। बारिश और उच्च नमी स्तर संक्रमण, रोग विकास और पत्तियों पर फफूंद के बीजाणुजनन को बढ़ावा देते हैं।

जैविक नियंत्रण

अब तक हमें इस रोग के विरुद्ध कारगर किसी भी जैविक नियंत्रण विधि की जानकारी नहीं है। अगर आपको प्रकोप या लक्षणों की विकटता घटाने में कारगर किसी सफल विधि की जानकारी है, तो कृपया हमसे संपर्क करें।

रासायनिक नियंत्रण

रोकथाम उपायों के साथ-साथ उपलब्ध जैविक उपचारों को लेकर हमेशा एक समेकित कार्यविधि पर विचार करें। दोपहर में पत्तियों की निचली सतह पर कवकनाशक का छिड़काव करें। सुरक्षात्मक कवकनाशकों, जैसे कि कॉपर ऑक्सीक्लोराइड @ 0.3%, मैंकोज़ेब @ 0.25% या ज़िनेब @ 0.2% का प्रयोग बुवाई के एक महीने बाद करें, और गंभीरता पर निर्भर करते हुए एक पखवाड़े के अंतराल पर यही प्रक्रिया दोहराएं।

निवारक उपाय

  • केवल प्रमाणित बीज सामग्री का प्रयोग करें और अपनी फसल को पर्याप्त दूरी पर लगाएं ताकि पत्तियां हवा से सूखती रहें.
  • अपने खेत की नियमित निगरानी करें और संक्रमित पत्तियों को समुचित तरीके से हटाएं (उन्हें जलाना भी एक विकल्प है).
  • खरपतवार का सही प्रबंधन करने की सलाह दी जाती है.
  • पर्याप्त पानी और उर्वरक आपूर्ति करके पौधों को किसी तरह की कमी न होने दें.
  • शाम की बजाय सुबह सिंचाई करें.
  • भूमि के ऊपर से सिंचाई न करें और खराब जल-निकासी वाली मिट्टी से बचें.
  • गैर-मेज़बान फसलों के साथ फसल चक्रीकरण पर विचार करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!