- सेम

सेम सेम

बीन का सुनहरा विषाणु (गोल्डन मोज़ाइक वायरस)

वाइरस

BGMV


संक्षेप में

  • गहरी पीली हरित हीन धारिओं से पत्ती का पहलू जालनुमा हो जाता है क्योंकि पीली नसें गहरे हरे ऊतकों की पृष्ठभूमि में दिखाई देती हैं.
  • बाद में हरित हीनता फैलकर चित्तीदार पैटर्न के साथ पीले के विभिन्न रंगों के साथ शेष पत्ती को भी ढक लेती है.
  • पत्ती विकृत, घुमावदार, कड़ी और चमड़े-जैसी हो सकती है.
  • फलियां फैल नहीं पाती हैं और नीचे की ओर मुड़ सकती हैं।.
 - सेम

सेम सेम

लक्षण

सर्वप्रथम लक्षण सामान्यतः त्रिपर्णक पत्तियों पर दिखाई देते हैं। नई उभरी हुई पत्तियों पर गहरी पीली हरित हीन धारियां दिखाई देती हैं। शिराओं की हरित हीनता और अधिक फैल जाती है और पत्ती का पहलू जाल नुमा हो जाता है, तथा पीली नसें गहरे हरे ऊतकों की पृष्ठभूमि में दिखाई देने लगती हैं। बाद में, हरित हीनता फैलने लगती है और चित्तीदार पैटर्न के साथ पीले के विभिन्न रंगों में शेष पत्ती पर फैल जाती है। लक्षण दिखाई देने के बाद उभरी पत्तियां विकृत, घुमावदार, कड़ी और चमड़े-जैसी हो जाती हैं। फलियों का विस्तार नहीं होता है और वे नीचे की ओर मुड़ जाती हैं। जो पौधे विकास की आरंभिक अवस्था में संक्रमित हो जाते हैं, उनमें अपेक्षाकृत कम फलियां लगती हैं, बीज उत्पादन कम होता है, और बीज की गुणवत्ता भी खराब होती है।

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!

प्रभावित फसलें

ट्रिगर

सफ़ेद मक्खी, बेमिसिया टेबासी, विषाणु के निरंतर संचारण के लिए ज़िम्मेदार होती है। खेत में काम करने के दौरान यांत्रिक चोटों के कारण भी पौधे संक्रमित हो सकते हैं। वायरस व्यवस्थित तरीके से एक पौधे से दूसरे पौधे तक नहीं फैलता है और न ही यह बीज या पराग जन्‍य होता है। फलियां आमतौर पर उस समय संक्रमित होती हैं जब खेत में अपने आप उगने वाले पौधे और परपोषी पौधे मौजूद होते हैं। विषाणु पौधों के संचरण ऊतकों में बढ़ते हैं जिससे यह स्पष्ट होता है कि नसें पहले क्यों प्रभावित होती हैं। दिखाई देने वाले लक्षणों और उनकी गंभीरता के लिए लगभग 28 डिग्री से. का उच्च तापमान अनुकूल होता है। अपेक्षाकृत ठंडी परिस्थतियों (लगभग 22 डिग्री सेल्सियस) से वायरस के बढ़ने और लक्षणों के विकसित होने में विलंब होता है।

जैविक नियंत्रण

इरेसाइन हर्बस्टी (हर्बस्‍ट का ब्लड लीफ़) और फ़ायटोलाका थायर्सिफ़्लोरा की पत्तियों के अर्क का प्रयोग आंशिक रूप से वायरस के संक्रमण को बाधित कर सकता है और उसके परिणाम स्वरूप खेत में इसकी उपस्थिति कम होती है। लाभकारी कवक, बीवेरिया बासि‍याना, में बेमिसिया टेबासी के वयस्कों, अंडों और शिशु कीटों के विरुद्ध प्रतिकूल कीटनाशक गुण होते हैं।

रासायनिक नियंत्रण

हमेशा उपलब्ध जैविक उपचार के साथ निवारक उपायों की एक एकीकृत पद्धति पर विचार करें। वायरल संक्रमण का रासायनिक नियंत्रण संभव नहीं है। सफ़ेद मक्खियों के नियंत्रण के लिए बहुत कम उपचार ही प्रभावी हैं।

निवारक उपाय

  • अपने बाज़ार में प्रतिरोधी किस्मों के बारे में पता करें.
  • खेतों और आसपास के क्षेत्र से खरपतवार और वैकल्पिक परपोषी पौधों को हटा दें.
  • मक्खी के छतरी (कैनोपी) में प्रवेश करने को रोकने के लिए खेत में पौधों की सघनता में वृद्धि करें.
  • सफ़ेद मक्खियों की आबादी घटाने के लिए पलवार (मल्च) का प्रयोग किया जा सकता है.
  • गैर-परपोषी फसलों के साथ चक्रीकरण करें।.

मोबाइल फसल चिकित्सक की सहायता से अपनी उपज बढ़ाएं!

इसे अभी निशुल्क प्राप्त करें!