- गन्ना

गन्ना गन्ना

गन्ने की नारंगी रस्ट

फफूंद

Puccinia kuehnii


संक्षेप में

  • पौधे पर नारंगी से नारंगी-भूरे घाव.
  • पत्ती के चपटे हिस्से और पत्तियों के निचले हिस्से पर बीजाणुओं की उपस्थिति।।.
 - गन्ना

गन्ना गन्ना

लक्षण

पत्तियों पर घाव सूखे दाग के रूप में शुरू होते हैं। वे बाद में 4 मिमी लंबे और 3 मिमी चौड़े नारंगी-भूरे घावों में बदल जाते हैं। घाव अक्सर पत्तियों के आधार पर ज्यादा और समूहों में पाए जाते हैं। नारंगी रंग के बीजाणु पत्तियों की निचली सतह पर उत्पन्न होते हैं। गंभीर रूप से प्रभावित पत्तियों के ऊतक मर जाते हैं, जिससे फसल की कैनोपी में कमी आती है। गंभीर मामलों में, पत्तियों के आवरण पर भी दाग दिखाई देते हैं, जिसके परिणामस्वरूप पूरे पत्ते दूर से भूरे दिखाई देते हैं।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

बीमारी पुकीनिया कुहेनी कवक से होती है। यह रस्ट से फैलता है, जो सूक्ष्म, हल्के और कठोर बीजाणु का उत्पादन करता है, जो तेजी से हवा और पानी से कम और लंबी दूरी के फैलाव को आसान बनाता है। बीजाणु मिट्टी में पौधे के अवशेषों में भी जीवित रहते हैं। बीमारी आमतौर पर गर्म, गीले और अत्यधिक आर्द्र पर्यावरणीय परिस्थितियों में गर्मियों और शुरुआती शरद ऋतु में दिखाई देती है। यह अधिक पके गन्नों (आमतौर पर 6 महीने से अधिक आयु) को संक्रमित करती है। विकास और फैलाव 30°C से अधिक तापमान और 70 और 90% के बीच की आर्द्रता से रुक जाता है। हवा की तेज गति और निरंतर बादल छाए रहना बीमारी को बढ़ावा देते हैं।

जैविक नियंत्रण

अभी तक, हम इस बीमारी के खिलाफ उपलब्ध किसी भी जैविक नियंत्रण विधि को नहीं जानते हैं। अगर आप घटना या लक्षणों की गंभीरता को कम करने के लिए कोई भी सफल विधि जानते हैं, तो कृपया हमसे संपर्क करें।

रासायनिक नियंत्रण

अगर उपलब्ध हो, तो हमेशा जैविक उपचारों के साथ निवारक उपायों और एकीकृत तरीकों पर विचार करें। कवकनाशक पैदावार की हानि को कम कर सकते हैं। स्ट्रोबिलुरिन वर्ग के कावकनाशक जैसे कि पयराक्लोस्ट्रोबिन और अजोक्सीस्ट्रोबिन से पौधों पर छिडकाव करें, जिन्हें बीमारी का उपचार करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा, 3 से 4 सप्ताह के अंतराल पर ट्राईजोल वर्ग के कावकनशक जैसे कि मेटाकोनाजोल और प्रोपिकोनाजोल को लगा सकते हैं।

निवारक उपाय

  • प्रतिरोधक प्रजातियाँ लगाएँ.
  • खेतों या बागानों से पौधों के मलबे को हटा कर उदाहरण के लिए स्वच्छता का पालन करें.
  • रोग के लक्षणों के लिए खेतों या बगीचों की नियमित जाँच करें.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!