- भिंडी

भिंडी भिंडी

भिंडी में पत्ती के धब्बे

फफूंद

Pseudocercospora abelmoschi


संक्षेप में

  • पत्तियों के निचले किनारे पर कालिखदार काले कोणीय धब्बों का होना.
  • पत्तों का सूखना, मुरझाना और गिरना.
  • तने और फल भी प्रभावित होते हैं।.
 - भिंडी

भिंडी भिंडी

लक्षण

शुरू में, पत्तियों के निचले हिस्से पर जैतून के रंग के अस्पष्ट धब्बे देखे जा सकते हैं। विशेष रूप से जमीन के पास की पुरानी पत्तियाँ, बीमारी से प्रभावित होती हैं। हल्के भूरे से भूरे रंग के बेढंगी फफूंद प्रभावित पत्तियों की सतहों पर उग सकती है। जैसे-जैसे बीमारी बढ़ती है, धब्बे के ऊतक मरने लगते हैं और पत्ती की ऊपरी सतह पर भी दिखाई दे सकते हैं। संक्रमित पत्तियां बाद में सूख जाती हैं और मुरझा जाती हैं। तने और फल भी इसी तरह के लक्षणों से प्रभावित हो सकते हैं। गंभीर संक्रमण से, पौधे की पूरी पत्तियाँ गिर सकती हैं। सर्कोस्पोरा मलएंसिस के लक्षण से भ्रमित हो सकते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

पत्ती के धब्बे फंगस स्यूडोसॉरकोस्पोरा एबेलमॉस्की के कारण होते हैं। यह जीवित रहता है और सर्दियों में मिट्टी में संक्रमित पौधे के मलबे पर उग कर सर्दियाँ निकालता है और इस तरह भिन्डी के पौधों की जड़ों और निचली पत्तियों को संक्रमित करता है। बीजाणु हवा, वर्षा, सिंचाई और यांत्रिक उपकरणों के द्वारा फैलते हैं। नम मौसम (फूल अवस्था) के दौरान पत्ती के धब्बे बहुत आम होते हैं, क्योंकि गर्म और गीले मौसम कवक के अनुकूल होते हैं।

जैविक नियंत्रण

आज तक, हमें इस बीमारी के खिलाफ उपलब्ध किसी भी जैविक नियंत्रण विधि का पता नहीं हैं। यदि आप बीमारी के होने या लक्षणों की गंभीरता को कम करने के लिए किसी भी सफल तरीके को जानते हैं, तो कृपया हमसे संपर्क करें।

रासायनिक नियंत्रण

यदि उपलब्ध हो तो हमेशा निवारक उपायों और जैविक उपचार के साथ एकीकृत तरीकों पर विचार करें। दोपहर में पत्तियों के निचले हिस्से पर फफूंदनाशक का छिड़काव करें। कॉपर ऑक्सीक्लोराइड @ 0.3%, मैनकोजेब @ 0.25% या जिनेब @ 0.2% के रूप में सुरक्षात्मक कवकनाशकों का उपयोग बुवाई के एक महीने बाद करें और गंभीरता के आधार पर पाक्षिक अंतराल पर इस प्रक्रिया को दोहराएं। 15 दिनों के अंतराल पर कार्बेन्डाजिम 50 DF @ 0.1% ने रोग को रोकने में अच्छे परिणाम दिए हैं।

निवारक उपाय

  • केवल प्रमाणित बीज सामग्री का उपयोग करें और अपनी फसल को उचित दूरी पर लगाएं, ताकि पत्तियां सूख सकें.
  • अपने खेत की नियमित रूप से निगरानी करें और संक्रमित पत्तियों को ठीक से हटा दें (उन्हें जलाना भी एक विकल्प है).
  • अच्छे खरपतवार प्रबंधन की सलाह दी जाती है.
  • पर्याप्त पानी और उर्वरक देकर पौधों को तनाव से बचाएं.
  • शाम के बजाय सुबह में सिंचाई करें, और ऊपर से सिंचाई करने और खराब जलनिकासी वाली मिट्टी से बचें.
  • गैर-मेजबान फसलों के फसल चक्र पर विचार करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!