- सेम

सेम सेम

बीन कॉमन मोज़ाइक वायरस

वाइरस

BCMV


संक्षेप में

  • एक हल्के और गहरे हरे रंग का मोज़ाइक पैटर्न पत्ती (हरा-पर-हरा मोज़ाइक) पर दिखाई देता है.
  • पत्तियों के कुछ हिस्से उठे हुए, सिकुड़े या विकृत हो जाते हैं.
  • बाद के चरणों में, पत्तियां नीचे की ओर घुमावदार हो जाती हैं या मुड़ने लगती हैं.
  • पौधो के प्रारंभिक विकास चरणों के दौरान संक्रमित पौधे गंभीर रूप से अविकसित हो सकते हैं।.
 - सेम

सेम सेम

लक्षण

प्रारंभ में, त्रिकोणीय पत्ते रंग में थोड़ा हल्के हो जाते हैं। धीरे-धीरे, एक हल्के और गहरे हरे रंग के मोज़ाइक पैटर्न पत्ती (हरा-पर-हरा मोज़ाइक) पर दिखाई देता है। कुछ नसों या उसके कुछ हिस्सों में क्लोरोसिस (पीलापन) के संकेत दिखाई देते हैं। जैसे-जैसे बीमारी बढ़ती है, पत्तियों के कुछ हिस्से सिकुड़े हुए, फूले हुए या विकृत हो जाते हैं। घुमावदार या मुड़ी हुई पत्तियां बाद की अवस्था के अन्य लक्षण हैं। प्रारंभिक विकास चरणों के दौरान संक्रमित होने वाले पौधे गंभीर रूप से अविकसित और अनुत्पादक हो सकते हैं, और उनमें कम फलियां होती हैं और हर फली में कम बीज होते हैं। कुछ अतिसंवेदनशील किस्मों में, वायरस जड़ों के काले होने का कारण बन सकता है, यह एक लक्षण है जो केवल 30 डिग्री सेल्सियस से ऊपर तापमान पर देखा जाता है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

संक्रमण का प्राथमिक स्रोत संक्रमित बीज हैं। पौधे से पौधे तक का द्वितीयक संक्रमण संक्रमित पराग, रोगवाहक कीट (ज़्यादातर एफ़िड्स) या खेती के कार्य के दौरान पौधों की यांत्रिक चोट के माध्यम से होता है। लक्षण और उपज पर प्रभाव पौधों की विविधता, पर्यावरणीय परिस्थितियों (तापमान और आर्द्रता) और संक्रमण के समय पर निर्भर करते हैं। रनर बीन्स वायरस से प्रतिरक्षित प्रतीत होते हैं, जबकि पोल बीन्स और बुश बीन्स अधिक संवेदनशील होते हैं। वीषाणु से ग्रसित बीजों से उगाए गए संवेदनशील पौधों में (बीज-जनित संक्रमण) 100% तक की हानि हो सकती है। एफ़िड्स द्वारा बाद का संक्रमण आमतौर पर कम गंभीर होता है। 30 डिग्री सेल्सियस से ऊपर के तापमान पर लक्षण बिगड़ जाते हैं।

जैविक नियंत्रण

वायरस का सीधा उपचार संभव नहीं है। खनिज तेल में पानी मिलाकर उपयोग करने पर एफ़िड्स द्वारा वायरस के फैलाव को कम किया जा सकता है, लेकिन उच्च मात्रा में इन तेलों का इस्तेमाल पौधों के लिए विषाक्त हो सकता है।

रासायनिक नियंत्रण

अगर उपलब्ध हों, तो हमेशा जैविक उपचारों के साथ सुरक्षात्मक उपायों के संयुक्त दृष्टिकोण पर विचार करें। वायरल संक्रमण का रासायनिक उपचार संभव नहीं है। एफ़िड रोगवाहक का रासायनिक नियंत्रण अक्सर अप्रभावी होता है।

निवारक उपाय

  • प्रमाणित स्रोतों से स्वस्थ बीजो का उपयोग करें.
  • जब भी संभव हो प्रतिरोधी किस्मों के पौधे लगाएँ.
  • छतरी में प्रवेश करने से एफ़िड्स को रोकने के लिए पौधे पास-पास लगाए़.
  • एफ़िड की ज़्यादा आबादी से बचने के लिए पौधे जल्दी लगाएँ.
  • जब पहला लक्षण दिखाई देता है तभी संक्रमित पौधों को निकाल फेंकें.
  • अन्य बीन उत्पादन स्थलों से बीन्स की खेती दूरी पर करें.
  • गैर-मेज़बान पौधों के साथ फसलों का चक्रीकरण करें.
  • एफ़िड्स को रोकने के लिए साथी पौधे लगाएँ।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!